Create

Hindi Cricket News - 4 टी20 लीग खेल सकेंगे पाकिस्तानी क्रिकेटर, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने दी जानकारी

पाकिस्तान क्रिकेट
पाकिस्तान क्रिकेट

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने अपने खिलाड़ियों के अंतर्राष्ट्रीय और विदेशी लीग में खेलने को लेकर नई नीति जारी की है। उन्होंने अब एक नो ऑबजेक्शन सर्टिफिकेट यानि एनओसी जारी किया है जिसके अनुसार सभी खिलाड़ी चार विदेशी लीग में भाग ले सकेंगे।

पीएसएल समेत खेल सकेंगे चार विदेशी लीग

पीसीबी ने एक प्रेस नोट जारी किया है जिसमें इस एनओसी के बारे में बताया है। इसकी खास बात यह है कि खिलाड़ी पाकिस्तानी सुपर लीग यानि पीएसएल सहित अधिकतम चार लीग में भाग ले सकेंगे। इस नीति के तहत एनओसी की रिक्वेस्ट अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट संचालन विभाग और नेशनल हेड कोच या टीम डिपार्टमेंट द्वारा आएगी जिसे खिलाड़ियों के कार्यभार को देखते हुए पास किया जाएगा। दुनियाभर की एनओसी के अनुसार अंतिम अनुमति देने वाला बोर्ड का चीफ एक्ज्यूकिटिव होगा।

ये भी पढ़ें: 3 टीमें जिन्होंने वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 2 लाख से ज्यादा रन बनाए हैं

घरेलू क्रिकेटरों के लिए एनओसी का ऐसा होगा नियम

पीसीबी का कहना है कि घरेलू खिलाड़ियों को जो कि क्रिकेट एसोसिएशन से अनुबंधित है, वो पहली बार एनओसी के एप्रूवल के लिए सीधे अपने एसोसिएशन से संपर्क करेंगे। घरेलू खिलाड़ी जो रेड बॉल वाली क्रिकेट नहीं खेलते लेकिन सफेद गेंद वाली क्रिकेट में नियमित होते हैं उनके लिए एनओसी पाने के लिए 50 ओवर और 20 ओवर का क्रिकेट खेलना अनिवार्य कर दिया है।

रिटायर्ड खिलाड़ियों को ऐसे मिलेगी अनुमति

पीसीबी ने कहा कि आईसीसी के नियमों के अनुसार वो खिलाड़ी जो अभी नहीं खेल रहे हैं या रिटायर हो गए हैं उन्हें आईसीसी द्वारा आयोजित इंवेंट्स के लिए पीसीबी ने एनओसी चाहिए होगा।हालांकि, पीसीबी उन खिलाड़ियों को एनओसी जारी करेगा, जो 24 महीने या उससे अधिक समय के लिए सेवानिवृत्त हुए हैं। अगर किसी को किसी खास कारण के कारण इससे पहले एनओसी दी जाती है तो पीसीबी को लिखित में देना होगा।

अतिरिक्ति कमाई और कौशल विकास के लिए लिया फैसला

पीसीबी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वसीम खान ने कहा कि नई नीति फ्लेक्सिबल और बैलेंस्ड है। उन्होंने कहा कि हमनें खिलाड़ियों के कार्यभार को ध्यान में रखा लेकिन यह भी जरूरी था कि वो अतिरिक्त कमाई और अपनी स्किल्स बढ़ाने के लिए विदेशी लीग भी खेलें।

Quick Links

Edited by निशांत द्रविड़
Be the first one to comment