Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

अपने भारतीय ओलंपियन को जानें: सानिया मिर्ज़ा (टेनिस) के बारे में 10 बातें

EXPERT COLUMNIST
Modified 11 Oct 2018, 13:33 IST
Advertisement
भारतीय टेनिस सनसनी सानिया मिर्ज़ा रिओ ओलंपिक्स में मिक्स्ड डबल्स और महिला डबल्स में भारत का प्रतिनिधित्व कर रही हैं। महिला डबल्स में सानिया फ़िलहाल वर्ल्ड नंबर वन हैं और महिला डबल्स में उनका साथ प्रार्थना थोम्बारे और मिक्स्ड डबल्स में उनके साथी रोहन बोपन्ना होंगे। आइये जानते हैं आज ही अपनी आत्मकथा का विमोचन करने वाली सानिया मिर्ज़ा से जुड़ी 10 बातों पर: #1 सानिया मिर्ज़ा का जन्म 15 नवम्बर, 1986 को मुंबई में हुआ था। उसके बाद हैदराबाद में उनका बचपन बीता। छः साल की उम्र में सानिया ने टेनिस खेलना शुरू किया था और उनके पिता इमरान मिर्ज़ा उनके पहले कोच थे जो पेशे से जर्नलिस्ट थे। #2 NSAR स्कूल से पढ़ाई करने वाली सानिया ने अपना ग्रेजुएशन सेंट मैरिज कॉलेज से किया। दिसम्बर 2008 में उन्हें MGR एजुकेशनल एंड रिसर्च इंस्टिट्यूट यूनिवर्सिटी, चेन्नई से डॉक्टर ऑफ़ लेटर्स की मानद उपाधि दी गई। रॉजर फेडरर और स्टेफी ग्राफ को वो अपना आदर्श मानती हैं। #3 ओपन एरा में खेलने वाली वो तीसरी भारतीय महिला खिलाड़ी बनीं और ग्रैंड स्लैम इवेंट में उन्होंने राउंड मैच जीता। इससे पहले 1998 ऑस्ट्रेलियन ओपन में निरुपमा वैद्यनाथन और 2004 यूएस ओपन में शिखा ओबेरॉय ने ग्रैंड स्लैम में हिस्सा लिया था। 2005 के ऑस्ट्रेलियन ओपन में सानिया ने तीसरे राउंड में पहुंचकर रिकॉर्ड बनाया था। #4
Advertisement
सानिया मिर्ज़ा तेलंगाना की ब्रैंड एम्बेसडर हैं। उन्होंने 2013 में युवा खिलाड़ियों के लिए एक टेनिस अकादमी की भी स्थापना की। उनकी इस अकादमी में कारा ब्लैक और मार्टिना नवरातिलोवा जैसी दिग्गज खिलाड़ी भी आकर युवाओं को टेनिस के बारे में बता चुकी हैं। #5 महिला सशक्तिकरण और समानता के लिए सानिया काफी तत्पर रहती हैं। दक्षिण एशिया में यूएन की महिला गुडविल एम्बेसडर, सानिया ने एशिया में महिलाओं के विकास में काफी योगदान दिया हैं।  वो यूएन की गुडविल एम्बेसडर बनने वाली पहली दक्षिण एशियाई महिला हैं। #6 जूनियर के तौर पर उन्होंने काफी शानदार प्रदर्शन करके सीनियर टेनिस में जगह बनाई थी। जूनियर के तौर पर उन्होंने दुनिया भर में 10 सिंगल्स और 13 डबल्स ख़िताब जीते। 2003 विंबलडन में उन्होंने अलिसा क्लेबानोवा के साथ मिलकर लड़कियों का डबल्स ख़िताब जीता था। #7 युवा के तौर पर ही उन्होंने तीन लगातार साल में काफी प्रतिष्ठित अवॉर्ड अपने नाम किये। 2004 में उन्हें भारत सरकार की तरफ से टेनिस में योगदान के लिए अर्जुन अवॉर्ड दिया गया था। 2005 में उन्हें WTA न्यूकमर ऑफ़ द इयर का अवॉर्ड मिला। 2006 में उन्हें अंतर्राष्ट्रीय टेनिस में बेहतरीन योगदान के लिए और भारतीय खेल में अहम योगदान के लिए भारत सरकार ने पद्म श्री से सम्मानित किया। #8 मार्टिना हिंगिस के साथ मिलकर महिला डबल्स में उन्होंने पिछले एक साल में काफी शानदार प्रदर्शन किया है और इसी कारण से वो महिला डबल्स की वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर 1 हैं। इतना ही नहीं, उन्होंने मिक्स्ड डबल्स में भी महेश भूपति के साथ मिलकर 2009 में ऑस्ट्रेलियन ओपन और 2012 में फ्रेंच ओपन का ख़िताब जीता था। इसके अलावा ब्राज़ील के ब्रूनो सोर्स के साथ मिलकर उन्होंने 2014 में यूएस ओपन का भी ख़िताब जीता था। #9 12 अप्रैल, 2010 को उन्होंने पाकिस्तान के क्रिकेटर शोएब मलिक से शादी की। शादी में भारतीय और पाकिस्तानी दोनों पद्धति को अपनाया गया। उन्हें अपने पिता से 61 लाख रूपये मेहर के रूप में मिले थे। उन्होंने संन्यास के बाद अपने परिवार को बढ़ाने का फैसला लिया है ताकि अपना पूरा समय परिवार को दे सकें। #10 2010 में गूगल पर सबसे ज्यादा सर्च लोगों में सानिया का नाम शामिल था। युवाओं में वो काफी प्रसिद्द हैं और दुनिया भर में टेनिस खेलने के कारण उनकी प्रसिद्धि दिखती है। TIME के अक्टूबर 2005 के अंक में उन्हें '50 हीरोज ऑफ़ एशिया' की लिस्ट में शामिल किया था। इकनोमिक टाइम्स के मार्च 2010 के अंक में उन्हें '33 वीमेन हु मेड इंडिया प्राउड' की लिस्ट में भी शामिल किया गया था। Published 14 Jul 2016, 20:01 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit