Create
Notifications

 'मांकडिंग' के बारे में 8 रोचक बातें जो आपको जाननी चाहिए

Enter caption
Ankit Pasbola
visit

हाल ही में श्रीलंका और इंग्लैंड के बीच 5 वें एकदिवसीय मैच के दौरान एक दिलचस्प घटना देखने को मिली। श्रीलंका के सचित्रा सेनानायके ने अपनी गेंदबाजी के दौरान नॉन-स्ट्राइकर छोर पर गिल्लियां बिखेर दीं। जोस बटलर क्रीज़ से बाहर थे। एक अपील की गई और बटलर को रन-आउट घोषित किया गया। ऐसा ही दृश्य आईपीएल में फिर बटलर के साथ हुआ। मगर इस बार गेंदबाज आर अश्विन थे। इस प्रकार की घटना को खेल भावना से जोड़कर देखा जाने लगा है। लेकिन यह पहली बार नहीं था जब किसी क्रिकेट मैच के दौरान ऐसा हुआ था। इस अधिनियम को क्रिकेट में 'मांकडिंग' के रूप में जाना जाता है। हम यहां जानेंगे कि 'मांकडिंग' के बारे में कुछ रोचक तथ्य हैं ज्यादातर लोग इससे अनजान होंगे।

#1 वीनू मांकड़ से बना 'मांकडिंग'

भारत के ऑस्ट्रेलिया के दौरे(1947/48) में वीनू मांकड़ के द्वारा सबसे पहले इस प्रकार का कृत्य किया गया। सिडनी टेस्ट में वीनू मांकड़ ने गेंदबाजी के दौरान नॉन स्ट्राइकर छोर पर बिल ब्राउन की गिल्लियां बिखेर दी। उन्हें रन आउट करार दिया गया।

यह दूसरी घटना थी जब मांकड़ ने ब्राउन को इस अनूठे ढंग से आउट किया। इससे पहले मांकड़ ने ऑस्ट्रेलिया इलेवन के खिलाफ ब्राउन को आउट किया था। वीनू मांकड़ के इस कृत्य को खेल भावना से जोड़कर देखा जाने लगा। उनकी ऑस्ट्रेलियाई मीडिया में काफी आलोचना भी हुई। यहीं से 'मांकडिंग' शब्द चर्चा में आया।

#2 बहुत पुराना है मांकडिंग का नियम

भारत के वरिष्ठ क्रिकेट विश्लेषक मोहनदास मेनन ने इस नियम से सम्बंधित एक रोचक तथ्य बताया। उन्होंने बताया कि यह सन 1800 के समय भी यह नियम प्रयोग में लाया जाता था जब क्रिकेट कुछ सीमित जगहों पर ही खेला जाता था।

#3 क्या कहते हैं नियम

Ente

नियम 41.16 में स्पष्ट तौर पर कहा गया है 'गेंदबाज को, जब वह गेंद नहीं फेंक चुका हो और अपनी आम डिलीवरी के लिए स्विंग पूरा ना किया हो तब तक नॉन स्ट्राइकर एंड पर रन आउट करने की अनुमति मिलती है।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं।

#4 टेस्ट मैच में मांकडिंग

Ente4ई

वीनू मांकड़ और बिल ब्राउन वाली घटना के अलावा इस प्रकार के टेस्ट क्रिकेट में 3 घटनाएं और देखने को मिलती है।

वेस्टइंडीज के चार्ली ग्रिफ़िथ ने 1959/60 में एडिलेड में ऑस्ट्रेलियाई इऑन रेडपथ को मांकडिंग द्वारा आउट किया।इस प्रकार से आउट होने वाले रेडपथ दूसरे ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी बने। ऐसी ही एक अन्य घटना में, साल 1977-78 में न्यूजीलैंड के डेरेक रैंडल, इंग्लैंड के इवेन चैटफील्ड द्वारा 'मांकडिंग’ से आउट हुए।

