Create

शाकिब अल हसन के स्‍पॉन्‍सरशिप सोशल मीडिया पोस्‍ट की जांच करेगा BCB

शाकिब अल हसन ने बेटविनर न्‍यूज के साथ पार्टनरशिप की घोषणा की थी
शाकिब अल हसन ने बेटविनर न्‍यूज के साथ पार्टनरशिप की घोषणा की थी

बांग्‍लादेश (Bangladesh Cricket team) के स्‍टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan) ने हाल ही में सोशल मीडिया के जरिये बेटविनर न्‍यूज (Betwinner News) कंपनी के साथ अपनी पार्टनरशिप की घोषणा की थी। बांग्‍लादेश क्रिकेट बोर्ड इसकी जांच करेगा। बीसीबी अध्‍यक्ष नजमुल हसन ने बोर्ड बैठक के बाद प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि वो शाकिब को एक नोटिस जारी करेंगे कि उन्‍होंने स्‍पॉन्‍सरशिप करार के बारे में जानकारी नहीं दी।

बांग्‍लादेश में सट्टेबाजी या जुआ को बढ़ावा देना सख्‍त मना है। यह देश के संविधान और कानून के खिलाफ है।

शाकिब अल हसन ने ट्विटर के जरिये पार्टनरशिप की घोषणा की। शुरूआत में उन्‍होंने इस ट्वीट को डिलीट किया, लेकिन कुछ समय के बाद दोबारा पोस्‍ट कर दिया।

नजमुल हसन ने कहा, 'गुरुवार को हुई बैठक में शाकिब के नए स्‍पॉन्‍सरशिप करार के बारे में बातचीत हुई। हमने उन्‍हें नोटिस देने का निर्देश दिया है ताकि पूछे कि ये क्‍या हुआ। अगर यह सट्टेबाजी से संबंधित है तो बोर्ड इसकी अनुमति नहीं देगा। शाकिब ने हमसे इसकी इजाजत नहीं ली। बांग्‍लादेश का कानून इसकी इजाजत नहीं देता। यह गंभीर मसला है। हम हालांकि, सिर्फ फेसबुक पोस्‍ट पर निर्भर नहीं रह सकते हैं। तो हमें इसके बारे में जानने के लिए जांच करना होगी।'

एक बंगाली अखबार के साथ इंटरव्‍यू में बीसीबी के प्रमुख कार्यकारी निजामुद्दीन चौधरी ने भी कहा कि वो शाकिब की सफाई जरूर सुनेंगे। चौधरी ने कहा, 'यह तो साफ है कि ये न्‍यूज पोर्टल्‍स क्‍यों बने हैं। हम सभी जानते हैं कि ये क्‍या है। शाकिब ने अपने करार के बारे में हमें जानकारी नहीं दी। हमने बुधवार को इसके बारे में जाना। हम इस पर कानूनी तरीके से देख रहे हैं और जल्‍द ही मामले को सुलझाना चाहते हैं।'

उन्‍होंने आगे कहा, 'यह सट्टेबाजी साइट के साथ सीधा करार नहीं है। मगर सट्टेबाजी साइट से संबंधित है। यह न्‍यूज पोर्टल है। मगर सट्टेबाजी इससे संबंधित है, तो हमें इसका कानूनी तरीका जांचना होगा। हमारे देश का कानून सट्टेबाजी की इजाजत नहीं देता। तो हम वो करेंगे, जो कानूनी रूप से जरूरी है।'

उन्‍होंने आगे कहा, 'अगर शाकिब समझ लेंगे कि ये क्‍या है तो आसान होगा। अगर वो नहीं समझेंगे तो दिक्‍कत होगी। यह हमारी छवि खराब होने का मामला है। हर चीज की अच्‍छाई और बुराई है। उन्‍होंने संभवत: इसके खराब पक्ष के बारे में नहीं सोचा होगा।'

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment