आईपीएल के हर सीजन में आखिरी गेंद डालने वाले सभी गेंदबाज

आरपी सिंह
आरपी सिंह

इंडिन प्रीमियर लीग के अभी तक 12 सीजन खेले जा चुके हैं। कोरोना वायरस के कारण इस सीजन का आयोजन अभी तक नहीं हो पाया है। जिस तरह के हालात हैं, उसे देखते हुए अभी आईपीएल का आयोजन काफी मुश्किल हैं। वहीं अब तक के 12 सीजन की अगर बात करें तो मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स सबसे सफल टीमें रही हैं।

ये भी पढ़ें: IPL के 12 साल पूरे होने पर टूर्नामेंट की 12 प्रमुख घटनाओं पर एक नजर

मुंबई इंडियंस ने रिकॉर्ड 4 बार आईपीएल का खिताब जीता है। वहीं चेन्नई सुपर किंग्स ने 3 बार आईपीएल की ट्रॉफी जीती है। इसके अलावा कोलकाता नाइट राइडर्स ने भी 2 बार आईपीएल की ट्रॉफी पर कब्जा जमाया है। आईपीएल के अब तक के 12 सीजन में कई रोमांचक मुकाबले हमें देखने को मिले हैं। वहीं कई मैचों का नतीजा आखिरी गेंद पर भी निकला है। ऐसे में आइए जानते हैं कि आईपीएल के अब तक के 12 सीजन में आखिरी गेंद किन-किन खिलाड़ियों ने फेंकी है।

आईपीएल 2019, लसिथ मलिंगा- मुंबई इंडियंस

लसिथ मलिंगा
लसिथ मलिंगा

आईपीएल 2019 की आखिरी गेंद मुंबई इंडियंस के तेज गेंदबाज लसिथ मलिंगा ने फेंकी थी। मलिंगा ने आखिरी ओवर की आखिरी गेंद पर शार्दुल ठाकुर को आउट कर मुंबई इंडियंस को रिकॉर्ड चौथी बार आईपीएल का चैंपियन बना दिया था।

आईपीएल 2018, कार्लोस ब्रैथवेट- सनराइजर्स हैदराबाद

केन विलियम्सन और कार्लोस ब्रैथवेट
केन विलियम्सन और कार्लोस ब्रैथवेट

आईपीएल 2018 के सीजन की आखिरी गेंद सनराइजर्स हैदराबाद के ऑलराउंडर कार्लोस ब्रैथवेट ने डाली थी। सनराइजर्स हैदराबाद ने निर्धारित 20 ओवरों में 178 रनों का विशाल स्कोर बनाया था। लेकिन शेन वॉटसन ने नाबाद 117 रनों की नाबाद पारी खेलकर अपनी टीम को चैंपियन बना दिया था। आखिरी ओवर में सीएसके को जीत के लिए 2 रन चाहिए थे और ब्रैथवेट ने आखिरी ओवर में गेंदबाजी की थी।

आईपीएल 2017, मिचेल जॉनसन-मुंबई इंडियंस

मिचेल जॉनसन
मिचेल जॉनसन

इंडियन प्रीमियर लीग के 10वें सीजन की चैंपियन मुंबई इंडियंस थी और उस सीजन की आखिरी गेंद मिचेल जॉनसन ने डाली थी। पहले बल्लेबाजी करते हुुए मुंबई की टीम सिर्फ 129 रन ही बना सकी थी। मुंबई ने इस लक्ष्य को सफलता पूर्वक डिफेंड किया।

आखिरी 6 गेंद पर राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स को जीत के लिए 11 रन चाहिए थे। मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा ने आखिरी ओवर की जिम्मेदारी मिचेल जॉनसन को सौंपी। मनोज तिवारी ने पहली ही गेंद पर चौका जड़ दिया लेकिन अगली गेंद पर वो आउट हो गए। इसके बाद स्टीव स्मिथ भी पवेलियन लौट गए। इस तरह से जॉनसन ने 11 रनों को सफलतापूर्वक डिफेंड किया।

आईपीएल 2016, भुवनेश्वर कुमार-सनराइजर्स हैदराबाद

भुवनेश्वर कुमार
भुवनेश्वर कुमार

आईपीएल 2016 के फाइनल में सनराइजर्स ने पहले खेलते हुए 7 विकेट पर 208 रन बनाए थे और आरसीबी की टीम इस लक्ष्य तक नहीं पहुंच पाई थी। आखिरी ओवर में बेंगलुरु को जीत के लिए 18 रन चाहिए थे और भुवनेश्वर कुमार ने सिर्फ 9 रन देकर सनराइजर्स को पहली बार चैंपियन बना दिया था।

आईपीएल 2015, विनय कुमार-मुंबई इंडियंस

विनय कुमार
विनय कुमार

आईपीएल 2015 के फाइनल में मुंबई ने पहले खेलते हुए 202 रन बनाए। चेन्नई सुपर किंग्स की टीम ने इस लक्ष्य का पीछा करते हुए सिर्फ 137 रन तक 8 विकेट गंवा दिए और आखिर में 41 रन से मैच हार गई। आखिरी ओवर में जीत के लिए चेन्नई को 63 रन चाहिए थे और गेंदबाजी विनय कुमार ने की थी। वो उस सीजन आखिरी गेंद फेंकने वाले गेंदबाज थे।

आईपीएल 2014, परविंदर अवाना-किंग्स इलेवन पंजाब

परविंदर अवाना
परविंदर अवाना

आईपीएल 2014 का फाइनल केकेआर और पंजाब के बीच हुआ था। पंजाब ने 200 रनों का टार्गेट केकेआर के सामने रखा था और उन्होंने इसे हासिल कर लिया था। इस सीजन की आखिरी गेंद परविंदर अवाना ने डाली थी। पियूष चावला ने अवाना की गेंद पर चौका लगाकर केकेआर को चैंपियन बना दिया था।

आईपीएल 2013, किरोन पोलार्ड-मुंबई इंडियंस

किरोन पोलार्ड
किरोन पोलार्ड

आईपीएल 2013 का फाइनल मुंबई और चेन्नई के बीच हुआ था। रोहित शर्मा पहली बार टीम की कप्तानी कर रहे थे। मुंबई ने पहले खेलते हुए 148/9 का स्कोर बनाया और चेन्नई की टीम धोनी की जबरदस्त पारी के बावजूद मैच हार गई। आखिरी ओवर में जीत के लिए उन्हें 39 रन चाहिए थे। पोलार्ड ने आखिरी ओवर में गेंदबाजी की और लक्ष्य को डिफेंड किया। धोनी ने पहली दो गेंद पर बाउंड्री जरुर लगाया लेकिन पोलार्ड ने अगली 3 गेंदों पर एक भी रन नहीं दिया।

आईपीएल 2012, ड्वेन ब्रावो-चेन्नई सुपर किंग्स

ड्वेन ब्रावो
ड्वेन ब्रावो

आईपीएल 2012 में केकेआर ने पहली बार खिताब जीता था और ड्वेन ब्रावो ने उस सीजन की आखिरी गेंद फेंकी थी। फाइनल मुकाबले में केकेआर ने चेन्नई सुपर किंग्स को हराया था। सीएसके ने पहले खेलते हुए 3 विकेट पर 190 रन बनाए और केकेआर ने इस लक्ष्य को हासिल कर लिया था।

आखिरी ओवर में केकेआर को जीत के लिए 9 रन चाहिए थे और गेंद ड्वेन ब्रावो के हाथ में थी। लेकिन मनोज तिवारी ने तीसरी और चौथी गेंद पर लगातार बाउंड्री लगाकर अपनी टीम को आईपीएल चैंपियन बना दिया।

आईपीएल 2011, सुरेश रैना-चेन्नई सुपर किंग्स

सुरेश रैना
सुरेश रैना

आईपीएल 2011 में चेन्नई सुपर किंग्स ने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को हराकर खिताब जीता था और सुरेश रैना ने आखिरी गेंद डाली थी। आरसीबी को आखिरी ओवर में जीत के लिए 73 रन चाहिए थे, इसीलिए धोनी ने गेंदबाजी रैना को सौंप दी थी। रैना के उस ओवर में 2 छक्के जरुर लगे लेकिन टीम ने 58 रनों से मैच जीत लिया।

आईपीएल 2010, डग बोलिंजर- चेन्नई सुपर किंग्स

डग बोलिंजर
डग बोलिंजर

आईपीएल 2010 के फाइनल में चेन्नई ने मुंबई को हराकर खिताब जीता था और आखिरी गेंद उस सीजन के डग बोलिंजर ने फेंकी थी। चेन्नई ने 169 रनों का टार्गेट मुंबई के सामने रखा था। आखिरी ओवर में मुंबई को जीत के लिए 27 रन चाहिए थे और गेंद डग बोलिंजर के हाथों में थी। उन्होंने उस ओवर में सिर्फ 4 रन दिए और चेन्नई को पहली बार चैंपियन बना दिया।

आईपीएल 2009, आरपी सिंह-डेक्कन चार्जर्स हैदराबाद

आरपी सिंह
आरपी सिंह

आईपीएल के दूसरे सीजन की आखिरी गेंद आरपी सिंह ने फेंकी थी। आखिरी ओवर में आरपी सिंह को 15 रन डिफेंड करने थे और आरसीबी की टीम सिर्फ 8 ही रन बना पाई थी।

आईपीएल 2008, लक्ष्मीपति बालाजी-चेन्नई सुपर किंग्स

बालाजी
बालाजी

आईपीएल के पहले सीजन की आखिरी गेंद लक्ष्मीपति बालाजी ने फेंकी थी। चेन्नई ने पहले खेलते हुए 5 विकेट पर 163 रन बनाए। जवाब में राजस्थान रॉयल्स ने भी लक्ष्य का बखूबी पीछा किया और उन्हें आखिरी ओवर में जीत के लिए सिर्फ 8 रन की दरकार थी।

धोनी ने गेंदबाजी की जिम्मेदारी लक्ष्मीपति बालाजी के हाथ में सौंपी। सोहेल तनवीर और शेन वॉर्न ने पहली 5 गेंद पर 7 रन बनाए और आखिरी गेंद पर उन्हें सिर्फ 1 रन चाहिए थे। तनवीर ने मिड ऑन पर खेलकर 1 रन चुरा लिया और आईपीएल को उसका पहला चैंपियन मिल गया।

Quick Links

App download animated image Get the free App now