"आईपीएल से बीसीसीआई एकाधिकार रखती है," श्रीलंका से आया बयान

आईपीएल के अलावा भारतीय खिलाड़ी कहीं नहीं खेलते हैं
आईपीएल के अलावा भारतीय खिलाड़ी कहीं नहीं खेलते हैं

श्रीलंका (Sri Lanka) के पूर्व बल्लेबाज अरविंदा डी सिल्वा (Arvinda De Silva) ने भारतीय क्रिकेट बोर्ड से आईपीएल (IPL) के अलावा अपने खिलाड़ियों को अन्य टी20 लीग में खेलने की अनुमति देने का आग्रह किया है। डी सिल्वा के अनुसार अगर भारत अन्य देशों को उनके विकास में समर्थन नहीं देता है, तो क्रिकेट का समग्र स्तर गिर जाएगा।

AFP से बातचीत में अरविंदा डी सिल्वा ने कहा कि यह उन दिनों के काउंटी क्रिकेट की तरह है जिसने इंग्लिश क्रिकेटरों को फायदा दिया। आईपीएल, बिग बैश या इंग्लैंड में हंड्रेड और टी20 ब्लिट्ज, वे टूर्नामेंट हैं जो खिलाड़ियों को विकसित होने देते हैं। यदि आपके पास एक प्रमुख डोमिनेटिंग देश हैं, तो आप आईपीएल से देख सकते हैं, वे मूल रूप से प्रीमियर लीग पर एकाधिकार चलाते हैं क्योंकि भारतीय क्रिकेटरों को अन्य लीगों में खेलने की अनुमति नहीं है। जब तक (भारत) अन्य देशों का समर्थन करने का कोई तरीका नहीं ढूंढता और खेल को आजकल जिस तरह के समर्थन स्तरों की आवश्यकता होती है, वह क्रिकेट जगत के लिए नकारात्मक है।

गौरतलब है कि भारतीय टी20 लीग आईपीएल में कई प्रमुख देशों के खिलाड़ी खेलते हैं लेकिन अन्य देशों की लीग में भारतीय खिलाड़ियों को खेलने की अनुमति नहीं है। शुरू से ही ऐसा देखा गया है। यही कारण रहा है कि अन्य देशों के टी20 टूर्नामेंट उतने लोकप्रिय नहीं हुए। आईपीएल में हर देश का खिलाड़ी खेलना चाहता है क्योंकि उनमें पैसा और प्रतिष्ठा दोनों है। अन्य लीग्स में उतना पैसा नहीं है।

हालांकि महिला टीम से भारतीय खिलाड़ियों को बाहर जाकर खेलने की अनुमति है। बिग बैश लीग और इंग्लैंड में जाकर भारतीय महिलाओं ने क्रिकेट खेली है। पुरुष खिलाड़ियों को खेलने की अनुमति नहीं है। यह बात कैप्ड और अनकैप्ड दोनों तरह के खिलाड़ियों के ऊपर लागू होती है।

Quick Links

Edited by निरंजन
App download animated image Get the free App now