WATCH: जब कप्तान कूल महेंद्र सिंह धोनी अपना आपा खो बैठे

Ankit
Enter caption
Enter caption

इंडियन प्रीमियर लीग का 25वां मैच गुरुवार को चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच खेला गया। मेहमान चेन्नई सुपरकिंग्स ने यह मैच 4 विकेट से अपने नाम किया। पारी की आखिरी गेंद पर मिचेल सेंटनर ने छक्का जड़कर अपनी टीम को यह मैच जितवाया। मैच के अंतिम ओवर में जो घटना देखने को मिली न तो इतिहास में देखने को मिली थी और शायद भविष्य में भी देखने को नहीं मिलेगी।

राजस्थान रॉयल्स के 151 रनों का पीछा करते हुए मैच आखिरी ओवर में रोमांच अपने चरम पर था। अंतिम तीन गेंदो पर चेन्नई सुपरकिंग्स को 8 रनों की दरकार थी। स्ट्राइक पर मिचेल सेंटनर थे जिन्होंने अभी अपना खाता नहीं खोला था जबकि दूसरे छोर पर रविन्द्र जडेजा थे। आखिरी ओवर फेंक रहे बेन स्टोक्स ने यॉर्कर के प्रयास में लगभग कमर की ऊंचाई जितनी फुलटॉस फेंक दी, जिस पर मुख्य अंपायर ने नो बॉल का इशारा किया,जबकि लेग अंपायर ने कोई प्रतिक्रिया न देकर गेंद को सही ठहराया। मुख्य अंपायर को अपना निर्णय बदलता देख चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान एमएस धोनी डगआउट से चलकर बीच मैदान में आ गए। उसके बाद गुस्से में धोनी को दोनों अंपायरों से बहस करते हुए देखा गया। विपक्षी गेंदबाज बेन स्टोक्स भी धोनी से बात करते हुए नजर आए जिसके बाद धोनी गुस्से में मैदान से बाहर चले गए।

आईपीएल के इस संस्करण में अंपायर द्वारा कई गलत निर्णय देखने को मिले हैं जिससे मैच के परिणाम में भी असर पड़ा है। ऐसे ही चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स के मैच में भी घटित हुआ। धोनी का गुस्सा जायज था क्योंकि साफतौर पर ऊँचाई की नो बॉल थी और शुरुआत में मुख्य अंपायर ने भी इसे नो बॉल दिया था। मगर धोनी के बीच मैदान में जाकर बहस करना सही नहीं कहा जा सकता। यह खेल के नियमों के खिलाफ भी है। धोनी के इस बर्ताव के कारण उन पर मैच फीस का 50% फाइन भी लगा है।

भारतीय कप्तान एमएस धोनी ने कई कठिन मैचो मे भी अपना धैर्य बरकरार रखा है। अपने इसी गुण के कारण उन्हें 'कैप्टन कूल' की संज्ञा भी दी जाती रही है। निश्चित ही उनका ऐसा व्यवहार उनके चाहने वालो के लिए भी अप्रत्याशित रहा होगा।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं

Quick Links

App download animated image Get the free App now