Create

"शुरुआत में जब विराट कोहली कप्तान बने थे तो उन्हें बहुत गुस्सा आता था", कोच का बड़ा खुलासा

विराट कोहली ने लम्बे समय तक भारत की कमान संभाली
विराट कोहली ने लम्बे समय तक भारत की कमान संभाली

विराट कोहली (Virat Kohli) के बचपन के कोच राजकुमार शर्मा ने खुलासा किया है कि स्टार बल्लेबाज कप्तान के रूप में अपने शुरुआती दिनों में बेहद गुस्सा आता था और बहुत प्रतिक्रिया करता था। शर्मा ने उनके साथ बातचीत और पूर्व भारतीय कप्तान को समझाते हुए याद किया कि वह टीम के हर खिलाड़ी से अपने जैसे स्तर की उम्मीद नहीं कर सकते।

दक्षिण अफ्रीका दौरे से पहले विराट कोहली को वनडे की कप्तानी से हटाकर रोहित शर्मा को सफ़ेद गेंद का नया कप्तान नियुक्त किया गया था। हालांकि रोहित के चोटिल होकर बाहर होने के बाद केएल राहुल वनडे टीम की कमान संभाल रहे हैं।

वनडे सीरीज से पहले वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में, राहुल ने कोहली की कप्तानी को सराहा और कहा कि विराट के पास दूसरों से सर्वश्रेष्ठ लेने की क्षमता थी।

राहुल द्वारा पूर्व कप्तान की प्रशंसा पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए शर्मा ने खेलनीति पॉडकास्ट पर कहा कि कोहली ने खुद के गुस्से पर नियंत्रण रखा और इसी वजह से वह एक प्रेरणादायी कप्तान बने। उन्होंने कहा,

शुरुआत में जब विराट कोहली कप्तान बने थे, तो उन्हें बहुत गुस्सा आता था। अगर कोई कैच छोड़ता था तो वह रिएक्ट करता था। मैंने उसे समझाया कि हर कोई उसकी तरह नहीं है। क्रिकेट के मैदान पर कोई भी कैच छोड़ना या खराब खेलना नहीं चाहता। आपको उनमें से सर्वश्रेष्ठ प्राप्त करना होगा और दूसरों से खुद के जैसे उम्मीद नहीं करनी चाहिए। विराट ने इसे स्वीकार किया और खुद पर नियंत्रण किया। उन्होंने खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करना शुरू किया और इस टीम के निर्माण में उनकी प्रमुख भूमिका रही है।

विराट ने केपटाउन में भारतीय टीम की सीरीज हार के बाद कप्तानी छोड़ दी थी और अब जल्द ही हमें टेस्ट में नया कप्तान देखने को मिल सकता है।

विराट कोहली में ईगो नहीं है - राजकुमार शर्मा

हाल ही में कपिल देव समेत कई जानकारों ने कहा कि शायद विराट कोहली नए कप्तान केएल राहुल की कप्तानी में खेलते हुए सहज महसूस न करें। राजकुमार शर्मा ने इस तरह की किसी भी चीज से इंकार किया। उन्होंने कहा,

“कोहली के पास कोई ईगो नहीं है। अगर ऐसा होता तो वह कप्तानी नहीं छोड़ते। उन्होंने रोहित शर्मा और केएल राहुल दोनों का समर्थन किया है। वास्तव में, कई बार उन्होंने रोहित को खिलाने के लिए सीनियर्स को छोड़ दिया क्योंकि उन्होंने रोहित को उच्च स्तरीय माना था। रोहित ने खुद को विश्वस्तरीय बल्लेबाज साबित किया है। केएल को लेकर भी विराट के पास अच्छी ही बाते हैं।

शर्मा ने कहा कि राहुल निश्चित रूप से समर्थन और सुझावों के लिए कोहली पर भरोसा कर सकते हैं। उन्होंने अपनी बात को समाप्त करते हुए कहा,

कोहली खुद योगदान देना चाहेंगे। मुझे नहीं लगता कि राहुल पर किसी तरह का दबाव होगा। वह (कोहली) दूसरे कप्तान के नेतृत्व में खेलने को तैयार हैं। अतीत में, तेंदुलकर, द्रविड़ और धोनी ने भी ऐसा किया है। केएल को कोहली का समर्थन मिलेगा, ठीक वैसे ही जैसे कोहली को धोनी से मिला था।

Quick Links

Edited by Prashant Kumar
Be the first one to comment