"विराट कोहली ने जो छवि बनाई है वो काफी बड़ी है," बचपन के कोच का बयान

विराट कोहली किसी भी प्रारूप में कप्तान नहीं हैं
विराट कोहली किसी भी प्रारूप में कप्तान नहीं हैं

विराट कोहली (Virat Kohli) के बचपन के कोच राजकुमार शर्मा ने स्वीकार किया है कि भारतीय क्रिकेट में एक युग का अंत हो गया है। राजकुमार शर्मा ने यह प्रतिक्रिया विराट के किसी भी प्रारूप में कप्तान न होने पर दी। उनके मुताबिक भारतीय क्रिकेट को आगे ले जाने के लिए नए लीडरशिप ग्रुप का समय आ गया है।

भारतीय टेस्ट टीम की कप्तानी छोड़ने के बाद विराट का बतौर कप्तान कार्यकाल समाप्त हो गया। इससे पहले पिछले साल उन्होंने टी20 की कप्तानी खुद छोड़ी थी, वहीं वनडे की कप्तानी से उन्हें हटा दिया गया था।

खेलनीति पॉडकास्ट पर यह पूछे जाने पर कि क्या कोहली के कप्तान नहीं रहने से भारतीय क्रिकेट में एक युग समाप्त हो गया था, शर्मा ने कहा,

हर कप्तान का एक युग होता है और कोहली का युग समाप्त हो गया है। विराट कोहली द्वारा बनाई गई छवि बहुत बड़ी थी। उन्होंने बहुत मेहनत की और भारतीय क्रिकेट टीम की बहुत समर्पण और प्रतिबद्धता के साथ सेवा की। नया कप्तान नए विचारों के साथ आएगा। सौभाग्य से, हमारे पास एक नया कप्तान और कोच है। उम्मीद है, वे एक ही राह पर हों ताकि भारत एक नई रणनीति के साथ आगे आ सके।

मुझे लगता है कि विराट कोहली को टेस्ट कप्तान के रूप में जारी रखना चाहिए था - निखिल चोपड़ा

पूर्व भारतीय स्पिनर निखिल चोपड़ा के मुताबिक विराट को टेस्ट की कप्तानी नहीं छोड़नी चाहिए थी और उन्हें जारी रखना चाहिए था क्योंकि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) जीतने के लिए उनके पास एक और मौका हो सकता था। उन्होंने कहा,

मुझे लगता है कि विराट कोहली को टेस्ट कप्तान के रूप में जारी रखना चाहिए था। हम डब्ल्यूटीसी चक्र में हैं और कोहली के पास आईसीसी ट्रॉफी जीतने का मौका था। वास्तव में उसके छोड़ने के पीछे का कारण नहीं पता। 2011 से पहले, ऐसी चर्चा थी कि सचिन वर्ल्ड कप जीतना चाह रहे थे (और उन्होंने किया)। विराट कप्तान के रूप में 50 टेस्ट जीत सकते थे, लेकिन इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि वह टेस्ट चैंपियनशिप जीत सकते थे।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar