7 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने साल 2018 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया

Enter caption

साल 2018 समाप्ति की तरफ है और क्रिकेट में टीम इंडिया का प्रदर्शन बहुत शानदार रहा है। इंग्लैंड दौरे के अलावा भारतीय टीम ने लगभग बढ़िया खेल ही दिखाया है। कुछ नए खिलाड़ियों ने टीम के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण कर जोश और उमंग दिखाई। कई खिलाड़ी ऐसे भी रहे जिन्हें टीम में वापसी का मौका मिला और कुछ खिलाड़ियों को बाहर का रास्ता भी दिखाया गया। इन सबके बीच टीम इंडिया में खेल चुके कुछ खिलाड़ियों ने इस वर्ष खेल को अलविदा कह दिया। इनमें कई नामी और दिग्गज खिलाड़ी कहे जा सकते हैं।

भारत के 6 खिलाड़ियों ने इस साल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा। इनमें से कुछ नाम काफी बड़े रहे। एक खिलाड़ी घरेलू क्रिकेट का दिग्गज है और भारत के लिए भी खेलने का सौभाग्य उन्हें प्राप्त हुआ। इनमें एक वह नाम भी है जो 2011 में विश्वकप जीतने वाली भारतीय टीम का हिस्सा था। आज ऐसे 6 खिलाड़ियों पर चर्चा करेंगे जो इस साल खेल को अलविदा कह चुके हैं।

मोहम्मद कैफ

मोहम्मद कैफ
मोहम्मद कैफ

इस साल जुलाई में 37 वर्ष की उम्र में इस खिलाड़ी ने संन्यास की घोषणा की। 13 जुलाई को उन्होंने संन्यास की घोषणा की और 2002 में यह वही दिन था जब इंग्लैंड को उन्होंने युवराज सिंह के साथ मिलकर नेटवेस्ट ट्रॉफी के फाइनल में हराया था।

कैफ ने भारत के लिए 13 टेस्ट और 125 वन-डे मुकाबलों में शिरकत की। 2003 में दक्षिण अफ्रीका में हुए विश्वकप में भारतीय टीम ने फाइनल तक का सफर तय किया था और वे उस टीम का हिस्सा भी रहे। अपने जमाने में उन्हें विश्व के श्रेष्ठ फील्डरों में से एक माना जाता था। फिलहाल उन्होंने अपना कार्य क्रिकेट में ही जारी रखा है। उन्हें अंतरराष्ट्रीय मैचों में हिंदी कमेंट्री करते हुए देखा जा सकता है।

3 खिलाड़ी जिन्हें आईपीएल के लिए मुंबई इंडियंस खरीद सकती है

सुब्रमण्यम बद्रीनाथ और परविंदर अवाना

सुब्रमण्यम बद्रीनाथ
सुब्रमण्यम बद्रीनाथ

सुब्रमण्यम बद्रीनाथ ने सितम्बर में एक प्रेस वार्ता के जरिये संन्यास की घोषणा की। भारत के लिए उन्होंने 10 अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेले लेकिन घरेलू क्रिकेट में उन्हें महान खिलाड़ी माना जाता है। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर 7 वन-डे और 2 टेस्ट खेले। इसके अलावा उन्हें 1 टी20 मैच में खेलने का सौभाग्य भी मिला। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में उनका रिकॉर्ड बेहतरीन रहा जहां उन्होंने दस हजार से भी ज्यादा रन बनाए। आईपीएल में वे महेंद्र सिंह धोनी के साथ चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए खेले हैं।

परविंदर अवाना
परविंदर अवाना

जुलाई में परविंदर अवाना ने 31 साल की उम्र में क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का ऐलान कर दिया। अवाना ने इस बात की जानकारी ट्वीट करके दी। घरेलू टूर्नामेंट में दिल्ली के लिए खेलने वाले अवाना ने साल 2012 में भारत के लिए दो टी20 मुकाबले भी खेले हैं। इसके अलावा अवाना आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए भी खेल चुके हैं।

