Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

विराट कोहली (Virat Kohli)


ABOUT
BATTING STATS

GAME TYPE M INN RUNS BF NO AVG SR 100s 50s HS 4s 6s CT ST
ODIs 239 230 11520 12359 39 60.31 93.21 43 54 183 1085 119 122 0
TESTs 77 131 6613 11549 8 53.76 57.26 25 20 243 731 19 72 0
T20s 70 65 2369 1744 17 49.35 135.84 0 21 90 231 55 34 0
BOWLING STATS

GAME TYPE M INN OVERS RUNS WKTS AVG ECO BEST 5Ws 10Ws
ODIs 239 48 106 665 4 166.25 6.22 15/1 0 0
TESTs 77 9 27 76 0 0 2.80 0 0 0
T20s 70 12 24 198 4 49.50 8.14 13/1 0 0
ABOUT

विराट कोहली की जीवनी


विराट कोहली का जन्म 5 नवंबर, 1988 को दिल्ली में हुआ था। दिल्ली की सड़कों पर खेलते हुए क्रिकेट की तरफ उनकी रूचि विकसित हुई। उनके पिता ने उन्हें क्रिकेट अकादमी में दाखिल करवाया जहां कोच राजकुमार शर्मा ने उन्हें प्रशिक्षित किया।


विराट ने पॉली उमरीगर और विजय मर्चेंट टूर्नामेंट में खेलने के बाद दिल्ली की प्रथम श्रेणी क्रिकेट टीम में जगह बनाई और बाद में उन्हें भारत की अंडर-19 टीम का हिस्सा बनने का मौका मिला। उन्होंने लालचंद राजपूत के कोच रहते हुए इंग्लैंड और पाकिस्तान का दौरा किया जहां उनकी बल्लेबाज़ी की खूब तारीफ हुई। कोहली हमेशा प्रत्येक टूर्नामेंट के दूसरे उच्चतम रन स्कोरर रहे।


प्रथम श्रेणी और जूनियर करियर


भारत की अंडर-19 टीम के लिए चुने जाने के सिर्फ चार महीने बाद, कोहली को रणजी ट्रॉफी में खेलने का अवसर मिला। अपने पिता की मृत्यु के अगले ही दिन 90 रनों की अविश्वसनीय पारी खेलकर कोहली ने क्रिकेट बिरादरी से बहुत सम्मान अर्जित किया। 2008 में खेले गए आईसीसी अंडर-19 विश्वकप में उन्होंने अपनी कप्तानी में भारतीय टीम को विश्व विजेता बनाया।


अंतराष्ट्रीय क्रिकेट का आगाज़


सीमित ओवरों में सलामी बल्लेबाज़ सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग की अनुपस्थिति के कारण उन्हें राष्ट्रीय टीम में खेलने का मौका मिला। कोहली ने 18 अगस्त 2008 को भारतीय टीम की ओर से अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना पदार्पण किया। अपने करियर के शुरुआती दौर उन्हें काफी उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ा।


लेकिन खराब फॉर्म के बावजूद, उन्हें अपनी बेजोड़ तकनीक की वजह से टीम में कायम रखा गया। साल 2011 में वह बल्लेबाज़ों की वनडे रैंकिंग में दूसरे नंबर पर पहुंच गए थे।

इसी साल उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में भी पर्दापण किया।जब सचिन तेंदुलकर ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लिया, तो विराट कोहली उनके उत्तराधिकारी के तौर पर ख्याति प्राप्त कर चुके थे।


कप्तानी


2014 में एमएस धोनी के टेस्ट कप्तान का पद छोड़ने के बाद विराट कोहली को इस प्रारूप में भारत का कप्तान बनाया गया। उन्होंने अपनी कप्तानी की शुरुआत ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ की थी। इसके बाद 2017 में उन्हें वनडे और टी-20 प्रारूपों में भी भारतीय टीम की कमान सौंपी गई।


अभी तक विराट कोहली भारत के सबसे सफल कप्तानों में से एक रहे हैं। उनकी कप्तानी में भारत का टेस्ट क्रिकेट में जीत प्रतिशत 62.5 और वनडे में 78.57 रहा है। एशिया के बाहर, उनका सबसे सफल प्रदर्शन 2017 चैंपियंस ट्रॉफी में रहा, जब उन्होंने अपनी कप्तानी में भारत को इस टूर्नामेंट के फाइनल में पहुँचाया था।


इसके अलावा उनकी कप्तानी में ही भारतीय टीम टेस्ट और एकदिवसीय रैंकिंग में नंबर 1 बनी, आपको बता दें ऐसा करने वाले वह एकमात्र भारतीय कप्तान हैं।


विराट कोहली के आँकड़ों पर एक नज़र


विराट कोहली हर लिहाज़ से वर्तमान समय में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ हैं। वनडे में शतकों के मामले में वह सचिन के बाद दूसरे स्थान पर हैं। सचिन के 49 वनडे शतकों की तुलना में, विराट ने अभी तक 38 शतक बनाए हैं। अपने एक दशक लंबे क्रिकेट करियर में कोहली ने 216 वनडे मैचों में 10232 रन बनाए हैं।


वहीं 73 टेस्ट मैचों में विराट ने 6331 रन बनाए हैं जिनमें 24 शतक शामिल हैं। साल 2016 और 2017 में उन्होंने अपने टेस्ट करियर के सभी (6) दोहरे शतक लगाए थे।


Fetching more content...