COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit

प्रो कबड्डी लीग का छठा सीजन होगा बेहद खास, दिग्गज खिलाड़ियों पर होगी सबकी नजर

Piyush
CONTRIBUTOR
फ़ीचर
406   //    07 Oct 2018, 15:50 IST

<p>

प्रो कबड्डी लीग के छठे सीजन की शुरुआत आज से चेन्नई में हो रही है। इससे पहले इस टूर्नामेंट का आयोजन 5 अक्टूबर से होना था। तीन महीने तक खेले जाने वाले इस टूर्नामेंट के पहले मुकाबले में घरेलू टीम तमिल थलाइवाज का मुकाबला मौजूदा चैम्पियन पटना पाइरेट्स से होगा। टूर्नामेंट मे कुल 12 टीमें खिताब हासिल करने के लिए एक-दूसरे से जोर-आजमाइश करती नजर आएगी। इस बार प्लेऑफ मैचों का आयोजन कोच्चि और मुंबई में किया जाएगा, वहीं फाइनल मुकाबला 5 जनवरी को मुंबई में होगा।

यूपी योद्धा की टीम इस बार अपने लेग के मैच लखनऊ की जगह नोएड़ा में खेलेंगे। प्रो कबड्डी लीग में पहली बार छह ऐसे खिलाड़ी उतरेंगे, जिन्हें एक करोड़ से अधिक में खरीदा गया है। मोनू गोयत इस लीग के सबसे महंगे खिलाड़ी है। उन्हें हरियाणा स्टीलर्स ने 1.51 करोड़ में खरीदा है। जहाँ एक और इन सभी खिलाड़ी पर बेहतर प्रर्दशन करने का दवाब होगा वहीं दूसरी तरफ और भी खिलाडी भी अपनी मौजूदगी से दर्शकों का मनोरंजन करने के लिए कोई कसर नही छोड़ना चाहेंगे। पिछले साल की विजेता पटना की टीम इस खिताब को तीन बार अपने नाम कर चुकी है। पटना के अलावा जयपुर और मुम्बई की टीम भी एक-एक बार इस ट्रॉफी को जीत चुकी है।

एशियन खेलों में भारत की कबड्डी टीम की हार को प्रो कबड्डी लीग का ही नतीज़ा माना जा रहा है क्योंकि 28 साल के एशियन गेम्स इतिहास में ये पहला मौका है, जब भारतीय कबड्डी टीम गोल्ड जीतने में असफल रही है। प्रो कबड्डी लीग के इस सीजन में भारत की राष्ट्रीय टीम से बाहर किए गए अनूप कुमार और नितिन तोमर के साथ कई खिलाड़ी एशियन खेलों में टीम में न चुने पर चयनकर्ताओं को अपने बढ़िया प्रर्दशन से करारा जवाब देना चाहेंगे। इस लीग की प्रबल दावेदार माने जाने वाली मौजूदा विजेता पटना पाइरेट्स की उम्मीद फिर से अपने सबसे बेहतरीन खिलाड़ी परदीप नारवाल पर टिकी होगी। 

प्रो कबड्डी लीग की टीमें इस साल अलग ही नजर आएंगी। इसकी वजह यह है कि ज्यादातर टीमों ने अपने खिलाड़ियों को रिटेन करने की जगह इस साल हुई नीलामी में नए खिलाड़ियों पर दांव लगाया। मई में हुई नीलामी से पहले लीग की 12 टीमों में से सिर्फ 9 टीमों ने 2 खिलाड़ियों को रिटेन किया था। तीन टीमों ने तो लगभग टीम ही बदल दी है। इनमें जयपुर पिंक पैंथर्स की टीम शामिल है, बाकी टीमों में भी काफी बदलाव हैं। इसमें कोई शक नही है कि प्रो कबड्ड़ी लीग की वजह से इस खेल की लोकप्रियता में काफ़ी इज़ाफा हुआ। लेकिन इस बार इस खेल को कितने नए दर्शकों को जोड़ पाते है यह भी देखना वाकई दिलचस्प होगा।

Topics you might be interested in:
Piyush
CONTRIBUTOR
Fetching more content...