Create

"हर टेस्ट के बाद सीनियर खिलाड़ियों को लेकर आपके विचार नहीं बदल सकते", पुजारा और रहाणे को लेकर पूर्व खिलाड़ी की प्रतिक्रिया 

अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा ने एक बार फिर निराश किया
अजिंक्य रहाणे और चेतेश्वर पुजारा ने एक बार फिर निराश किया

पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने कहा है कि केपटाउन टेस्ट (IND vs SA) के तीसरे दिन चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) और अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) को उनके आउट होने के तरीके से आंकना अनुचित होगा। नेहरा के मुताबिक दोनों बल्लेबाज जिन गेंदों पर आउट हुए काफी शानदार थी और कोई भी बल्लेबाज आउट हो सकता था।

तीसरे दिन की दूसरी गेंद में चेतेश्वर पुजारा 9 रन के निजी स्कोर पर पवेलियन लौट गए। उन्हें कीगन पीटरसन ने एक बेहतरीन कैच पकड़ते हुए पवेलियन की राह दिखाई। वहीं अजिंक्या रहाणे 1 रन के निजी स्कोर पर कगिसो रबाडा की अतिरिक्त उछाल वाली गेंद पर विकेट के पीछे लपके गए।

दोनों खिलाड़ियों के एक बार फिर से सस्ते में आउट होने के बाद सोशल मीडिया पर उन्हें बाहर किये जाने की प्रतिक्रियाएं देखने को मिली। क्रिकबज पर आशीष नेहरा ने इस मुद्दे पर कहा,

आज जिस तरह पुजारा और रहाणे आउट हुए, उस तरह से कोई भी आउट हो सकता था, यहां तक कि विराट कोहली भी। इसलिए मैं आज के आउट होने पर ज्यादा ध्यान नहीं दूंगा। आप हर टेस्ट के बाद सीनियर खिलाड़ियों के बारे में अपने विचार नहीं बदल सकते।

नेहरा ने यह भी बताया कि भारत ने पिछले कुछ वर्षों में चुनौतीपूर्ण बल्लेबाजी पिचों पर टेस्ट मैच खेले हैं। इस बारे में उन्होंने विस्तार से कहा,

रहाणे ने (इस सीरीज में) अच्छा अर्धशतक बनाया है। मैं मानता हूं कि उन्हें लगातार और अधिक रन बनाने चाहिए थे। लेकिन पिछले दो वर्षों में भारत ने जिन पिचों पर खेला है, वे काफी कठिन रही हैं और दक्षिण अफ्रीका में भी हालात बल्लेबाजों के लिए आसान नहीं हैं।

क्या भारत के पास तैयार रिप्लेसमेंट हैं? - आशीष नेहरा

नेहरा ने कहा कि भारत को सबसे पहले इन दोनों अनुभवी बल्लेबाजों की रिप्लेसमेंट को खोजना होगा। उन्होंने कहा कि श्रेयस अय्यर और हनुमा विहारी जैसे खिलाड़ियों को भी थोड़ा अधिक समय देना होगा, क्योंकि उनके तुरंत सफल होने की कोई गारंटी नहीं है। उन्होंने कहा,

टीम मैनेजमेंट के लिए इसे सुलझाना कोई आसान पहेली नहीं है। पुजारा ने कुछ शानदार पारियां खेली हैं, रहाणे ने एमसीजी में शतक बनाया। इसलिए वे उस अतिरिक्त मौके के हकदार हैं। इसके अलावा, क्या भारत के पास तैयार रिप्लेसमेंट हैं? नहीं।
भारत को धीरे-धीरे योजना बनाने और बैकअप बनाने की आवश्यकता होगी। अगर श्रेयस अय्यर और हनुमा विहारी आते हैं, तो उन्हें भी लंबे समय तक मौका देने की आवश्यकता होगी। मैनेजमेंट को इसके लिए तैयार रहना होगा।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment