Create
Notifications

एमएस धोनी की 3 ऐसी पारियां जिन्हें फैंस कभी नहीं भूल सकते

महेंद्र सिंह धोनी
महेंद्र सिंह धोनी
EXPERT COLUMNIST
Modified 07 Jul 2020
विशेष

महेंद्र सिंह धोनी ने दिसंबर 2004 में अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर की शुरुआत की थी, लेकिन वो इसे यादगार नहीं बना पाए थे और 0 पर आउट हो गए थे। हालांकि किसने सोचा था कि पहले मैच में 0 पर आउट होने वाले इस खिलाड़ी गिनती विश्व के सबसे बड़े खिलाड़ियों में होगी। हालांकि धोनी ने अपनी मेहनत और कामयाबी से इसे मुमकिन बनाया।

धोनी ने 2007 में भारतीय टीम का कप्तान बनने के बाद टीम को वर्ल्ड टी20, वर्ल्ड कप और चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब तो जिताया ही, बल्कि साथ में अपनी फिनिशिंग स्किल्स से टीम को बहुत से मैचों में जीत दिलाई। धोनी को हमेशा ही उनकी बेहतरीन कप्तानी और विकेटकीपिंग के लिए तो जाना जाता रहा है।

यह भी पढ़ें: महेंद्र सिंह धोनी के जन्मदिन पर क्रिकेट जगत की प्रतिक्रियाएं

हालांकि बतौर बल्लेबाज उनके आंकड़े और भी ज्यादा शानदार रहा। धोनी ने वनडे में 50.58 की औसत से 10773 रन बनाए, तो टेस्ट में 38.09 की औसत से 4876 रन बनाए। इस बीच अपने करियर में उन्होंने 16 शतक भी लगाए हैं।

इस आर्टिकल में एमएस धोनी द्वारा खेली गई ऐसी पारियों के ऊपर नजर डालेंगे जिन्हें फैंस कभी नहीं भूल पाएंगे:

#) 2013 ट्राई सीरीज फाइनल vs श्रीलंका (52 गेंदों में 45* रन)

महेंद्र सिंह धोनी ने छक्का लगाकर भारत को दिलाई यादगार जीत
महेंद्र सिंह धोनी ने छक्का लगाकर भारत को दिलाई यादगार जीत

वेस्टइंडीज में 2013 में ट्राई सीरीज खेली गई थी, जिसका फाइनल मैच त्रिनिदाद में 11 जुलाई को भारत और श्रीलंका के बीच खेला गया था। श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए कुमार संगाकारा की अर्धशतकीय पारी की बदौलत 48.5 ओवरों में 201 रन बनाए और भारत को 202 रनों का लक्ष्य मिला।

लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत का स्कोर 139-4 था, जब धोनी बल्लेबाजी करने आए थे, लेकिन 47वें ओवर तक भारतीय टीम का स्कोर 182-9 हो गया था और भारत के लिए जीत काफी मुश्किल नजर आ रही थी। आखिरी ओवर में भारत को 15 रनों की दरकार थी और स्ट्राइक पर महेंद्र सिंह धोनी थे।

महेंद्र सिंह धोनी पहली गेंद पर कोई रन नहीं बना पाए और पूरा दबाव धोनी के ऊपर था। हालांकि धोनी ने अपनी शानदार फिनिशिंग स्किल्स दिखाते हुए दूसरी गेंद पर छक्का, तीसरी गेंद पर चौका और चौथी गेंद पर छक्का लगाते हुए भारत को एक विकेट से रोमांचक जीत दिलाई थी।

भारत ने दो गेंद श्रेष रहते हुए इस फाइनल को जीत लिया था। महेंद्र सिंह धोनी को 52 गेंदों में 5 चौके और 2 छक्कों की मदद से 45 रन बनाने के लिए प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया था।

यह भी पढ़ें: 5 खिलाड़ी जिनके साथ महेंद्र सिंह धोनी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेले हैं, उनके नाम आप नहीं जानते होंगे

1 / 3 NEXT
Published 07 Jul 2020
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now