Create

"PKL में परदीप नरवाल अब पहले जैसे खिलाड़ी नहीं रहे हैं"- यूपी योद्धा के कोच से खास बातचीत, टीम की लगातार हार का कारण भी बताया

PKL 8 में परदीप नरवाल अभी तक छाप छोड़ने में कामयाब नहीं हुए (Photo : Pro Kabaddi League)
PKL 8 में परदीप नरवाल अभी तक छाप छोड़ने में कामयाब नहीं हुए (Photo : Pro Kabaddi League)

प्रो कबड्डी लीग (PKL 8) में एक हफ्ते पहले तक यूपी योद्धा काफी मजबूत स्थिति में नजर आ रही थी। हालांकि पिछला एक हफ्ता टीम के लिए काफी निराशाजनक साबित हुआ और उन्हें लगातार चार मैचों में हार का सामना करना पड़ा। इसी वजह से एक समय टॉप 6 की दावेदार नजर आ रही टीम इस समय अंक तालिका में आठवें स्थान पर हैं।

यूपी योद्धा ने PKL 8 में 16 मैच खेले हैं, जिसमें टीम ने 5 मैच जीते हैं और 8 मुकाबलों में उन्हें शिकस्त मिली है। उन्होंने तीन मैच इस बीच टाई भी खेले हैं। यूपी योद्धा की टीम में बड़े नामों की कमी नहीं है। उनके पास परदीप नरवाल, नितेश कुमार जैसे खिलाड़ी हैं। हालांकि पिछले कुछ मुकाबलों में रेडर्स और डिफेंडर्स की तरफ से निरंतरता की कमी देखने को मिल रही है।

अभी भी यूपी योद्धा प्लेऑफ की दावेदारी में शामिल हैं और उनके 6 मुकाबलें भी बचे हुए हैं। उनका अगला मुकाबला तेलुगु टाइटंस के खिलाफ 5 फरवरी को होने वाला है। इस मुकाबले से पहले टीम के मुख्य कोच जसवीर सिंह ने स्पोर्ट्सकीड़ा हिंदी से खास बातचीत की। उन्होंने इस बीच परदीप नरवाल की फॉर्म और टीम की हार के कारण के बारे में बताया।

#) PKL 8 में यूपी योद्धा लगातार चार मैच हारी है, इसके पीछे का मुख्य कारण आपको क्या लगता है?

-) हम जो 4 मैच हारे हैं वो सभी करीबी रहे थे। कुछ मैचों में डिफेंस की तरफ से गलतियां देखने को मिली और रेडर्स ने भी थोड़ा कम स्कोर किया। इसी वजह से हम मैच को जीतने में कामयाब नहीं हुए। बेंगलुरु बुल्स के खिलाफ हम अच्छा कर सकते थे, लेकिन उस मैच में रेडर्स ने काफी निराश किया। इसके अलावा पुनेरी पलटन के खिलाफ हमारा डिफेंस पूरी तरह से फ्लॉप हुआ।

#) यूपी योद्धा के डिफेंस में दोनों कवर का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा है। इसके बावजूद टीम डिफेंस में ज्यादा फेरबदल नहीं कर रही है?

-) हमने रेडर्स पर ज्यादा फोकस रखा और इसी वजह से लेफ्ट कॉर्नर हमारा कमजोर रह गया। राइट कॉर्नर आशु ने पिछले सीजन भी अच्छा किया था और इस सीजन भी अच्छा कर रहे हैं। हम उम्मीद कर रहे थे कि लेफ्ट कॉर्नर की कमी हमारे रेडर्स पूरी कर देंगे। टीम को मैच ज्यादातर रेडर्स ही जिताते हैं। शुभम एक NYP प्लेयर हैं और उन्होंने इतना भी खराब नहीं खेला है। परदीप नरवाल भी संघर्ष कर रहे हैं और इसी वजह से हमें ज्यादा दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

Kaptaan Nitesh Kumar ka ek aur safal High ✋ pradarshan 🔥1⃣-🔟 mein se kitne number denge aap unki iss Bengaluru Bulls ke khilaaf performance ko? 🤔#YoddhaHum #SaansRokSeenaThok #GMRGroup #VIVOProKabaddi #SuperhitPanga https://t.co/dVhZe0I1nt

#) क्या आपको लगता है कि अब समय आ गया है कि रेडिंग की ज्यादा जिम्मेदारी परदीप नरवाल के ऊपर डाली जाएं?

-) परदीप नरवाल के ऊपर हम अतिरिक्त जिम्मेदारी डाल रहे हैं। हालांकि यह सच्चाई है कि परदीप नरवाल दो साल पहले जो खिलाड़ी थे वो अब नहीं है। मौजूदा समय में वो संघर्ष कर रहे हैं और यह बात हम सभी को माननी होगी।

#) यूपी योद्धा ने पटना पाइरेट्स के खिलाफ परदीप नरवाल को काफी देर तक बाहर रखा, इसके पीछे का क्या कारण था और आने वाले मैचों में भी उनका इस्तेमाल इसी तरह होगा?

-) हमने प्लानिंग के मुताबिक ही परदीप नरवाल को स्टार्टिंग सेवन में मौका नहीं दिया। शुरुआत में परदीप नरवाल हमारे नंबर 1 रेडर थे, श्रीकांत नंबर 2 और सुरेंदर गिल नंबर 3 रेडर थे। हालांकि गिल काफी अच्छा कर रहे हैं और वो पॉइंट्स हासिल कर रहे हैं। परदीप नरवाल के प्रदर्शन में गिरावट देखने को मिली। तीनों रेडर हमारे अब एक समान हैं और डिफेंस में जो दिक्कत आ रही थी इसी वजह से हम दो रेडर्स के साथ खेलना चाहते थे। हम रेडिंग में लेफ्ट-राइट कॉम्बिनेशन के साथ जाना चाहते थे। हालांकि अगले मैच में परदीप नरवाल खेलते हुए दिखेंगे।

#) यूपी योद्धा लगातार रेडर्स में बदलाव कर रही है, इसके पीछे की क्या प्लानिंग है और क्या रेडिंग में भी बेंच स्ट्रेंथ की कमी है?

-) हम तीसरा रेडर ऐसा देख रहे हैं, जो डिफेंस में योगदान दे सकता है। इसी वजह से हमने अलग-अलग रेडर्स को मौका दिया। हालांकि वो उम्मीदों पर खरा नहीं उतरे हैं। हमें ऐसा खिलाड़ी चाहिए जो रेडिंग और डिफेंस दोनों में टीम के लिए पॉइंट्स हासिल कर सकते हैं और टीम को इससे मजबूती मिलेगी।

#) हरियाणा स्टीलर्स के खिलाफ मैच करीब गया था और अगर अंत में टीम जीत के लिए जाती तो क्या मोमेंटम आपकी तरफ आ सकता था?

-) इस मैच से पहले पूरी तरह से मोमेंटम हमारे पास था और हम लगातार मैच जीत रहे थे। हरियाणा स्टीलर्स के खिलाफ मैच से हमारी लय थोड़ी खराब हुई। हालांकि अंत में उनके 5 खिलाड़ी थे और परदीप नरवाल अगर रेड करके जल्दी आते तो हमें एक रेड और मिल जाती। उन्होंने 8-9 सेकेंड्स की रेड की और फिर विनय ने मैच की आखिरी रेड में बोनस लेकर अपनी टीम को जीत दिलाई। हालांकि परदीप नरवाल 4-5 सेकेंड में रेड करके आते, तो मैच की आखिरी रेड हम करते और फिर अपने हिसाब से हम खेल सकते थे।

#) तेलुगु टाइटंस के खिलाफ मैच के लिए क्या प्लानिंग रहेगी और स्टार्टिंग सेवन में कोई बदलाव देखने को मिल सकता है?

-) सभी टीमें बराबर की हैं और तेलुगु टाइटंस की टीम भी काफी अच्छी है। उनके पास अच्छे रेडर्स और डिफेंडर्स हैं। हमें अपना बेस्ट खेलना होगा और अगर हम जीतते हैं तो मोमेंटम मिलेगा। इससे हमें आने वाले मैचों में भी फायदा मिलेगा। हमारे अभी 6 मैच बचे हैं और जो टीम के लिए बेस्ट होगा हम वहीं करेंगे।

#) टीम लगातार पिछले कुछ मैचों से अच्छा नहीं कर पा रही है। ऐसी स्थिति में टीम का मनोबल बढ़ाने के लिए बतौर कोच आपकी जिम्मेदारी कितनी अहम है?

-) खिलाड़ियों के कॉन्फिडेंस में कमी आती है, लेकिन हमारी कोशिश रहती है कि उनके ऊपर ज्यादा दबाव न आएं। मैचों में गलतियां हो जाती है और इसी वजह स्पोर्ट्स मैनेजमेंट पूरी तरह से खिलाड़ियों को मोटिवेट करती है।

Quick Links

Edited by मयंक मेहता
Be the first one to comment