Create
Notifications

अपने करियर को लम्बा करने के लिए टेस्ट फॉर्मेट में वापसी नहीं करेगा प्रमुख बांग्लादेशी गेंदबाज, दिया बड़ा बयान

मुस्ताफ़िज़ुर रहमान ने सीमित ओवरों की क्रिकेट खेलने की बात कही है
मुस्ताफ़िज़ुर रहमान ने सीमित ओवरों की क्रिकेट खेलने की बात कही है
reaction-emoji
Prashant Kumar

बांग्लादेश के तेज गेंदबाज मुस्ताफ़िज़ुर रहमान (Mustafizur Rahman) ने एक बार फिर से स्पष्ट कर दिया है कि वह टेस्ट फॉर्मेट में वापसी नहीं करेंगे। तेज गेंदबाज ने अपना करियर लम्बा करने के लिए खुद के हिसाब से फॉर्मेट को चुनने की बात कही है।

2015 में अपने देश के लिए टेस्ट डेब्यू करने वाले मुस्ताफ़िज़ुर ने अभी तक महज 14 मैच ही खेले हैं और उन्होंने बांग्लादेश के लिए अपना आखिरी टेस्ट पिछले साल फरवरी में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था।

क्रिकबज की रिपोर्ट्स के मुताबिक बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड तेज गेंदबाज से उनकी टेस्ट फॉर्मेट में वापसी के लिए बात करने का मन बना रहा है क्योंकि बोर्ड अब भी उन्हें इस फॉर्मेट में खिलाना चाहता है। बीसीबी ने इससे पहले 2021 के टेस्ट कॉन्ट्रैक्ट में मुस्ताफ़िज़ुर रहमान को शामिल किया था लेकिन उन्हें बायो-बबल का हवाला देते हुए अपना नाम कॉन्ट्रैक्ट से वापस ले लिया था।

बांग्लादेश के इस तेज गेंदबाज ने कहा कि वह टेस्ट क्रिकेट के बारे में अपने भविष्य पर बीसीबी के साथ योजनाओं का खुलासा करेंगे, हालांकि वह अब भी लाल गेंद की क्रिकेट नहीं खेलने की बात पर कायम हैं।

मैं अपनी स्थिति के बारे में बोर्ड से बात करूँगा - मुस्ताफ़िज़ुर रहमान

Bengali daily Azker Potrika ने मुस्ताफ़िज़ुर के हवाले से कहा,

मैं बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड को टेस्ट क्रिकेट खेलने के बारे में अपनी स्थिति स्पष्ट कर दूंगा यदि वे इसके बारे में जानना चाहते हैं। मैं देख रहा हूं कि मेरे सीनियर्स ने बीसीबी अध्यक्ष (कुछ प्रारूपों में खेलने और नहीं खेलने के संबंध में) के साथ बात की और मैं भी बोर्ड अध्यक्ष से बात करूंगा... हालांकि वह पूरी स्थिति से अच्छी तरह वाकिफ हैं। बीसीबी ने मुझे इस संबंध में (टेस्ट क्रिकेट खेलने के लिए) कभी मजबूर नहीं किया और मेरे पास लाल गेंद का कॉन्ट्रैक्ट नहीं है।

तेज गेंदबाज ने अपनी बात जारी रखते हुए कहा,

मेरे लिए स्वस्थ रहना महत्वपूर्ण है। अगर मैं लंबे समय तक बांग्लादेश टीम को सेवा देना चाहता हूं, तो फिट रहना महत्वपूर्ण है और फिट रहने के लिए मुझे लगता है कि तीन प्रारूपों में से किसी एक को चुनना सबसे अच्छा तरीका है। मैंने अपनी सफलता को ध्यान में रखते हुए अपना प्रारूप चुना और रिकॉर्ड के अनुसार टी20 और वनडे में मेरी सफलता (टेस्ट क्रिकेट की तुलना में) अधिक है और यही कारण है कि मैं इन दो प्रारूपों पर ध्यान केंद्रित कर रहा हूं। दुनिया में कई क्रिकेटर अपने करियर को लंबा करने के लिए फॉर्मेट का चुनाव कर रहे हैं। एक खास खिलाड़ी के आधार पर एक टीम नहीं बनाई जा सकती है।

मुस्ताफ़िज़ुर रहमान ने कहा कि बांग्लादेश नए खिलाड़ियों को ज़िम्बाब्वे और आयरलैंड जैसे टीमों के खिलाफ मौका दे सकता है क्योंकि अगर नए खिलाड़ियों को मौका नहीं दिया गया तो वह कैसे विकसित होंगे।


Edited by Prashant Kumar
reaction-emoji

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...