Create
Notifications

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया मैच में इस्तेमाल होने वाली गेंदों को लेकर अहम फैसला ले सकती है

क्रिकेट गेंद
क्रिकेट गेंद
EXPERT COLUMNIST
Modified 20 May 2020
न्यूज़

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया मैच में इस्तेमाल होने वाली गेंदों को लेकर अहम विचार कर रही है। कोरोनावायरस के प्रकोप के बाद जब फिर से क्रिकेट की शुरुआत होगी, तो क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया गेंदों के ऊपर डिसइंफेक्टेंट का प्रयोग कर सकती है। गौरतलब है कि आईसीसी की क्रिकेट कमिटी ने भी Covid-19 को मद्देनज़र रखते हुए गेंद पर लार (Saliva) का प्रयोग बंद करने की सिफारिश की है।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के स्पोर्ट्स साइंस स्पोर्ट्स मेडिसिन एलेक्स कौन्टोरिस ने कहा कि हम क्रिकेट गेंदों पर डिसइंफेक्टेंट का प्रयोग करने पर विचार कर रहे हैं लेकिन उसके लिए पहले हमें इसका टेस्ट करना होगा। इसके अलावा उन्होंने बताया कि आईसीसी से भी अनुमति लेने की जरूरत पड़ेगी। चमड़े की गेंद पर डिसइंफेक्टेंट का इस्तेमाल करना मुश्किल होगा, इसलिए यह अंदाजा लगाना मुश्किल है कि इसका क्या परिणाम निकलता है?

इसके अलावा एलेक्स कौन्टोरिस ने यह भी कहा," काफी खिलाड़ियों को गेंद पर थूक लगाने की आदत होती है और उन्हें गेंद को चमकाना होता है। अगर गेंद पर थूक का प्रयोग बंद करना है तो इसके लिए काफी ज्यादा प्राक्टोवे की जरूरत होगी और इसलिए शुरुआती दिनों में गलतियां भी हो सकती है। लेकिन मुझे लगता है कि हमें एक इसको लेकर एक कॉमन सेंस अप्रोच रखना होगा कि खिलाड़ियों से गलतियां होंगी। हालाँकि अगर हम ज्यादातर सही चीज़ें करेंगे तो वह थी रहेगा।

यह भी पढ़ें - आईसीसी क्रिकेट कमेटी ने गेंद पर लार का प्रयोग बंद करने की सिफारिश की

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के जोश हेज़लवुड
ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के जोश हेज़लवुड

जोश हेज़लवुड ने भी आईसीसी क्रिकेट कमिटी के सिफारिश पर प्रतिक्रिया दी

ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज तेज़ गेंदबाज जोश हेज़लवुड ने भी आईसीसी क्रिकेट कमिटी की सिफारिश पर अपने विचार रखे हैं। हेज़लवुड ने कहा कि गेंद पर लार (Saliva) का इस्तेमाल नहीं करने से शुरुआत में काफी दिक्क्तें आएंगी, लेकिन बाद में गेंद को स्विंग कराने को लेकर इसका प्रभाव उतना ज्यादा नहीं दिखेगा। उन्होंने बताया कि एक गेंदबाज के तौर पर जब गेंद आपके पास वापस आती है, तो उस पर थूक लगाना एक स्वभाविक प्रक्रिया है और इसलिए इसको रोकना काफी ज्यादा मुश्किल रहेगा। उन्होंने यह भी कहा कि पसीने का उपयोग करने से गेंद ज्यादा गीली हो जाएगी और उसका वजन बढ़ जाएगा।

आईसीसी क्रिकेट कमिटी ने गेंद पर लार (Saliva) का उपयोग बंद करने की सिफारिश के अलावा और भी कई मुद्दों को सामने रखा है। हर प्रारूप में अंतरिम तौर पर एक एक्स्ट्रा डीआरएस देने की सिफारिश भी आईसीसी कमेटी ने की है। इसके अलावा मैच आयोजित करने वाले देश के ही अम्पायर और मैच रेफरी को ही नियुक्त करने की सिराफिश भी की गई है।

Published 20 May 2020
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now