Create
Notifications

3 क्रिकेट मुकाबले जिन्हें दर्शकों की हिंसा के कारण बीच में रद्द कर दिया गया

भारत-श्रीलंका, 1996 वर्ल्ड कप में ऐसा हुआ था
भारत-श्रीलंका, 1996 वर्ल्ड कप में ऐसा हुआ था
Naveen Sharma

क्रिकेट मैच में मनोरंजन के बीच दर्शकों के उत्पात की वजह से मैच निरस्त होना एक निराशाजनक बात मानी जा सकती है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भी कुछ मौकों पर ऐसा ही देखने को मिला है। दर्शक को खेल का अहम हिस्सा माना जाता है। अपनी टीम को चीयर करने के लिए भरा हुआ स्टेडियम देखने में और खिलाड़ियों की हौसला अफजाई के लिए अच्छा लगता है लेकिन कई बार इन दर्शकों की वजह से ही मैचों में बाधा भी आई है। घरेलू क्रिकेट में दर्शक कम होते हैं लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में दर्शकों की संख्या काफी होती है, जिन्हें मैनेज करने के लिए भारी सुरक्षा व्यवस्था करना आयोजक बोर्ड की जिम्मेदारी होती है।

कई बार आयोजक टीम के खराब प्रदर्शन या अन्य वजहों से दर्शकों को मैदान पर हिंसा करते हुए देखा गया है। इस तरह की हरकतों के बाद मैच को बीच में ही रोककर या तो निर्णय सुनाया गया या मैच को ही रद्द कर दिया गया। ऐसी स्थिति आयोजन करने वाले देश के लिए बेहद शर्मनाक होती है। जेंटलमैन गेम क्रिकेट को देखने के लिए भी जेंटलमैन और लेडीज आती हैं लेकिन कई बार उन्होंने अपना आप खोकर मैच में बाधा पहुंचाने के अलावा क्रिकेट बोर्ड और देश को भी शर्मसार किया है। ऐसे ही तीन मैचों की बात इस आर्टिकल में की गई है जहाँ दर्शकों की हिंसा के कारण मैच रोका गया या रद्द किया गया। तीनों घटनाएं भारत में ही हुई हैं।

यह भी पढ़ें:3 भारतीय कप्तान जिनका वनडे में सौ फीसदी मैच जीतने का रिकॉर्ड है

भारत vs वेस्टइंडीज, 1966/67

ईडन गार्डन्स, कोलकाता में फैन्स ने आग लगा दी थी
ईडन गार्डन्स, कोलकाता में फैन्स ने आग लगा दी थी

क्रिकेट में ऐसा पहली बार हुआ जब दर्शकों के कारण मैच रुका हो। कोलकाता के ईडन गार्डंस में मैच से पहले ग्राउंड स्टाफ ने ब्लैक में टिकट बेचे। इसके बाद क्षमता से ज्यादा दर्शक मैदान पर आ गए। पहले दिन उन्हें संभाल लिया गया। मैच के दूसरे दिन दर्शकों की भीड़ ने उत्पात मचाया और पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा। उस दिन खेल नहीं हुआ और दर्शक मैदान में पहुँच गए। अगले दिन रेस्ट रखा गया, इसके बाद वेस्टइंडीज की टीम खेलने के लिए राजी हुई और भारत को पारी से हार मिली।

भारत vs श्रीलंका, 1996

ईडन गार्डंस, कोलकाता में हिंसा के बाद श्रीलंका timविजयी घोषित हुई
ईडन गार्डंस, कोलकाता में हिंसा के बाद श्रीलंका टीम विजयी घोषित हुई

भारतीय क्रिकेट इतिहास में यह शर्मनाक था। वर्ल्ड कप सेमीफाइनल मैच में श्रीलंका को 251 रन पर आउट करने के बाद भारत ने बल्लेबाजीशुरू की। सचिन तेंदुलकर 65 रन पर आउट हुए। यहाँ से श्रींलका ने भारत के बल्लेबाजों को आउट करना शुरू किया।120 रन पर आठ विकेट गंवाने के बाद दर्शकों ने बोटल फेंकना शुरू कर दिया। स्टैंड्स पर आगजनी आदि घटनाएं हुई। इस स्थिति में मैच रोककर रद्द कर दिया गया और श्रीलंका की जीत का ऐलान कर दिया गया।

भारत vs वेस्टइंडीज, 2002

राजकोट स्टेडियम में जीत भारत की हुई लेकिन दर्शकों का बर्ताव अप्रिय rh
राजकोट स्टेडियम में जीत भारत की हुई लेकिन दर्शकों का बर्ताव अप्रिय रहा

राजकोट में भारतीय टीम तीसरा वनडे मैच खेल रही थी। इससे पहले जमशेदपुर में दूसरा वनडे हुआ था। वहां दर्शकों ने उत्पात मचाया था। विंडीज ने राजकोट में पांच विकेट पर 300 रन बनाए और भारत की टीम बल्लेबाजी कर रही थी। विंडीज खिलाड़ी रयान हिंड्स को किसी ने सीमा रेखा पर बोटल मारी। इसकी शिकायत अम्पायरों से की गई। कुछ देर बाद गांगुली को वेस्बर्ट ड्रैक्स ने आउट किया। उन्हें बोतल मारने के बाद फिर शिकायत हुई और मैच रद्द करने की घोषणा हुई। सभी दर्शक उत्पात मचाने लगे थे। भारत का स्कोर 200/1 था और डकवर्थ लुईस नियम से वेस्टइंडीज की 81 रन से हार हुई

Edited by Naveen Sharma

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...