ज़िम्बाब्वे और वेस्टइंडीज के बीच रोमांचक मैच का परिणाम रहा टाई

ज़िम्बाब्वे और वेस्टइंडीज के बीच बुलावायो में खेला गया ट्राई सीरीज का तीसरा मैच बेहद रोमांचक हुआ, जिसका परिणाम टाई रहा। ज़िम्बाब्वे ने पहले बल्लेबाजी की और निर्धारित 50 ओवरों में टीम 257 रन पर ऑलआउट हो गई। जवाब में वेस्टइंडीज की टीम निर्धारित 50 ओवरों में 8 विकेट खोकर 257 रन ही बना सकी। ज़िम्बाब्वे के कप्तान ग्रीम क्रेमर ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। मेजबान टीम ने सहज शुरुआत की, लेकिन स्कोर जैसे ही 38 रन पर पहुंचा चामू चिभाभा (25) को कार्लोस ब्रैथवेट और शाई हॉप ने शानदार अंदाज में रनआउट कर दिया। स्कोर में 8 रन का इजाफा हुआ था कि ब्रायन चारी (15) को ब्रैथवेट ने होल्डर के हाथों झिलवा दिया। इसके बाद क्रैग इरविन (92) और सिकंदर रजा (77) ने ज़िम्बाब्वे को मजबूती दिलाई। दोनों ने तीसरे विकेट के लिए 144 रन की साझेदारी की। वेस्टइंडीज के खिलाफ जिम्बाब्वे की यह सबसे बड़ी साझेदारी हो गई। कार्लोस ब्रैथवेट ने तभी रजा को क्रैग ब्रैथवेट के हाथों कैच आउट कराकर इस साझेदारी को तोड़ा। रजा ने 81 गेंदों में 7 चौको की मदद से 77 रन बनाए। इसके बाद ज़िम्बाब्वे की पारी अचानक लड़खड़ा गई। शॉन विलियम्स (2), एल्टन चिगुम्बुरा (8), पीटर मूर (6) जल्दी-जल्दी आउट हो गए। इरविन अपने शतक से 8 रन दूर थे, तभी उन्हें शेनन गेब्रियल ने पॉवेल के हाथों कैच आउट करा दिया। इरविन ने 100 गेंदों में 6 चौको की मदद से 92 रन बनाए। ज़िम्बाब्वे ने किसी तरह 257 रन का सम्मानजनक स्कोर बनाया। वेस्टइंडीज की तरफ से कार्लोस ब्रैथवेट ने सर्वाधिक चार विकेट लिए। शेनन गेब्रियल और कप्तान जेसन होल्डर ने दो-दो विकेट लिए। एश्ले नर्स ने एक विकेट लिया। लक्ष्य का पीछा करते हुए कैरेबियाई टीम एक समय शाई हॉप (101) और क्रैग ब्रैथवेट (78) की बदौलत 45 ओवरों में मात्र तीन विकेट खोकर 221 रन बना चुकी थी और उसे जीत के लिए अगली 30 गेंदों में 37 रन बनाने थे। 48वां ओवर लेकर आए शॉन विलियम्स ने ब्रैथवेट और रोवमैन पॉवेल (17) के विकेट चटकाकर वेस्टइंडीज से जीत छीन नहीं ली तो उन्हें अस्थिर जरूर कर दिया। कैरेबियाई टीम 48वें और 49वें ओवर में 10-10 रन जोड़ते हुए लक्ष्य के काफी करीब पहुंच गई। आखिरी ओवर में वेस्टइंडीज को जीत के लिए मात्र चार रन चाहिए थे और क्रीज पर कप्तान जेसन होल्डर और कार्लोस ब्रैथवेट मौजूद थे। आखिरी ओवर लेकर डोनाल्ड तिरिपानो आए। तिरिपानो की पहली गेंद पर होल्डर ने एक रन लिया, लेकिन अगली ही गेंद पर तिरिपानो ने कार्लोस ब्रैथवेट को विलियम्स के हाथों कैच आउट करा दिया और तीसरे गेंद पर एश्ले नर्स रन आउट हो गए। चौथी गेंद पर होल्डर ने और पांचवीं गेंद पर जोनाथन कार्टर ने एक-एक रन लेकर लक्ष्य की बराबरी कर ली। अब वेस्टइंडीज को आखिरी गेंद पर जीत के लिए एक रन चाहिए था, लेकिन ऑफ स्टंप से दूर रही इस गेंद पर होल्डर शॉट नहीं खेल सके और गेंद सीधा विकेटकीपर के हाथ में गई। दूसरे छोर से रन के लिए दौड़ लगा चुके कार्टर को रन आउट करने में विकेटकीपर को कोई परेशानी नहीं हुई। वेस्टइंडीज ने न सिर्फ शाई हॉप का शतक जाया किया बल्कि क्रैग ब्रैथवेट के साथ तीसरे विकेट के लिए निभाई उनकी 162 रनों की साझेदारी भी व्यर्थ गई। शाई हॉप को शानदार शतकीय पारी खेलने के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। हालांकि जिम्बाब्वे के लिए निश्चित तौर पर इस मैच के नायक दो विकेट चटकाने वाले तिरिपानो रहे, जिन्होंने आखिरी ओवर में सिर्फ तीन रन देकर जिम्बाब्वे को निश्चित हार से बचा लिया।