Create
Notifications

"वेंकटेश अय्यर ने गेंदबाजी क्‍यों नहीं की? यह करोड़ों का सवाल है", पूर्व भारतीय क्रिकेटर का बयान

वेंकटेश अय्यर को पहले वनडे में गेंदबाजी करने का मौका नहीं मिला
वेंकटेश अय्यर को पहले वनडे में गेंदबाजी करने का मौका नहीं मिला
Vivek Goel
visit

पूर्व भारतीय (India Cricket team) क्रिकेटर आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) इस बात से खफा हैं कि वेंकटेश अय्यर (Venkatesh Iyer) को ऑलराउंडर के रूप में खिलाने के बावजूद गेंदबाजी नहीं कराई।

वेंकटेश अय्यर ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पार्ल में खेले गए पहले वनडे में अपना डेब्‍यू किया। उन्‍हें एक भी ओवर गेंदबाजी करने को नहीं मिली जबकि शार्दुल ठाकुर ने 10 ओवर में 72 रन खर्च किए तो भुवनेश्‍वर कुमार ने 64 रन दिए।

अपने यूट्यूब चैनल पर सवाल-जवाब सत्र में चोपड़ा से पूछा गया कि पहले वनडे में अय्यर को गेंदबाजी नहीं कराने के भारत के फैसले के बारे में क्‍या कहेंगे।

इस पर चोपड़ा ने कहा, 'वेंकटेश अय्यर ने गेंदबाजी क्‍यों नहीं की, यह करोड़ों का सवाल है। रोहित और राहुल दोनों ही उन्‍हें ऑलराउंडर बताते हैं, लेकिन किसी ने गेंदबाजी नहीं कराई। रोहित शर्मा ने उन्‍हें न्‍यूजीलैंड के खिलाफ अनौपचारिक मैच में गेंदबाजी कराई थी और उन्‍होंने तब अच्‍छा प्रदर्शन किया था। राहुल ने पहले वनडे में उन्‍हें एक भी ओवर नहीं दिया।'

चोपड़ा ने यह भी सवाल किया कि अय्यर को छठे नंबर पर बल्‍लेबाजी क्‍यों कराई जब उन्‍हें गेंदबाजी नहीं करनी थी। उन्‍होंने कहा, 'अय्यर को छठे नंबर पर बल्‍लेबाजी के लिए भेजा, जो लगा कि उनके लिए बहुत बड़ी चीज है। अगर आप उन्‍हें छठे नंबर पर खिलाते हैं और गेंदबाजी नहीं कराते, तो बेहतर होगा कि उन्‍हें विशेषज्ञ बल्‍लेबाज के रूप में खिलाए। यह रणनीति समझ से बाहर है। ठाकुर ने 10 ओवर में 72 रन दिए। वहां बड़ी साझेदारी हुई तो भारत को उन्‍हें कुछ ओवर के लिए आजमाना चाहिए था।'

पहले गेंदबाजी करके भारत ने दक्षिण अफ्रीका का स्‍कोर 68/3 करके मेजबान टीम को मुश्किल में डाला था। हालांकि, टेंबा बावुमा और रासी वान डर डुसैन के शतकों ने मेहमान टीम के हौसले पस्‍त किए और दक्षिण अफ्रीका ने 50 ओवर में 4 विकेट पर 296 रन का विशाल स्‍कोर खड़ा किया।

लगता नहीं कि भारत ठाकुर को ड्रॉप करेगा: आकाश चोपड़ा

पहले वनडे में महंगे साबित होने वाले ठाकुर के बारे में कुछ आवाजें उठी कि उन्‍हें दूसरे मैच में प्‍लेइंग 11 से बाहर किया जाए। हालांकि, चोपड़ा की सलाह इसके खिलाफ है।

चोपड़ा ने कहा, 'लगता नहीं कि ठाकुर को दूसरे वनडे में बाहर किया जाएगा। उन्‍होंने भले ही 72 रन खर्च किए, लेकिन अर्धशतक भी जमाया। वो फाइटर है। मौजूदा टीम संयोजन को देखते हुए, जिसमें जडेजा और पांड्या की कमी है, आपको कोई ऐसा चाहिए जो बल्‍लेबाजी में गहराई दे। ठाकुर को अश्विन से पहले बल्‍लेबाजी करनी चाहिए। वनडे क्रिकेट में अश्विन ऑलराउंडर नहीं।'


Edited by Vivek Goel
Article image

Go to article

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now