Create
Notifications

मयंक अग्रवाल ने वानखेड़े के ऑनर्स बोर्ड पर अपना नाम दर्ज होने को लेकर दी बड़ी प्रतिक्रिया

मयंक अग्रवाल ऑनर्स बोर्ड के साथ (Photo Credit - BCCI)
मयंक अग्रवाल ऑनर्स बोर्ड के साथ (Photo Credit - BCCI)
सावन गुप्ता

भारतीय टीम (Indian Cricket Team) के सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) ने न्यूजीलैंड के खिलाफ मुंबई में खेले गए दूसरे टेस्ट मुकाबले में 150 रनों की जबरदस्त पारी खेली। इसके बाद उनका नाम वानखेड़े स्टेडियम के ऑनर्स बोर्ड पर दर्ज किया गया और इसको लेकर मयंक अग्रवाल ने बड़ी प्रतिक्रिया दी है।

मयंक अग्रवाल ऑनर्स बोर्ड पर अपना नाम दर्ज किए जाने से काफी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं। उन्होंने ट्वीट करके कहा,

ये केवल बोर्ड पर एक नाम नहीं है, बल्कि मेरी कड़ी मेहनत का नतीजा है। टेस्ट क्रिकेट खेलते हुए मैच जिताना हर किसी का सपना होता है और मेरे लिए ये सबकुछ है। इतने सारे दिग्गजों के साथ मेरा नाम लिखा जाना मेरे लिए काफी सम्मान की बात है।
This isn’t just a name on a board. This is all the hardwork culminating into something that goes beyond. Playing Test cricket and contributing to a win for your country is everything for someone who grew up worshipping the game. It’s an honour to be named alongside so many greats https://t.co/Z8rzIfr0X3

मयंक अग्रवाल ने 150 रनों की जबरदस्त पारी खेली

न्‍यूजीलैंड के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज से पहले मयंक अग्रवाल की जगह पर खतरा मंडरा रहा था। हालांकि उन्होंने वानखेड़े स्‍टेडियम में दमदार वापसी करते हुए पहली पारी में 150 और दूसरी पारी में 62 रन बनाए। मयंक अग्रवाल को उनकी शानदार पारी के लिए दूसरे टेस्‍ट में मैन ऑफ द मैच चुना गया। भारत ने दूसरे टेस्‍ट में न्‍यूजीलैंड को 372 रन के विशाल अंतर से मात दी।

बीसीसीआई ने सोमवार को अपने आधिकारिक अकाउंट पर कुछ फोटो शेयर किए, जिसमें मयंक अग्रवाल ने वानखेड़े स्‍टेडियम के सम्‍मानित बोर्ड के सामने खड़े होकर फोटो खिंचाए। सम्‍मानित बोर्ड पर उनका नाम लिखा हुआ था। मैच के बाद मयंक अग्रवाल ने कहा,

फिर से रन बनाकर अच्छा लगा। यह मेरे लिए खास है। कानपुर की तुलना मैंने मुंबई में कुछ भी अलग करने की कोशिश नहीं की। मैंने बस मानसिक अनुशासन और दृढ़ संकल्प के साथ बैटिंग की। तकनीक हर समय बेस्ट नहीं रहेगी और मैं रनों की गारंटी नहीं दे सकता, लेकिन डटे रहने की इच्छा बेहद महत्वपूर्ण है। राहुल द्रविड़ (हेड कोच) भाई ने मुझसे सीरीज के बीच में तकनीक के बारे में ज्यादा नहीं सोचने की सलाह दी थी।

Edited by सावन गुप्ता

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...