Create

 वन डे मैचों में एडम गिलक्रिस्ट के साथ सबसे सफल गेंदबाजों की जोड़ी

Enter caption
Ankit

सबसे सफल विकेटकीपर बल्लेबाजों में शुमार पूर्व ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी एडम गिलक्रिस्ट ने अपना पर्दापण साल 1996 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टाइटन कप में किया था। फरीदाबाद में खेले गए इस मैच में उन्होंने 18 रन बनाए थे। अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में उनकी पहचान तब हुई, जब उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 77 रन की मैच जिताऊ पारी खेली। उनको गिली के नाम से भी जाना जाता है । गिली विकेट के पीछे काफी चुस्त और मुस्तैद रहा करते थे। उन्होंने वनडे मैचों में 417 कैच और 55 स्टंप भी अपने नाम किए। गिली ने अपने ज्यादातर मैच रिकी पोंटिंग की कप्तानी में खेले। अपने 287 मैचों की 279 पारियों में गिली ने 9619 रन बनाए, जिनमें उनका औसत 35.89 का रहा। इस बीच उन्होंने 55 अर्धशतक व 16 शतक भी अपने नाम किए।

विश्व कप में रहा है शानदार रिकॉर्ड

गिलक्रिस्ट ऑस्ट्रेलिया के लिए तीन विश्व कप में खेले हैं, और प्रत्येक बार टीम ने टूर्नामेंट जीता है। उन्होंने 31 विश्व कप मैचों में 36.16 की औसत से 1085 रन बनाए हैं। 98.01 की स्ट्राइक-रेट से यह रन गिली ने अपने नाम किये हैं। वर्ष1999 के विश्व कप फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ गिलक्रिस्ट ने 36 गेंदों में 54 रन बनाए। साल 2003 के वर्ल्ड कप फाइनल में भारत के खिलाफ उन्होंने 48 गेंदों में 57 रन की पारी खेली जबकि 2007 के फाइनल में श्रीलंका के खिलाफ 104 गेंदो पर ताबड़तोड़ 149 रन बनाये।

अब बात करते हैं उन ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजो की, जिन्होंने एडम गिलक्रिस्ट के साथ मिलकर सर्वाधिक विकेट अपने नाम किये हैं।

5# डेमियन डब्ल्यू फ्लेमिंग

फ्लेमिंग

डेमियन फ्लेमिंग ने अपना पर्दापण मैच, दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ वर्ष 1994 में खेला। उन्होंने लगभग 7 वर्ष अंतराष्ट्रीय वनडे मैच खेले।उन्होंने 88 मैचों में 134 विकेट अपने नाम किए, जिनमें उनका बेस्ट प्रदर्शन 36 रन देकर 5 विकेट था।

अपने करियर के 134 विकेटों में से 26 विकेट उन्होंने एडम गिलक्रिस्ट की मदद से लिए थे। मात्र 3 वर्ष (1998-2001) ही गिलक्रिस्ट और फ्लेमिंग दोनों निरंतर एक साथ अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में ऑस्ट्रेलिया की टीम का हिस्सा थे। वर्ष 2001 में फ्लेमिंग ने वनडे मैचों से संन्यास ले लिया।

4# जेसन गिलेस्पी

गिलेस्पी

जेसन गिलेस्पी ने अपना पर्दापण साल 1996 में श्रीलंका के खिलाफ किया था। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया की ओर से 97 वनडे मैच खेले और 142 विकेट अपने नाम किए। उनका बेस्ट प्रदर्शन 22 रन देकर पांच विकेट था।

उनके वनडे मैचों के कुल 142 विकेटों में से 32 विकेट ऐसे थे, जो कि एडम गिलक्रिस्ट की मदद से विकेट के पीछे कैच आउट हुए थे। साल 2005 में गिलेस्पी ने वनडे मैचों से संन्यास ले लिया था ।

3# शेन वार्न

Enter caption

क्रिकेट इतिहास के महानतम गेंदबाजों में शुमार शेन वार्न ने वनडे मैचों में अपना डेब्यू 1993 में न्यूजीलैंड के खिलाफ किया था। वे इतिहास के सबसे सफल लेग स्पिनर हैं।

उन्होंने 194 वनडे मैचों की 191 पारियों में 293 विकेट अपने नाम किये, जिसमें उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 33 रन देकर पांच विकेट रहा है । उनके कुल 293 विकेटों में से 33 विकेट ऐसे हैं, जिन्हें गिलक्रिस्ट की मदद से लिया गया है। इन विकेटों में 8 कैच और 25 स्टंप आउट किए गए हैं ।

2# ब्रेट ली

ब्रेट ली

दाएं हाथ के तेज गेंदबाज ब्रेट ली का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में करियर शानदार रहा है। वे अपनी गति के लिए जाने जाते थे। ब्रेट ली लगातार 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी कर सकते थे। उन्होंने अपना डेब्यू साल 2000 में पाकिस्तान के खिलाफ किया था। उन्होंने 221 वनडे मैच में 380 विकेट अपने नाम किए हैं। उनका गेंदबाजी में बेस्ट प्रदर्शन 22 रन देकर 5 विकेट है।

उनके 380 में से 58 विकेट में एडम गिलक्रिस्ट का सहयोग रहा है। ये 58 विकेट गिली ने विकेट के पीछे कैच किये हैं।

1# ग्लेन मैक्ग्रा

Enter caption

ग्लेन मैक्ग्रा क्रिकेट के इतिहास में सबसे सटीक लाइन और लेंथ वाले गेंदबाजों में से एक हैं। उन्होंने अपना वनडे डेब्यू साल 1993 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ किया था। उन्होंने 250 वनडे मैचों में 381 विकेट अपने नाम किये है। उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 15 रन देकर 7 विकेट रहा ।

2000 के दशक में ऑस्ट्रेलिया के स्कोरकार्ड में " कैच गिलक्रिस्ट बॉल मैक्ग्रा" एक आम बात हुआ करती थी।उनके 381 विकेटों में से 73 विकेट में एडम गिलक्रिस्ट का योगदान रहा है, जिसमें 72 कैच और एक स्टंप आउट है।

Edited by सावन गुप्ता

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...