Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

प्रो कबड्डी 2019: सभी 12 टीमों में किस टीम की रेडिंग है सबसे ज़्यादा मजबूत

Neeraj P
ANALYST
फ़ीचर
Published Apr 22, 2019
Apr 22, 2019 IST

Enter captio

प्रो कबड्डी लीग का सातवां सीजन पिछले सीजनों से काफी बड़ा होने वाला है क्योंकि अब खेल को लेकर लोकप्रियता भी काफी हो चुकी है और इस सीजन काफी ज़्यादा पैसे भी खर्च किए गए हैं। इस सीजन की नीलामी में काफी चौंकाने वाली चीजें हुई जैसे कि अजय ठाकुर और राहुल चौधरी इस बार एक ही टीम के लिए खेलेंगे तो वहीं पिछले सीजन अपना प्रो कबड्डी डेब्यू करने वाले सिद्धार्थ देसाई इस सीजन के सबसे महंगे खिलाड़ी बने हैं।

इस सीजन नीलामी में टीमों ने पहले से ही यह तय कर लिया था कि उनकी टीमों को रेडिंग या फिर डिफेंस किस पर निर्भर रहना है। भले ही टीमों मे डिफेंडर्स का हिस्सा बढ़ रहा है, लेकिन इस बार भी लाइमलाइट रेडर्स ही ले गए हैं। प्रो कबड्डी का सातवां सीजन 18 जुलाई से शुरु होगा और टीमें सीजन के लिए सही कॉम्बिनेशन हासिल करने की कोशिश करेंगी। आइए एक नजर डालते हैं किस टीम के पास हैं सबसे मजबूत रेडर्स और सभी टीमों के रेडर्स की रैंकिंग करते हैं।

#12 यू मुंबा

Enter caption

रेंडिंग के लिए विकल्प: रोहित बलयान, अतुल एमएस, डोंग जियोन ली, अर्जुन देशवाल, अभिषेक सिंह, गौरव कुमार, विनोद कुमार, संदीप नरवाल।

मुंबा के पास रेडिंग में कोई बड़ा नाम नहीं है और न ही कोई ऐसा खिलाड़ी हैं जो हर मैच में 9-10 प्वाइंट हासिल करने की क्षमता रखता हो। टीम ने इस सीजन पूरी तरह से खुद के डिफेंस पर ध्यान दिया है और यही कारण है कि उनके पास इस सीजन सबसे कमजोर रेडिंग ऑप्शन है। मुंबा के लिए रोहित बलयान मुख्य रेडर होंगे, लेकिन उन्होंने किसी टीम के लिए लीड रेडर के तौर पर नहीं खेला है।

#11 गुजरात फॉर्च्यूनजॉयंट्स

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: सचिन तंवर, रोहित गुलिया, गुरविंदर सिंह, मोरो जीबी, अबोलफजल मघसूद्लू, अभिषेक, ललित चौधरी, सोनू।

गुजरात के पास सचिन तंवर के रूप में एक शानदार रेडर है जिसने पिछले सीजन 204 प्वाइंट हासिल किए थे। सचिन के अलावा टीम में कोई मुख्य रेडर नहीं है। मोरे जीबी सहायक रेडर की भूमिका में दिखाई देंगे तो वहीं मघसूद्लू और गुरविंदर समय पड़ने पर टीम के काम आ सकते हैं। गुजरात एक बार फिर अपने डिफेंस के बल पर खेलेगी।

1 / 6 NEXT
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...