सचिन तेंदुलकर ने दक्षिण अफ्रीका में पुरानी गेंद के खिलाफ बल्लेबाजों के एप्रोच को लेकर दी प्रतिक्रिया 

सचिन तेंदुलकर ने कुछ अहम बातों का जिक्र किया है
सचिन तेंदुलकर ने कुछ अहम बातों का जिक्र किया है

दक्षिण अफ्रीका का दौरा (IND vs SA) किसी भी टीम के लिए मुश्किल होता है और कुछ ऐसी ही मुश्किलों का सामना भारतीय टीम (Indian Cricket Team) को भी 26 दिसंबर से शुरू होने वाली टेस्ट सीरीज में करना पड़ सकता है। हालांकि सीरीज शुरू होने से पहले भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने टीम इंडिया के खिलाड़ियों को बल्लेबाजी के लिए कुछ अहम टिप्स दिए हैं, जिसमें उन्होंने नई और पुरानी गेंद के सामने एप्रोच को लेकर बात की।

नई गेंद के सामने हमेशा ही बल्लेबाजी मुश्किल होती है क्योंकि यह स्विंग अधिक होती है। हालांकि जब आप कुछ समय इसका सामना सफलतापूर्वक कर लेते हैं तो फिर पुराना होने पर आपको थोड़ा आसानी होगी।

बैकस्टेज विद बोरिया में तेंदुलकर ने कहा कि जरूरी नहीं कि पुरानी गेंद को खेलना आसान हो और यह इस पर निर्भर करता है कि बल्लेबाज कितना अच्छा खेल रहा है।

गेंद के पुराने होने पर बल्लेबाजों के एप्रोच को लेकर सचिन ने कहा,

एप्रोच इस बात पर निर्भर करता है कि बल्लेबाज कितनी अच्छी बल्लेबाजी करता है। 25 ओवर के बाद, मैं यह नहीं कह रहा हूं कि खेलना आसान होगा, यह अभी भी कठिन होगा। लेकिन पहले से आसान होगा।

सचिन ने बल्लेबाजों को दक्षिण अफ्रीका में खेलने की सही तकनीक बताई

सचिन तेंदुलकर के मुताबिक दक्षिण अफ्रीका में सफल होने के लिए आपका फ्रंट फुट डिफेंस अच्छा होना जरूरी है और आपको शरीर के करीब से खेलना होगा।

तेंदुलकर ने उल्लेख किया कि रोहित शर्मा और केएल राहुल ने इंग्लैंड के दौरे के दौरान अपने फ्रंट फुट डिफेंस के साथ अच्छी तकनीक दिखाई थी और सफलता हासिल की थी। उन्होंने कहा,

मैंने हमेशा कहा है, फ्रंट फुट डिफेंस महत्वपूर्ण है। सामने की ओर, सामने के पैर की रक्षा महत्वपूर्ण है। वह फ्रंट फुट डिफेंस यहां गिना जाएगा। पहले 25 ओवर फ्रंट फुट डिफेंस महत्वपूर्ण होने वाला है।
और यही हमें इंग्लैंड में देखने को मिला, जब राहुल ने रन बनाए और रोहित ने भी ऐसा ही किया। उनका फ्रंट फुट डिफेंस मजबूत था।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar