Create
Notifications

Pro Kabaddi Season-4: बंगाल लेग की बेहतरीन टीम

सोहैल आब्दी

स्टार स्पोर्ट्स प्रो कबड्डी का छठा लेग कोलकाता के नेताजी सुभाष चंद्र इंडोर स्टेडियम में ख़त्म हुआ। इस लेग में जो सबसे बड़ी बात निकल कर सामने आई वो ये कि मेजबान टीम कोलकाता ने यहां खेलते हुए कोई खास प्रदर्शन नहीं किया। इस लेग के खत्म होने तक, पटना पाइरेट्स, तेलुगू टाइटन्स, जयपुर पिंक पैन्थर्स पहले तीन पायदान पर रहीं। नेताजी सुभाष चंद्र इंडोर स्टेडियम मे जमा हुए दर्शकों ने इस लेग में कई उतार चढ़ाव वाले मैच का आनंद लिया। आइये कोलकाता लेग के 7 बेहतरीन खिलाड़ियों पर एक नज़र डालते हैं। राहुल चौधरी (तेलुगु टाइटन्स)-रेडर rahul तेलुगु टाइटन्स के कप्तान राहुल चौधरी ने बंगाल लेग में भी अपना बेहतरीन प्रदर्शन जारी रखा और अपने दम पर टीम को इस लेग के खत्म होने तक दूसरे पायदान पर बनाए रखा। राहुल ने इस लेग में कुल 24 पॉइंट्स हासिल किए जिसमें से 22 रेड पॉइंट्स थे। बंगाल के साथ हुआ मुक़ाबला टाई रहा और राहुल उस मुक़ाबले में 8 रेड पॉइंट हासिल कर पाये। अपना अगला मुक़ाबला दबंग दिल्ली के खिलाफ खेलते हुए राहुल ने बेहतरीन प्रदर्शन दिखाया और टीम को 36-28 से जीत दिलाई। इस मैच में राहुल ने कुल 16 पॉइंट हासिल किए। जैंग कुन ली (बंगाल वॉरियर्स)-रेडर kun li कोलकाता फैंस के पसंदीदा खिलाड़ी कुन ली ने उन्हें अपने होम लेग में निराश नहीं किया और 4 मैच खेलते हुए 37 पॉइंट्स हासिल किए। अपने होम लेग का सफर उन्होंने एक बेहतरीन शुरुआत से किया और जयपुर के खिलाफ खेलते हुए 13 पॉइंट हासिल किए। पटना के खिलाफ ली का प्रदर्शन थोड़ा फीका रहा और उस मैच में वो मात्र 7 पॉइंट्स ही हासिल कर पाये। टाइटन्स के खिलाफ उन्होंने फिर से एक बार अच्छा प्रदर्शन किया और 13 पॉइंट्स हासिल किए पर बुल्स के खिलाफ उनका प्रदर्शन निराशाजनक रहा। आशीष कुमार (बेंगलुरु बुल्स)-ऑलराउंडर sheehs kumar अपने होम लेग में बेंगलुरु बुल्स ने चार में से चार मैच हार कर अपने फैंस को बेहद निराश किया और साथ ही साथ आशीष का भी प्रदर्शन निराशाजनक रहा। भले इस ऑलराउंडर खिलाड़ी ने कोर्ट के दोनों ओर अपना बेस्ट देने की कोशिश की पर टीम को जीत दिलाने में असमर्थ रहे। बंगाल के खिलाफ 4 रेड पॉइंट्स और 3 टैकल पॉइंट्स हासिल कर वो अपमि टीम को मेजबान के विरुद्ध जीत दिलाने में कामयाब रहे। संदीप नरवाल (तेलुगु टाइटन्स)-ऑलराउंडर sandeep narwal कोलकाता लेग में खेलते हुए पूर्व पटना पाइरेट्स के खिलाड़ी संदीप नरवाल ने एक बेहतरीन प्रदर्शन किया और अपनी टीम को जीत दिलाई। यहां खेले गए दो मैचों में संदीप ने 11 पॉइंट्स हासिल किए। बंगाल के खिलाफ हुआ मुक़ाबला तो टाई रहा पर उसमें संदीप ने 4 पॉइंट्स हासिल करके टीम को हार से बचाया। दबंग दिल्ली के खिलाफ संदीप ने फिर से बेहतरीन प्रदर्शन किया और इस बार रेड में 3 पॉइंट्स हासिल किए तो 4 तैयाकल पॉइंट भी अपने नाम किया। जसमेर सिंह गुलिया (तेलुगु टाइटन्स)-ऑलराउंडर jasmer कोलकाता लेग में तेलुगु टाइटन्स के एक और स्टार खिलाड़ी रहे जसमेर सिंह जिन्होंने अपने अनुभव का बेहतरीन नमूना पेश किया। दिल्ली के खिलाफ खेलते हुए जसमेर ने बेहतरीन खेल दिखाया और अपना सुपर 5 भी पूरा किया। पूर्व दबंग दिल्ली ऑलराउंडर ने इस बार टाइटन्स की तरफ से खेलते हुए अपनी पूर्व टीम को हार का मज़ा चखाया साथ ही साथ दबंग दिल्ली के बेहतरीन रेडर काशीलिंग अड़के और के सिलवामनी को भी काफी हद तक डिफेंस में परेशान किया। फज़ेल अत्राचली (पटना पाइरेट्स)-लेफ्ट कॉर्नर fazel सीज़न-4 के सबसे महंगे खिलाड़ियों में से एक रहे फज़ेल ने अपनी टीम के लिए बेहतरीन प्रदर्शन किया। अपने बेहतरीन प्रदर्शन के बदौलत उन्होंने ये साबित कर दिया कि क्यूँ मौजूदा चैम्पियन पटना ने उनपर इतना पैसा लगाया। यू मुम्बा के खिलाफ बेहतरीन डिफेंस करते हुए फज़ेल ने 3 टैकल पॉइंट्स हासिल किए पर बंगाल के विरुद्ध उनका प्रदर्शन लाजवाब रहा। मेजबान के विरुद्ध उन्होंने अकेले अपने दम पर टीम हो एकतरफा जीत कि ओर ले गए और विरोधी टीम के स्टार रेडर कुन ली को बार बार अपने टैकल का शिकार बनाते रहे। धर्मराज चेरालाथन (पटना पाइरेट्स)-लेफ्ट कॉर्नर dharmraj 42 वर्षीय चेरालाथन अपनी टीम के लिए एक बेहतरीन कप्तान साबित हुए हैं। सिर्फ ये ही नहीं बल्कि इस पूरे पीकेएल लीग के सबसे फुर्तीले खिलाड़ी का भी खिताब अगर किसी को दिया जाए तो वो चेरालाथन को ही मिलना चाहिए। इससे पहले तेलुगु टाइटन्स और बेंगलुरु बुल्स की तरफ से खेल रहे चेरालाथन, सीज़न 4 में पटना पाटन पाइरेट्स की कप्तानी का ज़िम्मा दिया गया। चेरालाथन ने यू मुम्बा के खिलाफ बेहतरीन प्रदर्शन किया और डिफेंस में 7 पॉइंट्स हासिल किए। बंगाल के खिलाफ भी उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया और फज़ेल के साथ मिलकर मेजबान को 33-27 से हारने में कामयाब हुए। शायद इसी वजह से उन्हें कोलकाता में एक बेहतरीन कप्तान का खिताब भी मिला।

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...