Create
Notifications
Advertisement

Cricket News - गौतम गंभीर और वसीम अकरम का मेरे ऊपर काफी बड़ा प्रभाव था: कुलदीप यादव

  • कुलदीप यादव ने बताया कि कैसे इन दोनों दिग्गजों ने उनका आत्मविश्वास बढ़ाया
  • कुलदीप यादव आईपीएल में केकेआर की टीम का अहम हिस्सा हैं
SENIOR ANALYST
न्यूज़
Modified 26 Apr 2020, 09:49 IST

गौतम गंभीर और कुलदीप यादव
गौतम गंभीर और कुलदीप यादव

भारतीय स्पिनर कुलदीप यादव ने कोलकाता नाइट राइडर्स में अपने शुरुआती दिनों को याद किया है। उन्होंने कहा है कि उन पर गौतम गंभीर और वसीम अकरम का बहुत बड़ा प्रभाव था। कुलदीप ने कहा कि गंभीर ने टीम में उनकी जगह सनुश्चित की, जिससे उनका आत्मविश्वास काफी बढ़ गया। इसके अलावा वसीम अकरम ने मानसिक तौर पर मुझे मजबूत बनाया।

केकेआर की अधिकारिक वेबसाइट से बातचीत में कुलदीप यादव ने कहा कि गौतम गंभीर उनसे लगातार बातचीत करते रहे। यहां तक कि केकेआर से रिलीज किए जाने के बाद भी वो मुझसे लगातार संपर्क में रहे। कुलदीप ने कहा कि केकेआर के साथ मेरे अनुबंध की शुरुआत के साथ ही गौती भाई का मेरे ऊपर काफी बड़ा प्रभाव था। वो हमेशा मुझसे काफी बात करते थे। ना केवल वो जब तक केकेआर में थे तब तक, बल्कि पिछले दो सालों में भी जब वो केकेआर की टीम का हिस्सा नहीं थे।

कुलदीप ने कहा कि उन्होंने हमेशा मुझे मोटिवेट किया। 2014 के चैंपियंस टी20 लीग से पहले उन्होंने भरोसा दिलाया कि तुम हर मैच खेलोगे, बस इसी तरह से अपनी तरफ से पूरी कोशिश जारी रखो। कुलदीप ने कहा कि जब कप्तान से आपको इस तरह का विश्वास मिलता है तो ये किसी भी खिलाड़ी के लिए काफी बड़ा प्लस प्वाइंट हो जाता है। इससे आपका आत्मविश्वास काफी बढ़ जाता है और उसका असर आपके खेल में भी देखने को मिलता है।

वहीं वसीम अकरम के बारे में भी कुलदीप यादव ने बड़ी बात कही। उन्होंने कहा कि वसीम सर मुझे काफी पसंद करते थे। उन्होंने मुझसे गेंदबाजी के बारे में तो ज्यादा बात नहीं की लेकिन मानसिक तौर पर काफी तैयार किया। अलग-अलग हालात का सामना कैसे किया जाए और जब बल्लेबाज आपको दबाव में डाल दे तो उससे कैसे निपटा जाए, ये वसीम सर ने मुझे बताया।

ये भी पढ़ें: ताइपे टी10 लीग में पहले दिन खेले गए सभी मैचों का राउंड अप

कुलदीप यादव ने कहा कि जब वसीम सर केकेआर के साथ थे तो मैं उनके साथ ही बैठा करता था और उनसे सीखने की कोशिश करता था। मैं डगआउट में बैठकर उनसे अलग-अलग हालातों के बारे में जिक्र करता और उस बारे में पूछता। मैं उनसे यही पूछता था कि अगर वो इस परिस्थिति में होते तो क्या करते और फिर मेरा टेस्ट लेने के लिए वो मुझसे पूछते थे कि तुम होते तो क्या करते।

आपको बता दें कि कुलदीप यादव को 2012 में मुंबई इंडियंस ने खरीदा था लेकिन 2014 में केकेआर ने उन्हें अपनी टीम में शामिल किया। यहीं से कुलदीप ने आईपीएल में नाम कमाना शुरु कर दिया और फिर अपना अंतर्राष्ट्रीय डेब्यू किया।


Published 26 Apr 2020, 09:49 IST
Advertisement
Fetching more content...
Get the free App now
❤️ Favorites Edit