भारतीय टीम में अलग-अलग फॉर्मेट के लिए अलग कप्तान होने को लेकर इरफान पठान ने दी बड़ी प्रतिक्रिया

साउथ अफ्रीका टूर के लिए अलग-अलग कप्तान बनाए गए हैं
साउथ अफ्रीका टूर के लिए अलग-अलग कप्तान बनाए गए हैं

टीम इंडिया के पूर्व ऑलराउंडर खिलाड़ी इरफान पठान (Irfan Pathan) का मानना है कि भारत में अलग-अलग फॉर्मेट के लिए अलग कप्तान नहीं होना चाहिए। इरफान पठान के मुताबिक अगर ऐसी चीजें हमारे कल्चर में ना हों तो फिर यही टीम के लिए सही रहेगा।

दरअसल साउथ अफ्रीका टूर के लिए तीनों ही फॉर्मेट में अलग-अलग कप्तान नियुक्त किए गए हैं। टेस्ट टीम की कप्तानी रोहित शर्मा करेंगे। वनडे टीम का कप्तान केएल राहुल को बनाया गया है और टी20 की कप्तानी सूर्यकुमार यादव को सौंपी गई है।

कप्तान सिर्फ एक ही होना चाहिए - इरफान पठान

इरफान पठान के मुताबिक अलग-अलग कप्तान होना सही नहीं है। उन्होंने स्टार स्पोर्ट्स पर बातचीत के दौरान कहा,

हो सकता है कि ये एक संकेत हो कि फ्यूचर में ऐसा ही होगा और मैं इसका फैन नहीं हूं। काफी लंबे समय से ये चर्चा हो रही थी कि क्या हम अलग फॉर्मेट के लिए अलग कप्तान बना सकते हैं। ये सच है कि यहां पर वर्कलोड मैनेजमेंट पर ध्यान दिया गया है और इसी वजह से इतनी बड़ी टीम का ऐलान हुआ है और तीन अलग-अलग कप्तान बनाए गए हैं। ये स्पष्ट है कि रोहित शर्मा को सफेद गेंद की क्रिकेट से ब्रेक लेना था और इसी वजह से आप उनको टीम में नहीं देख रहे हैं। वो टेस्ट मैचों में ही कप्तानी करते हुए नजर आएंगे। हो सकता है कि आगे चलकर अलग-अलग फॉर्मेट के लिए अलग-अलग कोच की भी नियुक्ति की जाए। हालांकि मुझे लगता है कि अगर ऐसी चीजें हमारे कल्चर में ना हों तो ही अच्छा है।
अगर हम अपनी टीम को देखें तो सारे ही खिलाड़ी हर एक फॉर्मेट में खेल सकते हैं। चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे को छोड़कर हर एक खिलाड़ी हर एक फॉर्मेट में खेल सकता है। इसलिए अगर कोच और कप्तान एक ही रहें तो फिर ज्यादा अच्छा होगा।

Quick Links

Edited by सावन गुप्ता