Create
Notifications
Advertisement

7 मौके जब भारतीय टीम को टी20 अंतर्राष्ट्रीय मुकाबलों में आखिरी गेंद पर हार का सामना करना पड़ा 

  • रनों का पीछा करते हुए तीन मौकों पर आखिरी गेंद धोनी ने खेली, लेकिन टीम जीत नहीं पाई
  • यह ऐसे मौके थे जब भारत को जीत हासिल करनी चाहिए थे, लेकिन वो चूक गए
FEATURED COLUMNIST
टॉप 5 / टॉप 10
Modified 18 Apr 2020, 12:03 IST

भारतीय टीम को यह मुकाबले जीतने चाहिए थे
भारतीय टीम को यह मुकाबले जीतने चाहिए थे

भारतीय टीम ने अपना पहला टी20 अंतर्राष्ट्रीय मुकाबला 2006 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था। इसके बाद से अभी तक भारत ने 134 टी20 अंतर्राष्ट्रीय मुकाबले खेले हैं, जिसमें 86 मुकाबले जीते हैं, 44 मैच में टीम को हार मिली, तो 4 मुकाबलों का नतीजा नहीं निकल पाया। इस बीच भारत ने 2007 में पहला टी20 वर्ल्ड कप भी जीता था।

भारत ने अभी तक सबसे ज्यादा मुकाबले ऑस्ट्रेलिया (20 मैच) के खिलाफ खेले हैं, तो टीम को सबसे ज्यादा हार ऑस्ट्रेलिया (8 मैच) और न्यूजीलैंड (8 मैच) के खिलाफ मिली है। हालांकि ऐसे कई मुकाबले रहे हैं, जहां भारत जीतने के काफी करीब आई, लेकिन आखिरी गेंद पर टीम को हार का सामना करना पड़ा।

यह भी पढ़ें: 4 गलतियां जिनकी वजह से भारत 2007 के बाद दोबारा टी20 वर्ल्ड कप नहीं जीत पाया है

आइए नजर डालते हैं ऐसे ही 7 मैचों पर जब भारत आखिरी गेंद पर टीम को हार मिली:

#) भारत vs श्रीलंका (टी20 वर्ल्ड कप, 11 मई 2010)

श्रीलंका ने आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर मैच जीता
श्रीलंका ने आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर मैच जीता

2010 टी20 वर्ल्ड कप वेस्टइंडीज में हुआ था और सुपर 8 के आखिरी मुकाबले में भारत और श्रीलंका का मैच सेंट लूसिया हुआ। भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया और सुरेश रैना की अर्धशतकीय पारी की बदौलत 20 ओवरों में 163-5 का स्कोर खड़ा किया।

164 रनों का पीछा करते हुए श्रीलंका ने 19 ओवर के बाद स्कोर 151-4 था। आखिरी ओवर की पहली चार गेंद पर श्रीलंका ने 10 रन बनाए, लेकिन पांचवीं गेंद पर आशीष नेहरा ने एंजेलो मैथ्यूज को आउट कर दिया। हालांकि आखिरी गेंद पर चमारा कपूगेदरा ने छक्का लगाते हुए श्रीलंका को जीत दिलाई और भारत मैच को जीतने से चूक गया।

1 / 7 NEXT
Published 18 Apr 2020, 12:03 IST
Advertisement
Fetching more content...
Get the free App now
❤️ Favorites Edit