Create
Notifications

3 कारणों से सूर्यकुमार यादव को इंग्लैंड दौरे के लिए शामिल नहीं किया जाना चाहिए था

सूर्यकुमार यादव
सूर्यकुमार यादव
ANALYST

लम्बे समय तक भारतीय टीम के लिए सीमित ओवरों के प्रारूप में डेब्यू करने वाले बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव इन दिनों बहुत ही बेहतरीन फॉर्म से गुजर रहे हैं। सूर्यकुमार ने इंग्लैंड के खिलाफ अपने टी20 करियर की धमाकेदार शुरुआत की थी और हाल ही में उन्हें श्रीलंका के खिलाफ अपने वनडे करियर की शुरुआत करने का मौका मिला। सूर्यकुमार लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं और वह बिना किसी दवाब के पहली ही गेंद से अपना स्वाभाविक खेल खेलने में कामयाब हो रहे हैं। हाल ही बीसीसीआई ने इस बात की जानकारी दी है कि सूर्यकुमार यादव को इंग्लैंड दौरे के लिए टेस्ट स्क्वॉड में शामिल कर लिया गया है। हालांकि वो अभी श्रीलंका में ही हैं लेकिन बहुत जल्द ही इंग्लैंड के लिए रवाना होंगे।

सूर्यकुमार ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर सफ़ेद गेंद की क्रिकेट में कामयाबी पायी है लेकिन उन्हें सीधे टेस्ट प्रारूप में इंग्लैंड दौरे पर चुना जाना कई सवाल खड़ा करता है। ऐसी खबरें थीं कि टीम प्रबंधन ने पहले शॉ को शामिल करने का अनुरोध किया था, जब शुभमन गिल को दौरे से बाहर हो गए थे। हालांकि, चयनकर्ताओं ने टीम मैनेजमेंट की इस मांग को ठुकरा दिया था और किसी को भी ना भेजने की बात कही थी लेकिन अवेश खान और वाशिंगटन सुंदर के चोटिल होने के कारण चयनकर्ताओं ने अब पृथ्वी शॉ और सूर्यकुमार यादव दोनों को इंग्लैंड भेजने का फैसला किया है।

शॉ पहले भी टेस्ट खेल चुके हैं लेकिन सूर्यकुमार को अभी अनुभव नहीं है। ऐसे में इस आर्टिकल में हम उन 3 कारणों का जिक्र करने जा रहे हैं, जिनकी वजह से सूर्यकुमार यादव को इंग्लैंड दौरे पर नहीं चुना जाना चाहिए था।

3 कारणों से सूर्यकुमार यादव को इंग्लैंड दौरे के लिए शामिल नहीं किया जाना चाहिए था

#3 लाल गेंद से अभ्यास की कमी

सूर्यकुमार यादव
सूर्यकुमार यादव

सूर्यकुमार एक बहुत ही प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं और उन्होंने घरेलू क्रिकेट में भी जबरदस्त प्रदर्शन किया है और इसी वजह से उन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर डेब्यू का मौका भी मिला है। हालांकि इस बल्लेबाज ने जो भी प्रदर्शन किया है, वो सीमित ओवरों की क्रिकेट में किया है और इंग्लैंड दौरे से पहले लाल गेंद से अभ्यास की कमी खल सकती है। इसके अलावा उन्हें इंग्लैंड पहुंचने के बाद एक भी अभ्यास मैच भी नहीं खेलने का मौका मिलेगा।

ऐसे में इस बल्लेबाज के लिए खुद को वहां की परिस्थितियों में ढालने में दिक्कत हो सकती है। ऐसे में चयनकर्ताओं को किसी ऐसे बल्लेबाज का चुनाव करना चाहिए था, जिसने हाल ही में लाल गेंद से क्रिकेट खेली हो।

1 / 2 NEXT
Edited by Prashant Kumar
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now