COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

4 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने तीनों आईसीसी ख़िताब जीते हैं

टॉप 5 / टॉप 10
13.94K   //    Timeless

Enter caption

आईसीसी टूर्नामेंट क्रिकेट के खेल को नए आयाम प्रदान करती हैं। इन टूर्नामेंटों को लेकर खिलाड़ियों के साथ-साथ दर्शकों में भी ज़बरदस्त उत्साह देखने को मिलता है। आईसीसी हर दो / चार साल के अंतराल में इन टूर्नामेंटों को आयोजित करती है। इनमें आईसीसी विश्व कप, आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी और आईसीसी टी-20 विश्व कप शामिल हैं।

इन टूर्नामेंटों की शुरुआत सबसे पहले 1975 में खेले गए विश्व कप के साथ हुई थी। उसके बाद 1998 में चैंपियंस ट्रॉफी, और उसके बाद 2007 में टी-20 विश्व कप की शुरुआत हुई।

इन टूर्नामेंटों में से एक में भी जीतना किसी भी टीम के लिए गर्व की बात है। भारत, श्रीलंका, वेस्टइंडीज और पाकिस्तान ऐसे चार टीमें हैं जिन्होंने इन तीनों टूर्नामेंटों का ख़िताब जीता है। भारतीय टीम की बात करें तो इसमें कुछ चुनिंदा खिलाड़ी हैं जिन्होंने इन तीनों आईसीसी टूर्नामेंटों में जीत का स्वाद चखा है। 

तो आइए एक नजर डालते हैं इन 4 भारतीय खिलाड़ियों पर:

#4. हरभजन सिंह

Image result for harbhajan singh with world cup

हरभजन सिंह एक दशक से अधिक समय तक भारत के प्रमुख स्पिनर रहे हैं। वह 2007 में एमएस धोनी की कप्तानी में टी-20 विश्व कप जीतने वाली टीम का हिस्सा थे और इसके बाद 2011 में आईसीसी विश्व कप जीतने में भी उनकी बेहद अहम भूमिका रही थी। इसके अलावा उन्होंने 2002 में खेली गई आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में भी शिरकत की थी। सौरव गांगुली के नेतृत्व में भारत इस चैंपियंस ट्रॉफी में संयुक्त विजेता रहा था।

भज्जी ने 2002 में खेली गयी चैंपियंस ट्रॉफी में बढ़िया प्रदर्शन किया था। इस टूर्नामेंट में उन्होंने 5 मैचों में से 6 विकेट चटकाए थे जिसमें पहले फाइनल में 27 रन देकर 3 विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ी आँकड़ा रहा। 

इसके पांच साल बाद, हरभजन ने दक्षिण अफ्रीका में नए कप्तान एमएस धोनी के नेतृत्व में भारत को पहला और एकमात्र टी-20 विश्व कप जिताने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इस विश्व कप में उन्होंने 6 मैचों में 7 विकेट चटकाए थे। 2011 में भारत की मेज़बानी में हुए विश्व कप में भी हरभजन टीम इंडिया का हिस्सा थे और इस विश्व कप में उन्होंने 9 मैचों में 9 विकेट हासिल किये थे। 

हालांकि, इन तीनों टूर्नामेंटों में हरभजन का प्रदर्शन बहुत शानदार तो नहीं था लेकिन उन्होंने विपक्षी बल्लेबाज़ों पर लगातार दबाव बनाये रखा जिसकी वजह से वे कभी भी खुल कर नहीं खेल सके। नतीजतन, भारत को तीन आईसीसी ख़िताब जीतने का मौका मिला। 

1 / 4 NEXT
Advertisement
Topics you might be interested in:
Advertisement
Fetching more content...