मुनाफ पटेल और आरपी सिंह

मुनाफ पटेल
मुनाफ पटेल

भारतीय टीम में भरूच एक्सप्रेस के नाम से पहचाने जाने वाले मुनाफ पटेल ने इस साल नवम्बर में संन्यास लेने का ऐलान कर दिया। भारत के लिए आखिरी बार उन्हें 2011 में खेलने का अवसर मिला था। भारत के लिए उन्हें 70 वन-डे, 13 टेस्ट और 3 टी20 मैचों में खेलने का अवसर मिला और इस दौरान इस गेंदबाज ने 125 विकेट झटके।

आरपी सिंह
आरपी सिंह

भारतीय गेंदबाज रुद्रप्रताप सिंह ने भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी। इस वर्ष 4 सितम्बर को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक लम्बा सन्देश लिखते हुए आरपी सिंह ने क्रिकेट को अलविदा कहा। उन्होंने 4 सितम्बर 2005 को जिम्बाब्वे के खिलाफ हरारे में वन-डे मैच के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का आगाज किया था और 4 सितम्बर को ही संन्यास भी लिया। इस तेज गेंदबाज ने 2007 के टी20 विश्वकप में जबरदस्त प्रदर्शन किया था और भारत ने टूर्नामेंट में जीत भी दर्ज की थी। भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में आरपी सिंह ने 14 टेस्ट, 58 वन-डे और 10 टी20 मैचों में शिरकत की।

प्रवीण कुमार

प्रवीण कुमार
प्रवीण कुमार

भारतीय टीम के लिए 2007 में डेब्यू करने वाले मध्यम गति के तेज गेंदबाज प्रवीण कुमार ने अक्टूबर में संन्यास का ऐलान किया। उन्हें स्विंग में महारथ हासिल थी और गेंद दोनों तरफ घूमती थी। भारतीय टीम में रहते हुए उन्हें 6 टेस्ट, 68 एकदिवसीय और 10 टी20 मैचों में खेलने का अवसर प्राप्त हुआ।

वन-डे क्रिकेट में उन्होंने आखिरी मैच 2012 में खेला था और टेस्ट मैचों में अंतिम बार उन्हें 2011 में खेलते हुए देखा गया था। टेस्ट क्रिकेट में उनके नाम 27 विकेट है तथा वन-डे क्रिकेट में उन्होंने 77 विकेट झटके। टी20 क्रिकेट में उन्हें ज्यादा सफलता नहीं मिली और सिर्फ 8 विकेट हासिल हुए। घरेलू टीम उत्तर प्रदेश के लिए खेलने के अलावा आईपीएल में भी उन्हें चार टीमों की तरफ से खेलने का मौका मिला। इनमें मुंबई इंडियंस, किंग्स XI पंजाब, सनराइजर्स हैदराबाद और गुजरात लायंस का नाम शामिल हैं। आखिरी बार उन्हें गुजरात लायंस की तरफ से खेलने का मौका मिला।

गौतम गम्भीर

Enter caption

लम्बे समय तक भारतीय टीम के लिए खेलने वाले गौतम गंभीर ने 4 दिसम्बर को आधिकारिक ट्विटर हैंडल से संन्यास की घोषणा की। एक वीडियो के जरिये करियर के सभी पहलूओं पर बात करते हुए गंभीर ने खेल को अलविदा कहा। 2003 में इस खिलाड़ी ने डेब्यू किया था और फैन्स भी उन्हें काफी ज्यादा पसंद करते हैं। एक टी20 और एक वन-डे विश्वकप भारत को दिलाने का श्रेय भी उनको जाता है। भारत के लिए गंभीर ने 58 टेस्ट, 147 वन-डे और 37 टी20 मुकाबलों में शिरकत की।

गंभीर ने 2007 टी20 विश्वकप के फाइनल में 75 और 2011 विश्वकप के फाइनल में 97 रनों की महत्वपूर्ण पारियां खेली थी। गंभीर ने 58 टेस्ट में 4154 रन, 147 वनडे में 5238 और 37 टी20 अंतर्राष्ट्रीय में 932 रन बनाए हैं। उनकी कप्तानी में कोलकाता नाइटराइडर्स ने दो बार आईपीएल का खिताब भी जीता। आईपीएल में कप्तानी रिकॉर्ड में उनका भी बेहतरीन कार्य शामिल है।

Quick Links

App download animated image Get the free App now