टेस्ट मैच में आखिरी बार इस प्रकार का आउट 1978/79 में पर्थ में देखने को मिला जब ऑस्ट्रेलिया के ओसी एलन ने पाकिस्तान के सिकन्दर बख्त को मांकडिंग किया।

#5 मुरली कार्तिक द्वारा प्रथम श्रेणी क्रिकेट में मांकडिंग

youtube-cover

मुरली कार्तिक ने दो बार मांकडिंग के द्वारा प्रथम श्रेणी में विकेट लिया है। साल 2012 में सरे की ओर से खेलते हुए कार्तिक ने सोमरसेट के एलेक्स बुरो को मांकडिंग से आउट किया। जबकि साल 2013 में कार्तिक ने रेलवे की ओर से खेलते हुए बंगाल के संदीपन दास को मांकडिंग से आउट किया था।

#6 वनडे में मांकडिंग

Eहउ

अब तक चार बार वनडे मैचों में मांकडिंग की घटना देखने को मिली है, जिसमे हाल ही में बटलर-सेनानायके वाली घटना भी सम्मिलित है। सबसे पहले 1974/75 में ग्रेग चैपल ने वनडे में यह कृत्य इंग्लैण्ड के ब्रायन लकहर्स्ट के साथ किया। उन्होंने अपनी गेंदबाजी के दौरान नॉन स्ट्राइकर क्रीज से बाहर ब्रायन लकहर्स्ट की गिल्लियां बिखेरी।

न्यूज़ीलैंड के गेंदबाज दीपक पटेल ने 1992/93 में मांकडिंग से ज़िम्बाब्वे के ग्रांट फ्लॉवर को आउट किया। इसके बाद कपिल देव ने भी मांकडिंग के जरिये विकेट लिया,उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के पीटर क्रिस्टन को आउट किया।

#7 अश्विन- थिरुमाने और मांकडिंग

youtube-cover

भारतीय स्पिनर आर अश्विन ने 'कॉमनवेल्थ बैंक' सीरीज 2011/12 में श्रीलंका के लाहिरू थिरुमाने के खिलाफ ऐसा ही कृत्य किया।

अपनी गेंदबाजी के दौरान अश्विन ने नॉन स्ट्राइकर क्रीज़ से बाहर निकल चुके लाहिरू थिरुमाने की गिल्लियां बिखेर दी और आउट की अपील की। अंपायर ने थिरुमाने को सीधे आउट नहीं दिया,उन्होंने सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग (जो मैच के लिए कप्तान भी थे) से परामर्श किया। जिसके बाद में भारत ने खेल भावना को ध्यान में रखते हुए यह अपील वापस ले ली।

#8 डॉन ब्रेडमैन ने मांकडिंग को सही बताया

Donतकज

पूर्व दिग्गज क्रिकेटर सर डॉन ब्रेडमैन ने अपनी ऑटोबायोग्राफी में लिखा की," मैं अपने जीवन में यह नहीं समझ सका कि अगर मांकडिंग जैसा नियम है तो इससे खेल भावना को लेकर सवाल उठना अनुचित है। क्रिकेट के नियम यह स्पष्ट करते हैं कि गेंद को छोड़ने तक नॉनस्ट्राइकर को अपनी क्रीज के भीतर रहना होगा। यदि यह खेल भावना के विरुद्ध है तब यह रन आउट करने का इस प्रकार का नियम क्यों है। अगर यह उचित नहीं होगा तो नॉन स्ट्राइक पर खड़ा बल्लेबाज बहुत स्पष्ट रूप से अनुचित लाभ प्राप्त कर सकता है।”

जब सिडनी टेस्ट में वीनू मांकड ने बिल ब्राउन को इस प्रकार से आउट किया था तब ऑस्ट्रेलिया की मीडिया में उनका विरोध हुआ था। तब भी ब्रेडमैन मांकड़ के समर्थन में थे।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं।

Edited by Naveen Sharma
Article image

Go to article

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now