Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

3 भारतीय एथलीट जिनके हाथ से 2012 लंदन ओलंपिक में पदक फिसल गया

विजेन्दर सिंह (Vijender Singh)
विजेन्दर सिंह (Vijender Singh)
Irshad
ANALYST
Modified 30 Jan 2021
फ़ीचर
Advertisement

भारतीय ओलंपिक इतिहास में सबसे ज़्यादा पदक के लिहाज़ से लंदन 2012 ओलंपिक सर्वश्रेष्ठ रहा है। इस ओलंपिक में भारत की ओर से कुल 83 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था, और देश की झोली में 6 पदक दिलाए थे। इस भारतीय दल में 60 पुरुष और 23 महिलाएं थीं। लेकिन ये आंकड़ा और भी शानदार हो सकता था, क्योंकि कई ऐसे भारतीय खिलाड़ी थे जो पदक के बेहद क़रीब आकर चूक गए।

वे भारतीय खिलाड़ी जो लंदन 2012 में पदक जीतने से चूक गए:

#1 जॉयदीप कर्माकर

जॉयदीप कर्माकर (Joydeep Karmakar)
जॉयदीप कर्माकर (Joydeep Karmakar)

जॉयदीप कर्माकर (Joydeep Karmakar), जो अपने पदक विजेता साथी गगन नारंग और विजय कुमार के साथ ही पदकों की तिकड़ी लगा सकते थे। लेकिन 50 मीटर राइफ़ल प्रोन इवेंट में वह चौथे स्थान पर रहे थे, और इस तरह से अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित इस शूटर के हाथों से कांस्य पदक आते आते फिसल गया।

#2 अमित कुमार

अमित कुमार (Amit Kumar) 
अमित कुमार (Amit Kumar) 

इनके बाद रेसलिंग में 19 वर्षीय भारतीय पहलवान अमित कुमार (Amit Kumar) भी क्वार्टर फ़ाइनल में जगह बना चुके थे, लेकिन टाईब्रेकर में उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

#3 विजेन्दर सिंह

विजेन्दर सिंह (Vijender Singh) दाएं
विजेन्दर सिंह (Vijender Singh) दाएं
Advertisement

भारतीय दिग्गज मुक्केबाज़ विजेंदर सिंह भी अपने लगातार दूसरे पदक के बेहद क़रीब आकर चूक गए, बीजिंग 2008 में कांस्य पदक जीतने वाले विजेंदर ने लंदन 2012 का आग़ाज़ बेहतरीन अंदाज़ में किया था और आसानी के साथ क्वार्टर फ़ाइनल तक पहुंच गए थे, यानी बस एक और जीत उन्हें लगातार दूसरा पदक दिला देती। लेकिन क़िस्मत को कुछ और मंजूर था, क्वार्टर फ़ाइनल बाउट में उज़बेकिस्तान के मुक्केबाज़ अब्बोस अतोएव (Abbos Atoev) के हाथों मिली हार ने भारतीय दिग्गज को इस बार पदक से महरूम कर दिया।

हालांकि इस फ़ेहरिस्त में कई और ऐसे नाम शामिल किए जा सकते थे, जिनसे पदक की काफ़ी उम्मीदें थीं। लेकिन हमने सिर्फ़ उन भारतीय खिलाड़ियों को इस सूची में शामिल किया है जो पदक के क़रीब आकर चूक गए।

उम्मीद है कि इस साल होने वाले टोक्यो ओलंपिक में तस्वीर कुछ अलग होगी और इस बार इतने क़रीब से चूकने के बजाए भारत ज़्यादा से ज़्यादा पदकों के साथ एक नया इतिहास रचे।

 

Published 30 Jan 2021, 21:45 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now