2 बड़ी गलतियां जो ब्रिस्बेन टेस्ट मैच के दूसरे दिन भारतीय टीम ने की

रोहित शर्मा
रोहित शर्मा

ब्रिस्बेन टेस्ट मैच में मेजबान ऑस्ट्रेलिया ने भारत के खिलाफ अपना शिकंजा कस लिया है। पहली पारी में 369 रन बनाने के बाद कंगारू टीम ने भारतीय टीम (Indian Cricket Team) के 62 रनों तक दो विकेट भी चटका दिए हैं। भारतीय टीम अभी ऑस्ट्रेलिया से 307 रन पीछे है और उनके आठ विकेट बचे हुए हैं।

ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में विशाल स्कोर बनाने के बाद गेंदबाजी में भी अच्छी शुरुआत की है। हालांकि इस दौरान भारतीय टीम ने भी कई गलतियां की जिसका फायदा कंगारु टीम को मिलe। भारत ने अभी तक बैटिंग और बॉलिंग दोनों में ही गलतियां की हैं और उसका खामियाजा उन्हें भुगतना पड़ा है।

ये भी पढ़ें: इसुरु उदाना ने वनडे और टी20 क्रिकेट के बेस्ट बल्लेबाज, गेंदबाज और ऑलराउंडर के नाम बताए

हम आपको इस आर्टिकल में बताएंगे कि भारतीय टीम ने खेल के दूसरे दिन क्या-क्या बड़ी गलतियां की।

1.अच्छी शुरुआत के बावजूद रोहित शर्मा का लापरवाही भरा शॉट खेलकर विकेट गंवाना

रोहित शर्मा
रोहित शर्मा

रोहित शर्मा ने हर बार की तरह ब्रिस्बेन टेस्ट मैच में भी काफी अच्छी शुरुआत की। उन्होंने कई बेहतरीन शॉट लगाए जो देखने में काफी खूबसूरत लग रहे थे। उनके शॉट्स देखकर सबको यही उम्मीद थी कि रोहित शर्मा एक लंबी पारी खेलेंगे।

रोहित शर्मा ने 74 गेंद पर छह चौके की मदद से 44 रनों की पारी खेली। जब लगा कि वो एक लंबी पारी खेलेंगे तभी उन्होंने एक बड़ी गलती कर दी। नाथन लियोन की गेंद पर बड़ा शॉट लगाने के चक्कर में उन्होंने अपना विकेट गंवा दिया। कह सकते हैं कि रोहित शर्मा ने खुद ही अपना विकेट गंवाया, क्योंकि उस समय किसी ऐसे शॉट की जरुरत नहीं थी।

उनके इस तरह के आउट होने के बाद सुनील गावस्कर समेत कई दिग्गजों ने नाराजगी व्यक्त की। कह सकते हैं कि रोहित शर्मा ने अपना विकेट इस तरह से गंवाकर काफी बड़ी गलती की और ये भारतीय टीम के लिए महंगा साबित हो सकता है। अगर वो क्रीज पर टिके होते तो लगातार रन बनते रहते और इससे ऑस्ट्रेलियाई टीम भी दबाव में रहती।

ये भी पढ़ें: पूर्व दिग्गज का बड़ा बयान, कुलदीप यादव को टी नटराजन और वॉशिंगटन सुंदर से पहले मौका मिलना चाहिए था

2.ऑस्ट्रेलिया के पुछल्ले बल्लेबाजों को रन बनाने देना

मिचेल स्टार्क
मिचेल स्टार्क

भारतीय टीम के लिए पिछले एक साल में ये सबसे बड़ी कमजोरी रही है। टीम प्रमुख बल्लेबाजों को तो आउट कर लेती है लेकिन पुछल्ले बल्लेबाजों के सामने फंस जाती है। ब्रिस्बेन टेस्ट मैच में भी ऐसा ही हुआ। एक समय कंगारू टीम ने 315 रन पर ही आठ विकेट गंवा दिए थे और यहां से उन्हें 330 रन तक सिमट जाना चाहिए था।

हालांकि भारतीय गेंदबाज निचले क्रम को जल्दी आउट नहीं कर पाए और ऑस्ट्रेलियाई टीम के आखिरी दो विकेट ने मिलकर 54 रन जोड़ दिए। ये रन आगे चलकर काफी महंगे साबित हो सकते हैं।

Quick Links

Edited by सावन गुप्ता