COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

आईपीएल 2019: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की लगातार हार के पीछे क्या है वजह ?

SENIOR ANALYST
फ़ीचर
957   //    08 Apr 2019, 15:09 IST

Enter caption

इंडियन प्रीमियर लीग के 12वें सीजन को दो हफ्ते बीत चुके हैं। इन दो हफ्तों में कई टीमों का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है तो कई टीमों ने निराश किया है। चेन्नई सुपर किंग्स, सनराइजर्स हैदराबाद और कोलकाता नाइट राइडर्स ने अभी तक जबरदस्त प्रदर्शन किया है। वहीं दिल्ली कैपिटल्स, मुंबई इंडियंस और किंग्स इलेवन पंजाब का प्रदर्शन मिला-जुला रहा है। दो टीमों राजस्थान रॉयल्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर का प्रदर्शन काफी खराब रहा है। राजस्थान ने एक मैच जीता भी है लेकिन आरसीबी का अभी तक खाता भी नहीं खुला है।

आरसीबी ने इस सीजन अभी तक कुल मिलाकर 6 मैच खेले हैं और सभी मैचों में उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। ये हार तब और ज्यादा चुभती है जब भारतीय टीम का एक सफल कप्तान इस टीम का कप्तान हो। विराट कोहली ने बल्ले से तो अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन उनकी टीम का प्रदर्शन काफी निराशाजनक रहा है। 2016 में आरसीबी की टीम फाइनल तक पहुंची थी और तब से लेकर अब तक आरसीबी ने कुल मिलाकर 35 मैच खेले हैं जिसमें से सिर्फ 9 में ही उसे जीत हासिल हुई है। यानि कह सकते हैं कि सिर्फ इस सीजन ही नहीं बल्कि पिछले 2 सीजन से लगातार टीम का खराब फॉर्म जारी है।


Enter caption

टीम की इस हार के पीछे क्या कारण हो सकते हैं, शायद आरसीबी की टीम मैनेजमेंट को भी अभी तक पता नहीं चल पाया है। वैसे देखा जाए तो हमेशा से ही बैंगलोर की सबसे बड़ी कमजोरी उसकी गेंदबाजी रही है और इस सीजन भी वही देखने को मिल रहा है। टीम में ऐसा कोई जबरदस्त तेज गेंदबाज नहीं है जो आखिर के ओवरों में सटीक यॉर्कर डाल सके या फिर अच्छी बाउंसर डाल सके। न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज टिम साउदी से टीम को काफी उम्मीदें थी लेकिन उन्होंने अभी तक निराश ही किया है। कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ मैच में एक ओवर में उन्होंने 29 रन खर्च कर डाले और दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ एक ओवर में 5 चौके खा गए। किंग्स इलेवन पंजाब से ट्रेड होकर आए मार्कस स्टोइनिस भी प्रभाव डालने में नाकाम रहे हैं। नाथन कुल्टर नाइट एक बढ़िया गेंदबाज हैं लेकिन वो उपलब्ध नहीं हैं।

भारतीय तेज गेंदबाजों की अगर बात की जाए तो मोहम्मद सिराज ने काफी खराब प्रदर्शन किया है। केकेआर के खिलाफ मैच में उन्होंने 2 बीमर मारे और इसी वजह से अंपायर ने उन्हें गेंदबाजी करने से भी रोक दिया। उमेश यादव भी उतने अच्छे लय में नहीं दिखे। हालांकि युवा तेज गेंदबाज नवदीप सैनी ने जरूर शानदार प्रदर्शन किया है लेकिन दूसरे छोर से उन्हें किसी का साथ नहीं मिल रहा है। युजवेंद्र चहल का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा है और अब तक वो 7 विकेट चटका चुके हैं लेकिन सिर्फ 1 गेंदबाज के सहारे आप मैच नहीं जीत सकते हैं।


Enter caption

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की फील्डिंग भी इस सीजन काफी खराब रही है। टीम अंकतालिका में भले ही सबसे निचले पायदान पर हो लेकिन कैच छोड़ने के मामले में टॉप पर है। अब तक कुल 33 अटेम्प्ट आरसीबी के फील्डरों ने किए हैं, जिसमें से 19 कैच पकड़े हैं और 14 ड्रॉप किए हैं। हैरानी की बात ये है कि विराट कोहली जैसे फील्डर से भी कई बार कैच छूट चुके हैं। इसके पीछे एक नकारात्मक मानसकिता भी हो सकती है जो लगातार हार की वजह से दिमाग में पैदा हो जाती है।


Enter caption

बल्लेबाजी की अगर बात करें तो विराट कोहली, एबी डीविलियर्स और पार्थिव पटेल को छोड़कर कोई भी बल्लेबाज नहीं चला है। वेस्टइंडीज के शिमरोन हिटमायर को काफी महंगी बोली लगाकर खरीदा गया था लेकिन उनका बल्ला बिल्कुल खामोश रहा है। यही हाल युवा अनकैप्ड खिलाड़ी शिवम दूबे का भी रहा है जिनके लिए आरसीबी ने काफी ऊंची बोली लगाई थी। सिर्फ 2 मैचों को छोड़कर एबी डीविलियर्स भी उस फॉर्म में नहीं दिखे हैं। कुल मिलाकर कह सकते हैं कि टीम की बल्लेबाजी भी उतनी अच्छी नहीं रही है। सारा दबाव सिर्फ कप्तान कोहली और डीविलियर्स पर ही है।

Advertisement

टीम मैनेजमेंट ने अपने खिलाड़ियों को ठीक तरह से रोटेट भी नहीं किया है। पवन नेगी को पहले 4 मैचों में मौका ही नहीं मिला। इसके अलावा वॉशिंगटन सुंदर भी अभी तक बाहर बैठे हैं। मोहम्मद सिराज की जगह अनुभवी उमेश यादव को ड्रॉप कर दिया गया और ये फैसला पूरी तरह से गलत साबित हुआ। टीम मैनेजमेंट पर यहां और ज्यादा सवाल उठाना लाजिमी है, क्योंकि पिछले 2 सीजन से टीम का प्रदर्शन खराब रहा है तो नीलामी में ऐसे खिलाड़ियों को क्यों नहीं खरीदा गया पूरे सीजन उपलब्ध रहें और एक भरोसा दें। यहां एक रोचक बात ये भी है कि आरसीबी ने इस दौरान कई खिलाड़ियों को रिलीज भी किया है। जिनमें क्रिस गेल, के एल राहुल, मयंक अग्रवाल, सरफराज खान और ब्रेंडन मैक्कलम जैसे खिलाड़ी हैं और ये सभी खिलाड़ी इस वक्त आईपीएल में बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे हैं।

बहरहाल अभी टीम के 8 मैच बाकी हैं और अगर वो ये सभी मैच जीत लेती है तो प्लेऑफ के लिए क्वालीफाई कर जाएगी। हालांकि ये काम आसान नहीं है लेकिन जिस टीम के पास विराट कोहली जैसा कप्तान हो उसके लिए कुछ असंभव भी नहीं है। बस जरूरत है एकजुट होकर शानदार प्रदर्शन करने की।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं

Tags:
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...