Create
Notifications

गुजरात टाइटंस के खिलाफ लखनऊ सुपर जायंट्स की पूर्व खिलाड़ी ने बताई सबसे बड़ी गलती 

गुजरात टाइटंस के खिलाफ मुकाबले के दौरान गेंदबाजी करते लेग स्पिनर रवि बिश्नोई
गुजरात टाइटंस के खिलाफ मुकाबले के दौरान गेंदबाजी करते लेग स्पिनर रवि बिश्नोई
reaction-emoji
Prashant Kumar
visit

पूर्व भारतीय खिलाड़ी आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने गुजरात टाइटंस (GT) के खिलाफ 28 मार्च को हुए मुक़ाबलके में लखनऊ सुपर जायंट्स (LSG) की रणनीति पर सवाल उठाये और उन्हें सीएसके के खिलाफ इसमें बदलाव करने का सुझाव दिया है। उनके मुताबिक लखनऊ को गुजरात के खिलाफ आखिरी में स्पिनर को एक अतिरिक्त ओवर देने की जरूरत नहीं थी और ऐसा करके फ्रेंचाइजी ने बड़ी गलती की।

LGS को अपने पहले मैच में 5 विकेट से हार का सामना करना पड़ा था। 159 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए गुजरात को आखिरी 30 गेंदों में 68 रन चाहिए। पारी का 16वां ओवर डालने आये पार्ट टाइम स्पिनर दीपक हूडा ने 22 रन खर्च किये और इसके बाद अगले ओवर में लेग स्पिनर रवि बिश्नोई ने भी 17 रन दिए। इसके बाद से ही मैच का रूख बदल गया और अंत में लखनऊ को हार मिली।

अपने यूट्यूब चैनल पर गुजरात टाइटंस के खिलाफ लखनऊ की गलतियों की समीक्षा करते हुए आकाश चोपड़ा ने कहा,

पिछले गेम में सबसे बड़ी गलती एक साधारण गलती थी। मैं हूडा के ओवर की बात नहीं कर रहा हूं। उसे एक अतिरिक्त ओवर मिला, मैं समझ सकता हूं क्योंकि उसने एक विकेट लिया था। मुद्दा अंत में रवि बिश्नोई को ओवर देने का था। अंतिम चार ओवरों में जाने के बाद, उनके पास (दुश्मंथा ) चमीरा के दो और अवेश खान के दो बचे थे। स्पिनर को गेंदबाजी कराने की जरूरत नहीं थी। चमीरा अपना आखिरी ओवर नहीं कर सके, यहीं पर वे मैच हार गए। इन चीजों का सही होना जरूरी है।

आकाश चोपड़ा ने लखनऊ सुपर जायंट्स की गेंदबाजी को लेकर भी प्रतिक्रिया दी

लखनऊ सुपर जायंट्स के गेंदबाजी विभाग को कमजोर बताते हुए पूर्व ओपनर ने कहा,

मुझे लगता है कि लखनऊ को गेंदबाजी के साथ दिक्कत है। उनके पास अवेश खान, दुश्मंथा चमीरा, रवि बिश्नोई हैं। लेकिन उसके बाद वे सोच रहे हैं कि बचे हुए ओवरों में कौन गेंदबाजी कर सकता है। उनके पास क्रुणाल पांड्या हैं, लेकिन वे कुछ और विकल्पों को भी जोड़ना चाह रहे हैं, जो करना आसान नहीं है।

चोपड़ा के मुताबिक केएल राहुल और रविंद्र जडेजा दोनों पर मुकाबले के दौरान सभी की नजरें होंगी। हालांकि, उनके मुताबिक केएल राहुल के लिए ज्यादा मुश्किलें हैं। उन्होंने कहा,

LSG के लिए कप्तानी 50-50 रही है, लेकिन चेन्नई के साथ भी ऐसा ही हो सकता है क्योंकि (रविंद्र) जडेजा भी एक नए कप्तान हैं। लेकिन जडेजा के पास धोनी हैं। राहुल को खुद ही पता लगाना होगा कि किसे कितने ओवर और कब गेंदबाजी करनी है।

Edited by Prashant Kumar
reaction-emoji
Article image

Go to article

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now