IND vs ENG: हैदराबाद टेस्‍ट से बेहतर पिच नहीं हो सकती थी, भारत के पूर्व दिग्‍गज क्रिकेटर ने दिया बड़ा बयान

India  v England - 1st Test Match: Day Three
पार्थिव पटेल ने कहा कि चौथे दिन टेस्‍ट का बढ़ना पिच की खूबी को बयां करता है

भारतीय टीम (India Cricket Team) के पूर्व विकेटकीपर बल्‍लेबाज पार्थिव पटेल (Parthiv Patel) ने हैदराबाद की पिच की तारीफ की। ओली पोप (Ollie Pope) के शतक की मदद से इंग्‍लैंड (England Cricket Team) ने तीसरे दिन जोरदार वापसी की और भारत पर बढ़त हासिल करके मैच रोमांचक बना दिया।

पार्थिव पटेल ने जियो सिनेमा पर शो के दौरान कहा कि टेस्‍ट क्रिकेट के लिए हैदराबाद की पिच की परिस्थिति सर्वश्रेष्‍ठ में से एक है। पटेल ने बताया कि पिच में बैटर्स और बॉलर्स दोनों के लिए मदद मौजूद है। उन्‍होंने साथ ही कहा कि मैच चौथे दिन तक गया, जो कि अच्‍छी पिच का स्‍पष्‍ट संकेत है। इस तरह दर्शकों को जिस प्रकार का मनोरंजन चाहिए, वो मिलेगा।

पार्थिव पटेल ने कहा, 'मेरे ख्‍याल से इससे बेहतर पिच टेस्‍ट मैच के लिए हो नहीं सकती। आप यहां जसप्रीत बुमराह जैसी तेज गेंदबाजी कर सकते हैं। यहां स्पिनर्स के लिए भी मदद मौजूद है। आपके पास यहां बल्‍लेबाजी भी बेहतर करने का मौका है।'

पार्थिव पटेल का हैदराबाद की पिच को लेकर बयान तब आया, जब कई पूर्व इंग्लिश क्रिकेटर्स और पंडित आलोचना कर चुके हैं। केविन पीटरसन ने ऑन रिकॉर्ड हैदराबाद की पिच की आलोचना की थी। तब वो भारतीय गेंदबाजों के सामने इंग्लिश बल्‍लेबाजों को संघर्ष करते हुए देख रहे थे।

पटेल ने कहा, 'एक टेस्‍ट मैच का चौथे दिन जाना और दोनों टीमों के लिए मैच खुल जाने का साफ मतलब है कि पिच शानदार है। लोग यहां जिस चीज का इंतजार कर रहे थे, वो मनोरंजन उन्‍हें भरपूर मिला।'

बता दें कि इंग्‍लैंड और भारत के बीच रोमांचक मोड़ पर खड़ा है। ओली पोप (196) की मैराथन पारी की बदौलत इंग्‍लैंड की दूसरी पारी रविवार को 102.1 ओवर में 420 रन बनाकर ऑलआउट हुई। इस तरह इंग्‍लैंड ने भारत के सामने जीतने के लिए 231 रन का लक्ष्‍य रखा है।

याद दिला दें कि इंग्‍लैंड ने मैच में पहले बल्‍लेबाजी की और उसकी पारी 246 रन पर ऑलआउट हुई। जवाब में भारत की पहली पारी 436 रन पर ऑलआउट हुई। भारत ने मेहमान टीम पर पहली पारी के आधार पर 190 रन की बढ़त हासिल की थी। फिर इंग्‍लैंड ने तगड़ा पलटवार करके मुकाबला रोमांचक बना दिया।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar