COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

3 भारतीय क्रिकेटर जिन्हें नंबर 4 स्लॉट पर अधिक अवसर दिए जाने चाहिए थे

Rahul Pandey
ANALYST
टॉप 5 / टॉप 10
19.33K   //    14 Mar 2019, 14:40 IST

Enter caption

विश्व कप अब कुछ ही दिन दूर है, और कुछ दिन पहले जहाँ ऐसा लग रहा था कि भारतीय टीम अपना अभियान शुरू करने को पूरी तरह से तैयार है, वहीं अचानक ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध मिली करारी हार के चलते, टीम की कुछ कमजोरियाँ उजागर हुई हैं, जिसने भारत को फिर से संकट की स्थिति में डाल दिया है।

2019 की शुरुआत से पहले, एमएस धोनी और भुवनेश्वर कुमार की फॉर्म एक बड़ी चिंता थी लेकिन यह जल्द सुलझ गयी। शिखर और रोहित का ओपनिंग कॉम्बिनेशन भी मोहाली में हाल ही में संपन्न चौथे वनडे में लय में आता दिखा। लेकिन एक स्लॉट जिसकी सबसे ज्यादा चर्चा होती रही है, वह अभी भी सवालों के घेरे में है। भारत को अभी भी उसके नंबर 4 स्लॉट का स्थायी समाधान नहीं मिला है। पिछले 11 मैचों में, भारत ने अंबाती रायडू पर अपना पूरा विश्वास दिखाया था। उन्होंने कुछ मौकों पर अच्छा प्रदर्शन किया लेकिन ज्यादातर मौकों पर वह बुरी तरह असफल रहे। इन 11 मैचों के दौरान उनके पास कम स्कोर की एक लड़ी है और टीम में उनकी जगह अब संदेह के घेरे में है।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक मैच में विराट कोहली ने खुद नंबर 4 पर बल्लेबाजी करने की कोशिश की, लेकिन अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके। अगर हम 2015 विश्व कप के बाद के आंकड़ों पर एक नज़र डालें तो ऐसे कुछ क्रिकेटर रहे हैं जिन्होंने नंबर 4 पर अच्छा प्रदर्शन किया था, लेकिन उनकी अनदेखी की गई थी और निश्चित रूप से इनमें से कुछ को अधिक अवसर मिलने चाहिए थे।


#3 दिनेश कार्तिक

दिनेश कार्तिक
दिनेश कार्तिक

दिनेश कार्तिक को घरेलू क्रिकेट में कुछ शानदार पारियों के बाद राष्ट्रीय टीम में मौका दिया गया था। उन्होंने चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के समय टीम में वापसी की थी और तब से वह टीम के साथ थे, लेकिन अंतिम एकादश में कम ही मौके मिले, हालाँकि उन्हें जो भी मौके मिले, उनमें कार्तिक ने कुछ शानदार पारियाँ खेली।

चाहे निदहास ट्रॉफी फाइनल हो या ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में फिनिशर की भूमिका, उन्होंने हमेशा चयनकर्ताओं को प्रभावित किया। इस बीच उन्हें कुछ मौके 4 नंबर पर भी मिले और इन 9 मैचों में उन्होंने 52.4 की औसत से 264 रन बनाए और 71.35 की स्ट्राइक रेट से रन बनाए।

इस प्रकार इन आंकड़ों को देख यह कहा जा सकता है कि तमिलनाडु के इस बल्लेबाज को और भी मौके मिलने चाहिए थे।

1 / 3 NEXT
Advertisement
Topics you might be interested in:
Rahul Pandey
ANALYST
Advertisement
Fetching more content...