Create

जोस बटलर ने बोर्ड को बताया कैसे खर्च करनी चाहिए इंग्लैंड के खिलाड़ियों द्वारा डोनेट की गई रकम

जोस बटलर 
जोस बटलर 

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के बल्लेबाज जोस बटलर का मानना है कि इंग्लैंड के केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों ने कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई के लिए जो अपनी सैलरी डोनेट की है, उन पैसों का उपयोग जमीनी स्तर के खिलाड़ियों के लिए करना चाहिए।

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के खिलाड़ियों ने ईसीबी को £500,000 देने की घोषणा की है और यह उन्होंने अच्छे कारणों के लिए दी है। कोरोना वायरस के कारण क्रिकेट अभी पूरी तरह से बंद है। ऐसे में ईसीबी को करोड़ों का नुकसान हो सकता है, जिसके चलते खिलाड़ियों ने अपनी सैलरी डोनेट करने का फैसला लिया है। हालांकि, अभी तक यह साफ नहीं है कि आखिर इन पैसों का इस्तेमाल कहा किया जाएगा। लेकिन जोस बटलर ने अपनी राय इस बारे में जाहिर कर दी है कि आखिर यह पैसे कहां खर्च होने चाहिए।

ये भी पढ़ें - भारतीय टीम में वापसी को लेकर रॉबिन उथप्पा ने दिया बयान, एक और वर्ल्ड कप खेलना चाहते हैं

बटलर ने कहा, "मुझे लगता है कि जमीनी स्तर पर काम करने वालों को अगर पैसा मिलेगा तो खिलाड़ियों को बड़ी खुशी होगी। ऐसे बहुत से क्षेत्र हैं जो महामारी के कारण प्रभावित होने जा रहे हैं। इसमें जमीनी स्तर पर काम करने वाले लोग, युवा कोचिंग और विकलांगता के खेल शामिल हैं।" उन्होंने कहा,"खिलाड़ियों के रूप में हम इस बात को अच्छी तरह से जानते हैं कि उन लोगों के बिना हम कुछ भी नहीं हैं। वो ऐसे लोग हैं जिनसे हम प्रभावित होते हैं।"

उन्होंने कहा,"मुझे पता है कि खिलाड़ी चाहेंगे कि उस पैसे से उन लोगों की मदद की जाने की बहुत जरूरी है ताकि जमीनी स्तर की संरचना और उनके आगे के रास्ते खुले रहे, क्योंकि हमें लोगों को खेल में लाने की जरूरत है और सुनिश्चित करें कि यह बहुत मजबूत है।"

जोस बटलर ने बीते दिनों ही अपनी विश्व कप की जर्सी को नीलाम करने का फैसला लिया था। इस जर्सी के लिए अभी तक सबसे बडी़ बोली £ 65,800 तक पहुंच गई है और यह मंगलवार शाम को खत्म होगी। वहीं उन्होंने बताया आखिर उन्होंने क्यों अपनी जर्सी को नीलाम करने का फैसला लिया था। उन्होंने कहा कि मेरी पत्नी, लुईस की एक चाची है जो रॉयल ब्रॉम्पटन अस्पताल में बाल चिकित्सा के प्रमुख हैं। जब यह प्रकोप शुरू हुआ तो हम उसके बारे में उससे बात कर रहे थे कि यह क्या था और क्या कुछ भी था जो हम मदद कर सकते थे ।

Quick Links

Edited by निशांत द्रविड़
Be the first one to comment