Create

4 मौके जब भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ियों के बीच हुई जबरदस्त झड़प

भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ी कई आपस में झड़प कर चुके हैं
भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ी कई आपस में झड़प कर चुके हैं

23 अक्टूबर 2021 से टी20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup) में सुपर 12 के मुकाबले शुरू हो चुके हैं और भारत (Indian Cricket Team) का पहला मुकाबला 24 अक्टूबर को उनके चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान (Pakistan Cricket Team) के साथ होगा। भारत और पाकिस्तान के बीच जब-जब मुकाबला (Ind vs Pak) होता है तब तब चारों ओर गहमागहमी का माहौल रहता है। इन दोनों देशों के बीच प्रतिद्वंदिता से हम सभी वाकिफ हैं और यह दुश्मनी हमें क्रिकेट की फील्ड में भी बखूबी नजर आती है।

भारत और पाकिस्तान का वर्ल्ड कप में आज तक 12 बार आमना-सामना हुआ है, जिसमें से सात मुकाबले 50 ओवर के वर्ल्ड कप में और पांच मुकाबले T20 वर्ल्ड कप में हुए हैं और भारत ने हर बार पाकिस्तान को शिकस्त दी है। पाकिस्तान को अब तक भारत के खिलाफ वर्ल्ड कप में एक भी जीत नसीब नहीं हुई है। अक्सर ही इन दोनों देशों के बीच मैदान में या मैदान के बाहर विवादास्पद घटनाएं होती हैं। इस आर्टिकल में हम उन 4 मौकों का जिक्र करने जा रहे हैं, जब दोनों देशों के खिलाड़ियों के बीच झड़प देखने को मिली।

4 मौके जब भारत और पाकिस्तान के खिलाड़ियों के बीच हुई जबरदस्त झड़प

#1 किरण मोरे - जावेद मियांदाद (1992 विश्व कप)

जावेद मियांदाद ने मोरे को चिढ़ाने की कोशिश की थी
जावेद मियांदाद ने मोरे को चिढ़ाने की कोशिश की थी

कभी-कभी कुछ घटनाएं विवादास्पद तो होती है, मगर साथ ही साथ दर्शकों को लोटपोट भी कर देती हैं। ऐसी ही एक घटना 1992 के विश्व कप में हुई थी, जिसे दोनों ही देश के फैंस कभी नहीं भूल सकते। इस मुकाबले में भारत ने पहले बल्लेबाजी की और पाकिस्तान को 217 रनों का लक्ष्य दिया। पाकिस्तान ने दो विकेट जल्दी खो दिए लेकिन इसके बाद जावेद मियांदाद और आमिर सोहेल ने साझेदारी बनाकर स्कोर आगे बढ़ाया।

किरण मोरे विकेट के पीछे से लगातार अपील कर रहे थे और यह मियांदाद को पसंद नहीं आ रहा था। इस बीच मियांदाद ने एक शॉट लगाया और रन के लिए दौड़े। मोरे ने थ्रो के वापस आने पर बेल्स उड़ा दी और मियांदाद उन पर बुरी तरह भड़क गए और मेंढक की तरह जोर-जोर से उछलने लगे। यह दृश्य काफी हास्यास्पद लग रहा था।

#2 वेंकटेश प्रसाद – आमिर सोहेल (1996 विश्व कप)

यह काफी दिलचस्प झड़प थी
यह काफी दिलचस्प झड़प थी

यह झड़प 1996 के वर्ल्ड कप की है, जब भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान के सामने 288 रनों का लक्ष्य रखा था। लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान बढ़िया बल्लेबाजी कर रही थी और पारी के 15वें ओवर में आमिर सोहेल ने वेंकटेश प्रसाद की गेंद पर ऑफ साइड पर एक शानदार चौका जड़ा। इसके बाद उन्होंने वेंकटेश प्रसाद को बल्ले से इशारा किया कि वह उसी दिशा में एक चौका फिर से लगाएंगे।

वेंकटेश प्रसाद उस समय शांत थे और अगली ही गेंद पर उन्होंने आमिर सोहेल को बोल्ड मारा और फिर उन्हें पवेलियन लौट जाने का इशारा किया। अंत में भारत यह मैच 39 रनों से जीत गया।

#3 हरभजन सिंह - शोएब अख्तर (2010 एशिया कप)

हरभजन सिंह और शोएब अख्तर
हरभजन सिंह और शोएब अख्तर

2010 के एशिया कप में जब भारत और पाकिस्तान का मुकाबला हुआ तो हमें जबरदस्त मैच के साथ खिलाड़ियों के बीच झड़प भी देखने को मिली। इस मुकाबले में हरभजन सिंह ने छक्का लगाकर भारत को शानदार जीत दर्ज करवाई थी। हरभजन और शोएब अख्तर के बीच बहस की शुरुआत भारत की पारी के 47वें ओवर में हुयी। इस ओवर में हरभजन सिंह ने शोएब अख्तर की गेंद पर पर छक्का जड़ा और दोनों के बीच जुबानी जंग हुई, फिर उसी ओवर में शोएब अख्तर ने हरभजन के शरीर को टारगेट करते हुए गेंदबाजी की और ओवर के खत्म होने पर दोनों के बीच शब्दों का आदान-प्रदान भी हुआ।

इसके बाद फिर जब हरभजन सिंह ने छक्का लगाकर मैच जिताया तो उन्होंने शोएब अख्तर की तरफ चिल्लाते हुए, जश्न मनाया और अख्तर को यह बिलकुल भी पसंद नहीं आया। अख्तर ने हरभजन को हाथ हिलाकर जाने का इशारा किया।

#4 गौतम गंभीर - कामरान अकमल (2010 एशिया कप)

गौतम गंभीर और कामरान अकमल
गौतम गंभीर और कामरान अकमल

यह झड़प भी एशिया कप 2010 के उसी मैच की है, जिस मैच में हरभजन और अख्तर के बीच कहासुनी हुयी थी। भारत की बल्लेबाजी के दौरान जब सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर और महेंद्र सिंह धोनी क्रीज पर थे उस समय विकेट के पीछे से पाकिस्तान के विकेटकीपर कामरान अकमल बार-बार अपील कर रहे थे जिससे गौतम गंभीर बहुत ज्यादा भड़क गए और दोनों के बीच खूब कहासुनी होने लगी।

झगड़ा काफी ज्यादा बढ़ गया था और अन्य खिलाड़ियों तथा अंपायर को बीच-बचाव करने आना पड़ा, जिसके बाद मामला थोड़ा शांत हुआ। हालांकि गंभीर ने इस मैच में शानदार बल्लेबाजी की और 83 रन बनाये तथा प्लेयर ऑफ़ द मैच बने।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment