Create

Tokyo Olympics - खुशी, विवाद और नीरज चोपड़ा  

Athletics - Olympics
Athletics - Olympics

टोक्यो ओलंपिक 2020 का समापान हो गया है। इस दौरान भारत के प्रदर्शन के बारे में बात करें तो खिलाड़ियों ने उम्मीद से बढ़कर प्रदर्शन किया है। ओलंपिक के इतिहास में हिंदुस्तान के खिलाड़ी सर्वश्रेष्ठ पदक जीतने में सफल हुए। इस दौरान एक और इतिहास रचा गया। वो इतिहास जिसकी कल्पना किसी ने नहीं की थी।

टोक्यो ओलंपिक में जैवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा स्वर्ण जीतने में कामयाब रहें। मिल्खा सिंह और पीटी उषा मेडल जीतने के करीब पहुंचकर मेडल नहीं जीत पाए।

नीरज चोपड़ा अब वो नाम बन चुके हैं। जिसके जैसा हिंदुस्तान का हर एक बच्चा बनना चाहता है। इस कल्पना की पानीपत के इस छोरे को नहीं थी। पूरे भारत नीरज के इस कीर्तिमान को सलाम कर रहा है। सोमवार जब एथलेटिक्स में भारत के पहले स्वर्ण पदक विजेता आए तो उनका स्वगात किसी वीवीआईपी से कम तरह से नहीं हुआ। इन दिनों हर एक ब्रांड या तो नीरज के साथ करार करना चाहता है। या फिर न्यूज चैनल नीरज को अपने चैनल पर बोलाना चाहते हैं। हाल ही में खेल मंत्रालय दौरा आयोजित एक काय्रकम में नीरज ने अपने लंबे बाल को लेकर खेल मंत्री अनुराग ठाकुर से बात करते हुए कहते हैं कि उन्होंने टोक्यो ओलंपिक के लिए बाल छोटे करवा दिए थे। उनका कहना था। स्टाइलबाजी बाद में पहले खेल पर ध्यान। विश्व चैंपियन अंजु बॅाबी जॅार्ज भी नीरज के पदक जीतने पर भावुक दिखीं। अंजु कहते हैं कि खिलाड़ियों को इस तरह से सम्मान पहले कभी नहीं मिला। ये सिर्फ मेडल नहीं बल्कि यहीं से भारतीय खेल इतिहास की स्वर्णिम गाथा लिखी जा रही है।

एथलेटिक्स फेडरेशन आफ इंडिया ने 7 अगस्त को नेशनल जैवलिन डे मनाने की घोषणा कर दी है। नीरज की आव-भगत का सिलसिला अभी लंबा चलने वाला है। वहीं इस पदक के साथ नीरज विश्व रैंकिग में 14 अंक हासिल कर दूसरे स्थान पर काबिज हैं। हालाँकि भारत एक ऐसा देश है, जहां पर विवाद और खुशियां एक साथ चलती है।

अब आप बोलेंगे इस खुशी के महौल पर कैसा विवाद? दरअसल इस विवाद का जन्म देने का श्रेय काशीनाथ नायक को जाता है। काशीनाथ का कहना है कि नीरज उनके शिष्य हैं। हाल ही में खुद को नीरज का कोच बताने वाले इस शख्सियत को कर्नाटक सरकार के 10 लाख की इनान राशि से नवाजा है।

वहीं एथलेटिक्स फेडरेशन आफ इंडिया के कर्ता- धर्ता आदिल सुमेरीवाला का कहना है कि नीरज का प्रशिक्षण विदेशी कोच के देख रेख में हुआ है। उन्होंने काशीनाथ को जानने से इंकार कर दिया है। वहीं इस मुद्दे पर नीरज का कहना है कि वो अपने कोच से इस मुद्दे पर बाद में बात करेंगे।

Quick Links

Edited by निशांत द्रविड़
Be the first one to comment