अपने भाई के वेस्टइंडीज की वनडे टीम में ना चुने से जाने से नाराज हुए ड्वेन ब्रावो, मैनेजमेंट पर निकाली जमकर भड़ास 

डैरेन ब्रावो को इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज के लिए नहीं चुना गया
डैरेन ब्रावो को इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज के लिए नहीं चुना गया

वनडे वर्ल्ड कप इतिहास में पहली बार किसी संस्करण में चूकने वाली वेस्टइंडीज ने बदलाव की तरफ कदम बढ़ा दिए, जिसकी एक झलक इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज (WI vs ENG) के लिए घोषित हुई टीम में देखने को मिली। इंग्लिश टीम का सामना करने के लिए चुने गए स्क्वाड में कई फेरबदल हुए, साथ ही घरेलू क्रिकेट में शानदार खेल दिखाने वाले कुछ खिलाड़ियों की वापसी हुई। हालाँकि, बाएं हाथ के बल्लेबाज डैरेन ब्रावो (Darren Bravo) को अच्छे प्रदर्शन के बावजूद नजरअंदाज कर दिया गया और यह बात उनके बड़े भाई और पूर्व ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो (Dwayne Bravo) को पसंद नहीं आई। ब्रावो ने अपने भाई को ना चुनने पर नाराजगी जताई।

वेस्टइंडीज के लिए 122 वनडे मुकाबले खेल चुके डैरेन ब्रावो के नाम 30.18 की औसत से 3109 रन दर्ज हैं। हालाँकि, पिछले साल भारत के खिलाफ अपना आखिरी वनडे मुकाबला खेलने वाले इस बल्लेबाज को दोबारा मौका नहीं मिला। घरेलू क्रिकेट में उनका हालिया फॉर्म शानदार था और उसी टूर्नामेंट के आधार पर शेन डाउरिच और केजोर्न ओटले वनडे स्क्वाड में वापसी करने में सफल रहे लेकिन ब्रावो को नजरअंदाज कर दिया गया।

डैरेन ब्रावो ने सुपर50 कप में सबसे ज्यादा रन बनाये। उन्होंने नौ मैचों की आठ पारियों में 83.20 की जबरदस्त औसत से 416 रन बनाये। इस दौरान उनके बल्ले से एक शतक और तीन अर्धशतकीय पारियां आईं। डाउरिच और ओटले की तुलना में ब्रावो का प्रदर्शन बेहतर रहा लेकिन चयनकर्ताओं ने उनको नहीं चुना।

ड्वेन ब्रावो ने डैरेन ब्रावो का ना चुने जाने पर जताई नाराजगी

वेस्टइंडीज टीम की घोषणा के कुछ घंटे बाद पूर्व ऑलराउंडर ड्वेन ब्रावो ने सोशल मीडिया पर डैरेन ब्रावो के घरेलू प्रदर्शन को नजरअंदाज करने के लिए चयनकर्ताओं पर सवाल उठाये। ब्रावो ने चयनकर्ताओं से चयन मानदंडों के साथ निष्पक्ष होने का आग्रह किया।

पूर्व कैरेबियाई ऑलराउंडर ने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट साझा किया और लिखा,

मैं अपने भाई के नहीं चुने जाने से हैरान नहीं हूं, लेकिन वेस्टइंडीज क्रिकेट प्रबंधन में हाल के बदलावों के साथ, मैंने बेहतर के लिए थोड़ी उम्मीद बनाए रखी। यह स्वीकार्य नहीं है, और मैं बस इसे समझ नहीं सकता! तो यहां मेरे तीखे प्रश्न हैं: वेस्टइंडीज टीम चयन के लिए मानदंड क्या है? निश्चित रूप से, यह पूरी तरह से प्रदर्शन पर आधारित नहीं हो सकता है?
दो सीज़न के लिए, मेरे भाई ने असाधारण प्रतिभा का प्रदर्शन किया, हालिया टूर्नामेंट में 400 से अधिक रन, 83.2 की बल्लेबाजी औसत और 92 के स्ट्राइक रेट के साथ सबसे ज्यादा रन बनाये। मैं आमतौर पर इन चर्चाओं से दूर रहता हूं, लेकिन वर्षों से खिलाड़ियों के प्रति दुर्व्यवहार, अनादर और बेईमानी एक आवाज की मांग करती है। यह वास्तव में कब बंद होगा?
मेरे भाई के लिए, यह भी बीत जाएगा। अपना सिर ऊंचा रखो, ध्यान केंद्रित रखो और ऊपर वाले पर भरोसा रखो।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
App download animated image Get the free App now