Create

पूर्व दक्षिण अफ़्रीकी खिलाड़ी का बड़ा खुलासा, कहा मुझे भी टीम में नस्लभेद का सामना करना पड़ा

क्रिकेट को जेंटलमैन का खेल कहा जाता है लेकिन इस खेल भी समय-समय पर कई ऐसे खुलासे हुए हैं, जब खिलाड़ियों ने नस्लवाद और अपने रंग को लेकर टिप्पणियों के बारे में खुलासा किया है। इस कड़ी में अब एक और नाम जुड़ गया है और वो नाम है दक्षिण अफ्रीका के पूर्व स्पिनर पॉल एडम्स का। एडम्स ने खुलासा किया है कि उन्हें अपने क्रिकेट करियर में बतौर खिलाड़ी और कोच के रूप में कई बार अपने रंग को लेकर नस्लवादी टिप्पणियां सुननी पड़ी हैं। अपने असामान्य एक्शन के लिए मशहूर पूर्व लेफ्ट आर्म स्पिनर दक्षिण अफ्रीका XI में अपने रंग के इकलौते खिलाड़ी थे, जब उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 1995 में अपना टेस्ट डेब्यू किया था ।

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (CSA) के सामाजिक न्याय और राष्ट्र-निर्माण की सुनवाई में बोलते हुए, एडम्स ने यह सुनिश्चित करने के लिए अधिक शिक्षा की आवश्यकता पर प्रकाश डाला कि सभी जातियों के लोगों के साथ बिना किसी भेदभाव के व्यवहार किया जाए। स्पिनर ने खुलासा किया कि उनके साथियों ने अक्सर अपमानजनक शब्दों के साथ उनका मजाक उड़ाया।

एडम्स ने कहा कि जब मैं खेल रहा था तो मुझे ब्राउन स्किन कहा जाता था। यह अक्सर एक गाना हुआ करता था जब हम एक गेम जीतते थे और हम मीटिंग्स में होते थे। वे गाते थे, 'ब्राउन स्किन रिंग में, ट्रा ला ला ला ला', हालांकि उनकी पत्नी, जो उस समय उनकी प्रेमिका थीं, ने सबसे पहले उनसे पूछा कि उन्हें ऐसा क्यों कहा गया और कहा कि यह सही नहीं था।

जब आपको वह जीत मिली होती है, तो आप इसका कोई मतलब नहीं रखते हैं, आप इसे ब्रश करते हैं, लेकिन यह स्पष्ट रूप से नस्लवादी है। कुछ लोग बेहोश पूर्वाग्रह कहेंगे और वे जागरूक नहीं थे लेकिन यह है हम यहां क्यों हैं - इसे बदलने के लिए।"

पॉल एडम्स के अंतरराष्ट्रीय करियर पर एक नजर

अपने अजीबोगरीब एक्शन के लिए चर्चा पाने वाले बाएं हाथ के इस स्पिनर ने 1995 में इंग्लैंड के खिलाफ अपने टेस्ट करियर की शुरुआत की थी। इसके बाद अगले ही साल उन्हें वनडे डेब्यू का भी मौका मिला था। एडम्स ने दक्षिण अफ्रीका के लिए 45 टेस्ट में 134 विकेट तथा 24 वनडे मैचों में 29 विकेट हासिल किये। इस गेंदबाज ने 2008 में क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया था।

Quick Links

Edited by Naveen Sharma
Be the first one to comment