PKL 10 में Puneri Paltan vs Haryana Steelers फाइनल मैच टाई होने पर जानिए किस तरह निकलेगा नतीजा?

PKL 10
PKL 10 फाइनल मैच टाई होने की स्थिति में कैसे निकलेगा मैच का नतीजा?

PKL 10: पुनेरी पलटन (Puneri Paltan) और हरियाणा स्टीलर्स (Haryana Steelers) कुछ घंटों बाद प्रो कबड्डी (Pro Kabaddi 2023-24) के 10वें सीजन (PKL 10) का फाइनल मैच खेलने वाली हैं। यह ऐतिहासिक खिताबी मैच हैदराबाद में खेला जाने वाला है और हर किसी को इस महा-मुकाबले का बेसब्री से इंतजार है।

यह दोनों ही टीमें ऐसी हैं, जोकि आजतक PKL का खिताब नहीं जीत पाई है। पुनेरी पलटन ने लगातार दूसरी बार फाइनल तक का सफर तय किया है, तो दूसरी तरफ हरियाणा स्टीलर्स पहली बार फाइनल में पहुंचे हैं। पुणे और हरियाणा PKL 10 की ट्रॉफी जीतने के लिए पूरी जान लगाने वाली हैं और यह मुकाबला जबरदस्त रहने की उम्मीद है।

Pro Kabaddi 2023-24 के फाइनल में रोमांच की कोई कमी नहीं रहेगी और दोनों ही टीमें काफी ज्यादा मजबूत हैं। इसी वजह से 40 मिनट के बाद अगर यह मुकाबला टाई पर भी खत्म होता है, तो किसी को भी हैरानी नहीं होनी चाहिए। हालांकि, जैसे हमने आपको पहले भी बताया है कि PKL के प्लेऑफ मैच में नतीजा निकलना तय है। हम आपको बताने वाले हैं कि यह मैच टाई होने की स्थिति किस तरह मैच का नतीजा निकलेगा।

Puneri Paltan vs Haryana Steelers PKL 10 फाइनल मैच टाई होने की स्थिति में किस तरह निकलेगा मैच का नतीजा?

#) दोनों टीमों को 5-5 रेड करने का मौका मिलेगा।

#) दोनों ही टीमों को इस दौरान 7-7 खिलाड़ियों को खिलाना होगा।

#) मैच में पहली रेड करने वाली टीम को ही टाई ब्रेकर में पहली रेड करनी होगी।

#) टाई ब्रेकर में वॉक लाइन ही बोनस लाइन भी बन जाएगी।

#) टाई ब्रेकर में कोई भी खिलाड़ी आउट नहीं होगा और ना ही कोई रिवाइवल होगा, सिर्फ पॉइंट्स को ही गिना जाएगा।

#) टीमों को 5 रेड के लिए 5 अलग रेडर्स को भेजना होगा।

आपको बता दें कि PKL के 10वें सीजन के प्लेऑफ में अभी तक 4 मुकाबले खेले जा चुके हैं और इसमें से दो मुकाबलों का नतीजा आखिरी मिनट में निकला। हालांकि, कोई भी मैच टाई के जरिए समाप्त नहीं हुआ और फैंस के टाई ब्रेकर देखने को नहीं मिला। पिछले सीजन में जरूर यूपी योद्धाज और तमिल थलाइवाज के बीच एलिमिनेटर मैच टाई रहा था। देखना होगा कि पुणे और हरियाणा में से कौन सी टीम जीत दर्ज करने में कामयाब होती है।

Quick Links

Edited by मयंक मेहता