Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

क्रिकेट इतिहास की चार घटनाएं जब खिलाड़ियों ने खुदगर्ज़ी का परिचय दिया

टॉप 5 / टॉप 10
Modified 20 Dec 2019, 22:15 IST

#2. सूरज रणदीव ने नो-बॉल फेंकी जब वीरेंद्र सहवाग 99 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे

Suraj Randiv

2010 में, श्रीलंका के गेंदबाजों ने पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वीरेंदर सहवाग को शतक बनाने से रोकने के लिए हर संभव कोशिश की। भारत उस साल श्रीलंका और न्यूजीलैंड के साथ एक त्रिकोणीय सीरीज़ खेल रहा था।

इस सीरीज़ के एक मैच में भारत ने श्रीलंका को 170 रनों पर ढेर कर दिया। हालांकि इसके बाद बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही और उसके तीन विकेट सिर्फ 32 रनों पर गिर गए।

लेकिन दबाव के बावजूद सलामी बल्लेबाज वीरेंदर सहवाग ने अपना नैसर्गिक खेल जारी रखा। उन्होंने श्रीलंकाई गेंदबाजों की खूब धुनाई करते हुए उन्हें मैदान के चारों ओर शॉट्स लगाए। जब भारत को जीत के लिए सिर्फ 1 रन चाहिए था उस समय सहवाग 99 रन बनाकर खेल रहे थे।

सहवाग ने सूरज रणदीव की गेंद पर छक्का जड़ दिया लेकिन श्रीलंकाई गेंदबाज़ ने जानबूझ कर नो-बॉल फेंकी थी इसलिए यह रन पहले गिना गया। तो इस तरह से सहवाग शतक बनाने से महरूम रह गए। रणदीव को उनकी इस हरकत के कारण एक मैच का प्रतिबंध झेलना पड़ा था।

PREVIOUS 3 / 4 NEXT
Published 24 Mar 2019, 10:22 IST
Advertisement
Fetching more content...