Create
Notifications

"एमएस धोनी ने अपने संन्यास वाले दिन मुझे अपनी बल्लेबाजी पर ध्यान देने को कहा था" - सीएसके के खिलाड़ी ने किया खुलासा 

दीपक चाहर ने अपनी बल्लेबाजी में सुधार का श्रेय एमएस धोनी को दिया
दीपक चाहर ने अपनी बल्लेबाजी में सुधार का श्रेय एमएस धोनी को दिया
Prashant Kumar
visit

राजस्थान के लिए घरेलू क्रिकेट में अच्छा करने के बाद आईपीएल और फिर भारतीय टीम में एंट्री करने वाले दीपक चाहर (Deepak Chahar) की पहचान एक स्विंग गेंदबाजी की थी। हालांकि पिछले कुछ समय में उन्होंने अपनी काबिलियत को बल्ले से भी दिखाया और वह धीरे-धीरे सफ़ेद गेंद की क्रिकेट में भारत के लिए एक ऑलराउंड विकल्प बनते जा रहे हैं। इस खिलाड़ी ने खुलासा किया है कि उन्होंने अपनी बल्लेबाजी में सुधार एमएस धोनी (MS Dhoni) की सलाह के बाद किया।

चाहर को चेन्नई सुपर किंग्स ने आईपीएल 2018 के ऑक्शन में खरीदा था और इसके बाद से वह इस टीम के अहम सदस्य बन गए। हाल ही में आईपीएल 2022 मेगा ऑक्शन में सीएसके ने दीपक चाहर को अपने ऑक्शन इतिहास का सबसे महंगा खिलाड़ी बनाते हुए 14 करोड़ की बड़ी रकम खर्च कर खरीदा।

दीपक चाहर ने एमएस धोनी का सलाह का किया खुलासा

स्पोर्ट्सयारी के साथ एक इंटरव्यू में, चाहर ने कहा कि धोनी ने जिस दिन 2020 में संन्यास की घोषणा की थी, उस दिन उनसे बात कर रहे थे और उन्होंने चाहर से उनकी बल्लेबाजी क्षमता को सही ठहराने का आग्रह किया था।

चाहर ने कहा,

एक दिन माही भाई ने मुझसे कहा... तुमने गेंदबाजी के साथ अच्छा काम किया है लेकिन अपनी बल्लेबाजी को सही नहीं ठहराया। मुझे लगता है कि तुम्हे ऐसा करना चाहिए'। उन्होंने मुझे यह उस दिन बताया था, जिस दिन संन्यास की घोषणा की थी। हम शाम को बैठे थे और बात कर रहे थे। धोनी ने कहा, मुझे बल्लेबाजी पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए।

चाहर ने यह भी मेंशन किया कि 2017-18 में उनकी बल्लेबाजी काफी अच्छी थी और वह गेंदबाजी से ज्यादा बल्लेबाजी का अभ्यास करते थे। हालांकि बाद में उन्हें बल्लेबाजी का कम मौका मिलने लगा और इससे उनकी बल्लेबाजी प्रभावित हुई। दाएं हाथ के खिलाड़ी ने आगे कहा,

मैं तब से बल्लेबाजी कर रहा हूं जब मैं युवा था और एक ऑलराउंडर बनने का यह प्रयास तब से ही शुरू हो गया था। 2017-18 में, मैं बेहतर बल्लेबाजी करता था क्योंकि मैं घर पर था और इसलिए मैं बल्लेबाजी का बहुत अभ्यास करता था। वास्तव में, मैं गेंदबाजी की तुलना में बल्लेबाजी पर अधिक ध्यान केंद्रित करता था क्योंकि एक दिन में आप जितनी गेंदें फेंकेंगे, उसकी एक सीमा थी क्योंकि ऐसा अधिक करने से आपके शरीर पर असर पड़ता था।

Edited by Prashant Kumar
Article image

Go to article

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now