Create

IPL 2018: 5 ऐसे तेज़ गेंदबाज़ जो दिल्ली डेयरडेविल्स में ले सकते हैं मोहम्मद शमी की जगह

मोहम्मद शमी के क्रिकेट करियर पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं, क्योंकि बीसीसीआई ने केंद्रीय अनुंबध लिस्ट से शमी का नाम हटा लिया है। शमी पर उनकी बीवी हसीन जहां ने गंभीर आरोप लगाए हैं। जहां ने शमी और उनके परिवार के सदस्यों के ख़िलाफ़ केस दर्ज किया है जिसमें पत्नी के साथ धोखा, प्रताड़ना और धमकी के आरोप लगाए गए हैं। हसीन जहां ने अपने फ़ेसबुक पर शमी और कई लड़कियों के बीच कथित बातचीत के स्क्रीन शॉट भी सार्वजनिक किए हैं। दिल्ली डेयरडेविल्स के इस गेंदबाज़ पर 498A (पत्नी के साथ क्रूरता), 323 (शारिरिक चोट पहुंचाना), 307 (हत्या की कोशिश), 376 (रेप), 506 (आपराधिक धमकी), 328 (ज़हर देकर नुक़सान पहुंचाना), 34 (कई लोगों के द्वारा एक ही नीयत से अपराध करना) जैसी गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया गया है। हांलाकि शमी पर लगाए गए कोई भी आरोप अभी तक साबित नहीं हो पाए हैं, लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि वो शायद साल 2018 का आईपीएल न खेल पाएं क्योंकि पुलिस प्रक्रिया में काफ़ी लंबा वक़्त लग सकता है। अगर वो आईपीएल का 11वां सीज़न नहीं खेल पाए तो ये 5 तेज़ गेंदबाज़ उनकी जगह ले सकते हैं।

#1 रजनीश गुरबानी

अगर साल 2017-18 की रणजी ट्रॉफ़ी में विदर्भ टीम ने कामयाबी हासिल की है तो इसका ज़्यादा श्रेय तेज़ गेंदबाज़ रजनीश गुरबानी को जाता है जो इस सीज़न के दूसरे सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ हैं। उन्होंने इस रणजी सीज़न में 39 विकेट हासिल किए हैं, 24 साल के इस गेंदबाज़ ने दिल्ली के ख़िलाफ़ फ़ाइनल मैच की पहली पारी में हैट्रिक ली थी। उन्होंने इस मैच में 59 रन देकर 6 विकेट हासिल किए थे जिसकी वजह से दिल्ली की टीम 295 रन पर सिमट गई थी। इसके अलावा हिमाचल के ख़िलाफ़ उन्होंने 113 रन देकर 6 विकेट, केरल के ख़िलाफ़ 38 रन देकर 5 विकेट और कर्नाटक के ख़िलाफ 94 रन देकर 5 विकेट और 68 रन देकर 7 विकेट हासिल किए थे। आईपीएल नीलामी में उनकी बेस प्राइज़ 20 लाख रखी गई थी लेकिन उनका कोई ख़रीदार नहीं मिला। शमी की ग़ैरमौजूदगी में इस युवा गेंदबाज़ को फ़ायदा मिल सकता है। इसे भी पढ़ें: IPL : इंडियन प्रीमियर लीग में कप्तान के तौर पर सबसे ज़्यादा मैच खेलने वाले खिलाड़ी

#2 इशांत शर्मा

इस साल की आईपीएल नीलामी में इशांत शर्मा की बेस प्राइज़ 75 लाख रुपये रखी गई थी, फिर भी उनका कोई ख़रीदार नहीं मिला। इशांत के पास आईपीएल का अनुभव है लेकिन टी-20 के लिए उन्हें इतना भरोसेमंद नहीं समझा जाता। पिछले साल की आईपीएल नीलामी में भी वो नहीं बिके थे, लेकिन मुरली विजय की चोट की वजह से उन्हें पंजाब टीम में शामिल किया गया था। अगर मोहम्मद शमी ये आईपीएल नहीं खेलते हैं तो तो अनुभव के आधार पर इशांत को मौक़ा मिल सकता है।

#3 श्रीनाथ अरविंद

कर्नाटक के श्रीनाथ अरविंद ने साल 2011 के आईपीएल सीज़न में अच्छा प्रदर्शन किया था और 21 विकेट हासिल किए थे, वो उस सीज़न में तीसरे सबसे ज़्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ बने थे। साल 2016 और 2017 में वो आरसीबी टीम की तरफ़ से कुछ ही मैच खेल पाए थे। इस साल की आईपीएल नीलामी में उनकी बेस प्राइज़ 50 लाख रखी गई थी लेकिन वो बिकने में नाकाम रहे थे। शमी की कमी का सीधा फ़ायदा अरविंद को हो सकता है।

#4 अशोक डिंडा

बंगाल के तेज़ गेंदबाज़ अशोक डिंडा साल 2016 के आईपीएल नीलामी के दौरान आख़िरी दौर में बिके थे। उन्हें राइज़िंग पुणे सुपरजायंट ने ख़रीदा था। उन्होंने सनराइज़र्स हैदराबाद के ख़िलाफ़ 23 रन देकर 3 विकेट हासिल किए थे और पुणे को 34 रन की जीत दिलाई थी। हांलाकि वो लगातार अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे हैं, लेकिन विपक्षी बल्लेबाज़ों को वो कभी भी चकमे में डाल सकते हैं। इस साल आईपीएल नीलामी में उनकी बेस प्राइस 50 लाख रखी गई थी, लेकिन वो बिकने में नाकाम रहे, लेकिन उनकी अनुभव के आधार पर दिल्ली टीम उनको शमी की जगह मौक़ा दे सकती है।

#5 वरुण एरॉन

वरुण एरॉन और उमेश यादव ने एक ही वक़्त पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कदम रखा था। एरॉन की की गेंदबाज़ी शानदार रही है। वो इस प्रतिस्पर्धा के दौर में ख़ुद को मज़बूत बनाए रखते हैं। वो कई मौक़ों पर चोट का भी शिकार रहे हैं। एरॉन को आरसीबी टीम ने 2.8 करोड़ की क़ीमत में ख़रीदा था लेकिन वो कमाल दिखाने में नाकाम रहे। यही वजह रही कि आईपीएल 2018 की नीलामी के दौरान बेस प्राइज़ 50 लाख होने के बावजूद वो नहीं बिक पाए। लेकिन उनके 6 आईपीएल सीज़न का अनुभव उनके लिए फ़ायदेमंद साबित हो सकता है और शमी की ग़ैरमौजूदगी उनके लिए फ़ायदे का सबब बन सकती है। लेखक – उमैमा सईद अनुवादक – शारिक़ुल होदा

Edited by Staff Editor
Be the first one to comment