Create
Notifications

3 सबसे बड़ी साझेदारियां जो वनडे में आठवें विकेट के लिए भारत की तरफ से हुईं 

एमएस धोनी, भुवनेश्वर कुमार और दीपक चाहर
एमएस धोनी, भुवनेश्वर कुमार और दीपक चाहर
ANALYST

क्रिकेट में साझेदारियों का बहुत बड़ा महत्व होता है। हर टीम को एक बड़े स्कोर तक पहुंचने के लिए अहम साझेदारियों की जरूरत होती है जिसके बलबूते उनकी टीम स्कोरकार्ड में आगे बढ़ती है। एक बेहतरीन साझेदारी के लिए चाहिए होता है क्रीज पर मौजूद दो खिलाड़ियों के बीच बढ़िया तालमेल एवं संयोजन क्योंकि अक्सर ही हमने तालमेल की कमी होने के नाते बल्लेबाजों को रन आउट होते देखा है।

आठवें विकेट की साझेदारी बहुत कम याद रखी जाती है क्योंकि ज्यादातर ऐसी जोड़ी मैच में 10 या 20 रन ही बना पाती है। मगर कई बार हमने देखा कि आठवें विकेट के लिए एक बड़ी साझेदारी कर टीमों ने मैच का नक्शा ही मानो पलट दिया हो। आज हम भारत द्वारा वनडे में की गई आठवें विकेट के लिए ऐसे ही 3 सबसे बड़ी साझेदारियों के बारे में बात करेंगे।

3 सबसे बड़ी साझेदारियां जो वनडे में आठवें विकेट के लिए भारत की तरफ से हुईं

#3 (84) हरभजन सिंह और प्रवीण कुमार बनाम ऑस्ट्रेलिया, 2009

हरभजन सिंह और प्रवीण कुमार
हरभजन सिंह और प्रवीण कुमार

साल 2009 में खेले गए इस मुकाबले में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया और भारत के सामने 293 रनों का बड़ा लक्ष्य रखा। ऑस्ट्रेलिया के लिए कप्तान पोंटिंग ने सर्वाधिक 74 रनों की पारी खेली थी। लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम के लिए गंभीर को छोड़कर अन्य कोई बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल सका। गंभीर ने आउट होने से पहले 85 गेंदों में 68 रन की पारी खेली थी।

भारत ने 201 के स्कोर तक अपने सात विकेट खो दिए थे और ऑस्ट्रेलिया एक आसान जीत की तरफ अग्रसर दिख रहा था लेकिन यहां से प्रवीण कुमार और हरभजन सिंह की जोड़ी ने एक शानदार साझेदारी निभाई और मैच को अंत तक ले गए। दोनों ने आठवें विकेट के लिए 84 रन जोड़े। इस साझेदारी में प्रवीण कुमार ने 30 गेंदों में नाबाद 39 रन बनाए और हरभजन सिंह ने 27 गेंदों में 42 रनों का योगदान दिया था। हालांकि अंत में ऑस्ट्रेलिया ने मैच को 4 रन से जीतने में कामयाबी हासिल की थी।

1 / 2 NEXT
Edited by Prashant Kumar
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now