Create

3 चीजें जो रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को आगामी मेगा ऑक्शन के दौरान नहीं करनी चाहिए 

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को ऑक्शन में चतुराई दिखानी होगी
रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को ऑक्शन में चतुराई दिखानी होगी

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में अब तक रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) की टीम एक भी बार खिताब तक नहीं पहुंच सकी है। आरसीबी की टीम आईपीएल के इतिहास में पहले ही सीजन से खेल रही है। इस टीम में हर सीजन में एक से एक दिग्गज खिलाड़ी देखने को मिले हैं, लेकिन उन्हें अब तक बड़े नाम खिताब तक नहीं ले जा सके हैं। आरसीबी ने साल 2016 में जरूर फाइनल मैच में जगह बनायी थी, लेकिन तब भी वो टाइटल से दूर ही रह गए। इस बार आरसीबी की टीम को अच्छे प्रदर्शन की पूरी उम्मीद है, लेकिन इससे पहले फ्रेंचाइजी को मेगा ऑक्शन के दौरान एक अच्छी संतुलित टीम तैयार करनी होगी।

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने रिटेंशन में विराट कोहली, ग्लेन मैक्सवेल और मोहम्मद सिराज को रिटेन किया है। इन 3 नामों को रिटेन करने के बाद अब उन्हें ऑक्शन में पूरी योजना के साथ उतरना है।ऑक्शन में एक टीम के पास अधिकतम 90 करोड़ रुपये खर्च करने की छूट है। ऐसे में ऑक्शन के लिए आरसीबी की टीम के पास अब 57 करोड़ रुपये पर्स में मौजूद है। ऐसे में हम आपको इस आर्टिकल में बताते हैं 3 चीजें जो आरसीबी को ऑक्शन में नहीं करनी चाहिए।

3 चीजें जो रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को आगामी मेगा ऑक्शन के दौरान नहीं करनी चाहिए

#1 नए चेहरों पर ना खर्चें ज्यादा पैसा

आईपीएल का ऑक्शन आने वाला है, जिसे लेकर सभी फ्रेंचाइजी अपनी योजना बनाने में जुट गई हैं। ऑक्शन में आरसीबी की टीम भी खास रणनीति के साथ उतरने जा रही है। आरसीबी को यहां ऑक्शन में नए चेहरों पर बड़ा दांव लगाने से बचना होगा। अक्सर ही ऑक्शन में आरसीबी का मैनेजमेंट नए और अनजान से चेहरों पर खूब पैसा लगाते रहते हैं। जैसे कि उन्होंने साल 2017 में टायमल मिल्स को 12 करोड़ रुपये की रकम दे डाली थी। ऐसे में आरसीबी को देशी हों या विदेशी, नए और अनुभवहीन खिलाड़ियों की बोली में बड़ा पैसा लगाने की आदत से बचना होगा। जिससे उनकी रणनीति में ज्यादा दिक्कत ना हो।

#2 किसी खिलाड़ी पर ज्यादा ना खींचे रकम

आरसीबी को कप्तानी के विकल्प की तलाश होगी
आरसीबी को कप्तानी के विकल्प की तलाश होगी

आरसीबी का खेमा अपने लिए कप्तानी के लिए सही विकल्प की तलाश में है। क्योंकि पिछले ही सीजन के बाद विराट कोहली ने कप्तानी ना करने का फैसला ले लिया है। कप्तानी के लिए विकल्पों की बात करें तो उनके पास श्रेयस अय्यर और डेविड वॉर्नर जैसे खिलाड़ी हैं। लेकिन आरसीबी को ध्यान रखना होगा कि वो कप्तान बनाने की ओर देखते हुए किसी भी खिलाड़ी पर अपने पर्स से ज्यादा रकम ना खर्चें। इससे टीम के पर्स पर फर्क पड़ेगा, पर्स की राशि कम हुई तो अन्य खिलाड़ियों को खरीदने में दिक्कत का सामना करना पड़ेगा।

#3 फिर से बल्लेबाजी यूनिट को ना बनाएं भारी

आईपीएल की शुरुआत से ही आरसीबी की टीम में सबसे बड़ी खासियत ये रही है कि उन्होंने हमेशा ही बल्लेबाजी को काफी गहरा बनाया। हर बार ऑक्शन में वो बल्लेबाजों पर बड़ा दांव लगाते देखे जाते हैं। जिससे उनकी गेंदबाजी में वो कॉम्बिनेशन नहीं मिल पाता जो उन्हें मैच में फायदा पहुंचा सके। ऐसे में इस बार के ऑक्शन में आरसीबी को बल्लेबाजी के साथ ही गेंदबाजी के संतुलन पर ध्यान देना होगा। गेंदबाजी में विकल्प रहें तो टीम की राह आसान रहेगी। ऐसे में किसी तरह से ऑक्शन में आरसीबी को बल्लेबाजी की गहरायी के बारे में नहीं सोचना चाहिए।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment