Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

Pro Kabaddi 2017, सीजन 5: छोटे शहरों के 5 खिलाड़ी जिन्होंने किस्मत के आगे कभी हार नहीं मानी

Modified 06 Jul 2017, 15:49 IST
Advertisement

मेहनत और लगन का फल एकदिन जरुर मिलता है इसलिए कभी मेहनत से पीछे नहीं हटना चाहिए। कुछ ऐसी ही लगन के साथ छोटे-छोटे गांव और शहरों से आने वाले खिलाड़ियों ने अपनी जीतोड़ मेहनत से प्रो कबड्डी में सबका दिल जीत लिया है। प्रो कबड्डी के इस पांचवें सीज़नकी उल्टी गिनती अब शुरु हो चुकी है और चारों तरफ कबड्डी का शोर है।

इस बार का सीज़न पहले से ज्यादा भव्य, पहले से ज्यादा बड़ा, पहले से ज्यादा जोश और जुनून से लबरेज होने वाला है क्योंकि इस बार प्रो कबड्डी लीग में शामिल होने जा रही हैं 4 नयी टीमें। 12 शहरों में एकदूसरे से पंगा लेने के लिए तैयार ये सारी टीमें कुल 130 मैच खेल कर इस सीज़न का खिताब अपने नाम करना चाहेंगी। प्रो कबड्डी की दिन प्रतिदिन बढ़ती लोकप्रियता ये बताने के लिए काफी है कि अब भारत में कबड्डी का जनून सिर चढ़ कर बोल रहा है। पिछले तीन सालों में कबड्डी क्रिकेट के बाद भारत में दूसरा सबसे ज्यादा देखा जाने वाला खेल है। सफलता की ऊंचाईयों की छूते हुए प्रो कबड्डी लीग ने ना सिर्फ खेल बल्कि खिलाड़ियों को भी बदल डाला है। कल तक जो खिलाड़ी बड़े-बड़े खिताब जीतने के बावजूद भी पहचान तलाश रहे थे। आज उनकी लोकप्रियता को एक नया आयाम मिला है। आज हम बात कर रहे हैं ऐसे ही कुछ खिलाड़ियों की जिनकी मेहनत और लगन को प्रो कबड्डी लीग ने एक नया मुकाम दिया है- सेल्वामणी के (जयपुर पिंक पैंथर) इस युवा खिलाड़ी को पिछले महीने हुई ऑक्शन की प्रक्रिया में अभिषेक बच्चन ने 73 लाख में अपनी टीम में शामिल किया है इसके पहले ये खिलाड़ी तमिलनाडू में अपनी क्लब की तरफ से खेल रहा था। इस खिलाड़ी ने अपने करियर में कई उतार चढ़ाव देखे। मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिप्लोमा के फाइनल ईयर में होने के बावजूद तमिलनाडू कबड्डी एशोसिएशन की तरफ से प्रोफेशनल ट्रेनिंग लेने की मांग की। सेलवामनी की ट्रेनिंग को सहायता देने के लिए उनके बड़े भाई ने अपनी पढ़ाई त्याग दी लेकिन आज जब उनका भाई प्रो कबड्डी लीग पर नई ऊंचाईयां छू रहा है तब उन्हें उस पर गर्व होगा। लेकिन इतनी ऊंचाईयों में पहुंचने के बाद भी सेलवामनी में कोई बदलाव नहीं आया है। वह अभी भी साधारण से परिवार साधारण से लड़के हैं जो अपनी जीती हुई राशि से अपने परिवार के कर्जों को दूर कर रहे, अपने घर को बनवा रहे हैं और अपनी बहन की शादी की तैयारी कर रहे हैं। सेलवामनी के पिता दक्षिण मध्य रेलवे में क्लर्क के रूप में पोस्ट हैं।
1 / 5 NEXT
Published 06 Jul 2017, 15:49 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit