कबड्डी

Pro Kabaddi 2018: तेलुगु टाइटन्स टीम की ताकत और कमजोरी पर एक नजर

आगामी सीजन में राहुल चौधरी, निलेश सालुंके और मोहसेन मग्सुद्लू से टीम का रेडिंग विभाग सबसे मजबूत दिखाई दे रहा है

प्रो कबड्डी लीग में सभी टीमों का सफ़र व प्रदर्शन शानदार रहा है। एक तरफ यू मुम्बा, जयपुर पिंक पैंथर्स और पटना पाइरेट्स ने ख़िताब को नाम किया है, तो दूसरी तरफ बेंगलुरु बुल्स, गुजरात फार्च्यूनजायन्ट्स ने ख़िताब के बेहद करीब का सफ़र तय किया है। इन सबसे हटकर अगर किसी टीम का प्रदर्शन सीजन दर सीजन उतार चढ़ाव वाला रहा है, तो वह तेलुगु टाइटन्स टीम का रहा है। तेलुगु टीम ने प्रो कबड्डी लीग की शुरुआत ही औसत टीम के रूप मे की थी। उसके बाद सीजन 2 में सेमीफाइनल सीजन 3 में फिर से निराशाजनक प्रदर्शन और सीजन 4 में एक बार ख़िताब के करीब जाकर मौका गवां दिया। सीजन 5 में भी टीम अपने जोन में भी पिछड़ी साबित हुई। तेलुगु टीम के पास राहुल चौधरी जैसे सुपरस्टार खिलाड़ी होने के बावजूद टीम का प्रदर्शन उम्मीदों के मुताबिक नहीं रह पाया है।

आगामी सीजन के लिए तेलुगु टीम ने अपनी ताकत को बढ़ाते हुए नए खिलाड़ी शामिल किये हैं। इस बार टीम का लक्ष्य ख़िताब को अपने नाम करने पर होगा, जिसकी शुरुआत टीम हर बार की तरह राहुल चौधरी के बेहतरीन प्रदर्शन से देखना चाहेगी। सीजन 6 के लिए तेलुगु टीम की ताकत और कमजोरी का आंकलन करते हुए टीम के पास बहुत से मौके रहने वाले हैं, जब टीम ख़िताब की दावेदारी पेश कर सकती है और पिछले सीजन से जिन खिलाड़ियों का साथ छूटा उनकी भी चर्चाएँ हम निम्नलिखित कर हुए नजर आयेंगे।

टीम की ताकत

हर एक सीजन की तरह टीम की ताकत 5 स्टार रेडर राहुल चौधरी होंगे और उनका साथ निलेश सालुंके तो देते नजर आयेंगे साथ ही ईरान के दमदार खिलाड़ी मोहसेन मग्सुद्लू व अबोजार मिघानी भी टीम की ताकत बनकर विपक्षी टीम को चित करेंगे। राहुल चौधरी, मोहसेन मग्सुद्लू और निलेश सालुंके की तिगड़ी रेडिंग में कमाल दिखाएगी, तो अबोजार मिघानी के ऊपर डिफेंस का दरामोदार होगा। इन चारों खिलाड़ियों का लगातार अच्छा प्रदर्शन करना ही टीम की सबसे बड़ी ताकत होगी।

टीम की कमजोरी

तेलुगु टीम की ताकत उनके रेडिंग विभाग में नजर आती है लेकिन बात अगर डिफेंस की जाय तो वहां भी मामला ठीक ही नजर आता हैं। क्योंकि अबोजार मिघानी की अकेले की मौजूदगी विपक्षी टीम के लिए काफी हैं लेकिन अकेले होने के कारण डिफेंस का पूरा भार उन्ही पर रहेगा इसलिए डिफेंस में भी कही न कही टीम को अन्य अनुभवी खिलाड़ी की कमी खलेगी। इसके आलावा ऑलराउंडर के रूप में टीम के पास युवा विशाल भरद्वाज ही हैं, जिन्होंने पिछले साल शानदार प्रदर्शन किया था। विशाल के आलावा महेंदर रेड्डी और अरमान भी अपना खेल दर्शाते हुए नजर आयेंगे, जिनपर टीम को उम्मीदें कम ही होंगी। इसलिए डिफेंस और ऑलराउंड विभाग में तेलुगु टीम का पलड़ा निचे ही नजर आता है।

विजेता बनने का बेहतरीन मौका

राहुल चौधरी, निलेश सालुंके, विशाल भरद्वाज, मोहसेन मग्सुद्लू व अबोजार मिघानी जैसे सुपरस्टार खिलाड़ी होने पर इस बार तेलुगु टीम के पास मौका होगा कि वह खिताब अपने नाम करें। पिछले पाँचों सीजन से तेलुगु टीम केवल राहुल चौधरी के प्रदर्शन पर निर्भर रही है लेकिन इस बार रेडिंग, डिफेंस और ऑलराउंड विभाग में टीम के पास शानदार खिलाड़ी हैं, जो टीम को चैम्पियन बना सकते हैं। इन खिलाड़ियों के अलावा राकेश सिंह, सोमबीर जैसे युवा खिलाड़ी भी टीम को विजेता बनाने की पूरी कोशिश करेंगे।

इन खिलाड़ियों की खलेगी कमी

भारतीय टीम के दिग्गज खिलाड़ी रहे राकेश कुमार, दमदार डिफेंडर रोहित राणा और युवा खिलाड़ी विकास ने पिछले वर्ष तेलुगु टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन किया था। आगामी सीजन में इन खिलाड़ियों की कमी टीम को बखूबी खल सकती है लेकिन इन खिलाड़ियों के स्थान पर तेलुगु टीम में कई अनुभवी और दिग्गज खिलाड़ी शामिल किये हैं, जो इन सभी उम्दा खिलाड़ियों की कमी को पूरा कर सकेंगे।

प्रो कबड्डी सीजन 6 के लिए तेलुगु टाइटन्स की टीम:



राहुल चौधरी, निलेश सालुंखे, मोहसेन मग्सुद्लू, कमल सिंह, रक्षित, अंकित बेनीवाल, आनंद, विशाल भारद्वाज, अबोज़ार मिघानी, फरहाद मिलागर्धन, राकेश सिंह कुमार, संकेत चवन, डी गोपू, सी मनोज कुमार, अनुज कुमार, दीपक, महेंदर रेड्डी, अरमान।