Create

प्रो कबड्डी 2019: सभी 12 टीमों में किस टीम की रेडिंग है सबसे ज़्यादा मजबूत

Enter captio

प्रो कबड्डी लीग का सातवां सीजन पिछले सीजनों से काफी बड़ा होने वाला है क्योंकि अब खेल को लेकर लोकप्रियता भी काफी हो चुकी है और इस सीजन काफी ज़्यादा पैसे भी खर्च किए गए हैं। इस सीजन की नीलामी में काफी चौंकाने वाली चीजें हुई जैसे कि अजय ठाकुर और राहुल चौधरी इस बार एक ही टीम के लिए खेलेंगे तो वहीं पिछले सीजन अपना प्रो कबड्डी डेब्यू करने वाले सिद्धार्थ देसाई इस सीजन के सबसे महंगे खिलाड़ी बने हैं।

इस सीजन नीलामी में टीमों ने पहले से ही यह तय कर लिया था कि उनकी टीमों को रेडिंग या फिर डिफेंस किस पर निर्भर रहना है। भले ही टीमों मे डिफेंडर्स का हिस्सा बढ़ रहा है, लेकिन इस बार भी लाइमलाइट रेडर्स ही ले गए हैं। प्रो कबड्डी का सातवां सीजन 18 जुलाई से शुरु होगा और टीमें सीजन के लिए सही कॉम्बिनेशन हासिल करने की कोशिश करेंगी। आइए एक नजर डालते हैं किस टीम के पास हैं सबसे मजबूत रेडर्स और सभी टीमों के रेडर्स की रैंकिंग करते हैं।

#12 यू मुंबा

Enter caption

रेंडिंग के लिए विकल्प: रोहित बलयान, अतुल एमएस, डोंग जियोन ली, अर्जुन देशवाल, अभिषेक सिंह, गौरव कुमार, विनोद कुमार, संदीप नरवाल।

मुंबा के पास रेडिंग में कोई बड़ा नाम नहीं है और न ही कोई ऐसा खिलाड़ी हैं जो हर मैच में 9-10 प्वाइंट हासिल करने की क्षमता रखता हो। टीम ने इस सीजन पूरी तरह से खुद के डिफेंस पर ध्यान दिया है और यही कारण है कि उनके पास इस सीजन सबसे कमजोर रेडिंग ऑप्शन है। मुंबा के लिए रोहित बलयान मुख्य रेडर होंगे, लेकिन उन्होंने किसी टीम के लिए लीड रेडर के तौर पर नहीं खेला है।

#11 गुजरात फॉर्च्यूनजॉयंट्स

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: सचिन तंवर, रोहित गुलिया, गुरविंदर सिंह, मोरो जीबी, अबोलफजल मघसूद्लू, अभिषेक, ललित चौधरी, सोनू।

गुजरात के पास सचिन तंवर के रूप में एक शानदार रेडर है जिसने पिछले सीजन 204 प्वाइंट हासिल किए थे। सचिन के अलावा टीम में कोई मुख्य रेडर नहीं है। मोरे जीबी सहायक रेडर की भूमिका में दिखाई देंगे तो वहीं मघसूद्लू और गुरविंदर समय पड़ने पर टीम के काम आ सकते हैं। गुजरात एक बार फिर अपने डिफेंस के बल पर खेलेगी।

#10 तेलुगु टाइटंस

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: सिद्धार्थ देसाई, कमल सिंह, अंकित बेनवाल, अमित कुमार, मूला सिवा, सूरज देसाई, रजनीश, राकेश गोउड़ा, अरमान।

टाइटंस ने लगातार छह साल बाद राहुल चौधरी को टीम से अलग करने का निर्णय लिया और उनकी जगह पिछले सीजन के स्टार रहे सिद्धार्थ देसाई को लेकर आए। हालांकि, टाइटंस के पास सिद्धार्थ के अलावा कोई बड़ा रेडर नहीं है और सिद्धार्थ को अकेले सब करना होगा। रजनीश और कमल सिंह को मौके दिए जा सकते हैं तो वहीं अरमान पर भी टीम काफी निर्भर रहेगी।

#9 हरियाणा स्टीलर्स

Enter captio

रेडिंग ऑप्शन: विकास कंडोला, प्रशांत कुमार राय, सेल्वामनि, नवीन, विनय, अरुन कुमार, मोहम्मद मलेकी।

हरियाणा के पास कोई बड़ा नाम नहीं है और प्रशांत कुमार राय उनके इस सीजन के सबसे महंगे खिलाड़ी रहे हैं। विकास कंडोला के साथ मिलकर प्रशांत अच्छी जोड़ी बना सकते हैं और टीम को सफलता दिला सकते हैं। भले ही टीम में बड़ा नाम नहीं है, लेकिन टीम के पास अच्छा परिणाम दिलाने वाले रेडर्स हैं।

#8 बंगाल वारियर्स

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: मनिंदर सिंह, भुवनेश्वर गौर, प्रपंजन, रविन्द्र रमेश कुमावत, सुकेश हेगड़े, राकेश नरवाल, मोहम्मद ताघी, मोहम्मद नबीबख्श।

बंगाल के पास कहने को तो बहुत रेडर्स हैं, लेकिन मनिंदर सिंह को छोड़कर कोई भी अपना प्रभाव नहीं छोड़ पाया है। इस सीजन टीम में आए प्रपंजन शानदार सहायक रेडर हैं और वह मनिंदर का काम आसान कर सकते हैं। भले ही टीम के पास कई रेडर्स है, लेकिन उन्हें 2-3 रेडर्स पर ही निर्भर रहना होगा।

#7 जयपुर पिंक पैंथर्स

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: दीपक निवास हूडा, नितिन रावल, दीपक नरवाल, निलेश सालुंखे, सुशील गुलिया, अजिंक्य पवार, लोकेश कौशिक, गुमन सिंह, डोंग किम।

जयपुर के पास बेहद शानदार रेडर्स हैं। दीपक हूडा टीम के मुख्य रेडर होंगे तो वहीं निलेश सालुंखे और दीपक नरवाल जैसे खिलाड़ी अपने अनुभव का फायदा लेते हुए दीपक की मदद करेंगे। कुल मिलाकर जयपुर के पास इतने अच्छे रेडर्स हैं कि वे समय आने पर टीम को जीत दिला सकते हैं।

#6 पुनेरी पलटन

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: नितिन तोमर, मंजीत, पवन कुमार कादियान, दर्शन कादियान, अमित कुमार, संदीप।

पुनेरी पलटन के पास इस सीजन भी रेडिंग समस्या बन सकती है। भले ही पेपर पर उनके पास काफी रेडर्स हैं, लेकिन उनकी रेडिंग नितिन तोमर के आस-पास ही घूमेगी। हालांकि, पिछले सीजन पटना पाइरेट्स के लिए खेलने वाले मंजीत को लाकर पलटन ने अच्छा काम किया है तो वहीं पवन और दर्शन कादयान को सब्सीच्यूट रेडर्स के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

#5 दबंग दिल्ली

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: मेराज शेख, चंद्रन रंजीत, नीरज नरवाल, विजय, अमन कादयान, नवीन कुमार, सुमित कुमार।

दबंग दिल्ली के पास 4-5 बेहतरीन रेडर्स हैं। अनुभवी मेराज शेख एक बार फिर दिल्ली के लिए रेडिंग की अगुवाई करेंगे और उनके पार्टनर के रूप में दिल्ली के पास चंद्रन रंजीत और युवा नवीन कुमार जैसे रेडर्स हैं जिन्होंने पिछले सीजन 150 से ज़्याा प्वाइंट हासिल किए थे। इसके अलावा पूर्व पटना पाइरेट्स ऑलराउंडर विजय भी इस बार दिल्ली के लिए खेलेंगे।

#4 बेंगलुरु बुल्स

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: रोहित कुमार, पवन कुमार सहरावत, लाल मोहर यादव, विनोद कुमार, सुमित सिंह, संजय श्रेष्ठ।

पिछले सीजन बेंगलुरु को खिताब दिलाने में पवन सहरावत की भूमिका सबसे अहम थी जो पिछले सीजन सबसे ज़्यादा प्वाइंट हासिल करने वाले रेडर रहे थे। रोहित कुमार भी शानदार रेडर हैं, लेकिन इनमें से किसी एक के चोटिल होने पर टीम को दिक्कत हो सकती है क्योंकि उनके पास अन्य कोई बड़ा नाम नहीं है।

#3 पटना पाइरेट्स

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: परदीप नरवाल, जैंग कुन ली, मोहम्मद मघसूद्लू, आशीष, मोहित, नवीन, विकास जगलान।

पटना के पास परदीप नरवाल जैसा शानदार रेडर है जो लगातार टीम के लिए 9-10 अंक लाने की क्षमता रखता है। पिछले सीजन अकेले पड़ जाने वाल परदीप को इस सीजन जैंग कुन ली के रूप में बढ़िया साथी मिला है। मोहम्मद मघसूद्लू और विकास जगलान भी सहायक रेडर की भूमिका में अच्छा काम कर सकते हैं।

#2 तमिल थलाइवाज

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: अजय ठाकुर, राहुल चौधरी, शब्बीर बापू, विनीत शर्मा, यशवंत बिश्नोई, अजीत कुमार, आनंद, मंजीत छिल्लर।

पिछले सीजन अजय ठाकुर ने अकेले तमिल थलाइवाज के लिए शानदार प्रदर्शन किया था और उन्हें एक अच्छे पार्टनर की जरूरत थी। थलाइवाज ने राहुल चौधरी को साइन करके ठाकुर को शानदार पार्टनर दिया है। इसके अलावा टीम में शब्बीर बापू जैसा अनुभवी खिलाड़ी है तो वहीं मंजीत छिल्लर जैसा दिग्गज भी है जो समय पड़ने पर टीम के लिए रेड कर सकता है।

#1 यूपी योद्धा

Enter caption

रेडिंग ऑप्शन: मोनू गोयत, रिशांक देवाडिगा, श्रीकांत जाधव, नरेंदर, गुलवीर सिंह, सुरेंदर सिंह, अंकुश, आजाद सिंह, मोहम्मद मसूद करीम।

यूपी योद्धा को पहले नंबर पर देखकर बहुत से लोग चौंक सकते हैं, लेकिन उनका रेडिंग विभाग देखने के बाद आपको समझ आएगा कि वे पहले नंबर क्यों हैं। रिशांक देवाडिगा, श्रीकांत जाधव और मोनू गोयत जैसे शानदार लीड रेडर्स एक ही टीम में खेलेंगे तो यूपी किसी एक खिलाड़ी पर निर्भर नहीं रहेगी। उनके पास ईरान के ऑलराउंडर मोहसेन मघसूद्लू भी हैं जो समय पड़ने पर अच्छी रेड कर सकते हैं। टीम में कुछ युवा रेडर्स भी हैं जो मौका मिलने पर खुद को साबित करना चाहेंगे।

Quick Links

Edited by मयंक मेहता
Be the first one to comment