Create

भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी रॉबिन सिंह के ऊपर लॉकडाउन का उल्लंघन करने के लिए लगा जुर्माना

भारतीय टीम के फील्डिंग कोच भी रहे हैं रॉबिन सिंह
भारतीय टीम के फील्डिंग कोच भी रहे हैं रॉबिन सिंह

भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी रॉबिन सिंह के ऊपर चेन्नई में लॉकडाउन का उल्लंघन करने के कारण 500 रुपये जुर्माना और इसके साथ ही उनकी कार को भी सीज़ कर लिया गया है। पीटीआई के मुताबिक रॉबिन सिंह अपनी कार से मार्केट में सब्जी खरीदने के लिए अदयार से उथंडी जा रहे थे। पुलिस ने वहीं पर उन्हें लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करते हुए पकड़ा गया था।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक उनके पास न ही ई पास था और न ही कार से ट्रेवल करने का कोई वाजिब कारण। इसी वजह से उनके ऊपर 500 रुपये का जुर्माना लगाया गया। आपको बता दें कि चेन्नई और दूसरी तीन डिस्ट्रिक्ट में 19 जून से ही कोरोनावायरस के कारण लॉकडाउन लगा हुआ है।

यह भी पढ़ें: भारत के 4 बड़े क्रिकेट स्टेडियम जहां मैदान हमेशा दर्शकों से भरा रहता है

लॉकडाउन के नियमों के मुताबिक लोगों को जरूरी सामान लेने के लिए दो किलोमीटर तक ही जाने के लिए सलाह दी गई है। इसी के साथ सभी से अपने वाहनों का इस्तेमाल नहीं करने की भी कहा गया है। इंडियन एक्सप्रेस में छपी रिपोर्ट के अनुसार उनकी कार को सीज़ करके शास्त्री नगर पुलिस स्टेशन ले जाया गया है।

भारतीय टीम के लिए 100 से ज्यादा वनडे खेले हैं रॉबिन सिंह

रॉबिन सिंह ने भारतीय टीम के लिए अपना डेब्यू मार्च 1989 में किया था। वो अपने वनडे करियर में भारतीय टीम के लिए 136 मैच खेले। इस बीच उन्होंने 25.96 की औसत से एक शतक और 9 अर्धशतक की मदद से 2336 रन बनाए। गेंद के साथ रॉबिन सिंह ने भारतीय टीम के लिए 69 विकेट चटकाए। गेंद के साथ उन्होंने 2 बार 5 विकेट हॉल भी लिया है।

रॉबिन सिंह भारत के लिए एक टेस्ट मैच भी खेले हैं। इस एकमात्र टेस्ट में उन्होंने 27 रन बनाए, लेकिन गेंद के साथ उन्हें कोई भी विकेट नहीं मिला। क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद रॉबिन सिंह कोच की भूमिका में नजर आए। वो भारतीय टीम के साथ बतौर फील्डिंग कोच तो जुड़े ही रहे, इसके अलावा आईपीएल में मुंबई इंडियंस के बल्लेबाजी कोच की भूमिका निभा चुके हैं।

आपको बता दें कि रॉबिन सिहं से पहले भारतीय टीम के खिलाड़ी ऋषि धवन के ऊपर भी लॉकडाउन का उल्लंघन करने के कारण 500 रुपये का जुर्माना लगा था। वो बिना व्हीकल पास के अपनी कार से ट्रेवल कर रहे थे।

Quick Links

Edited by मयंक मेहता
Be the first one to comment